मैच (13)
आईपीएल (2)
T20I Tri-Series (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
USA vs BAN (1)
ख़बरें

घरेलू खिलाड़ियों को बीसीसीआई ने दिया क्रिसमस का तोहफ़ा

कोरोना के कारण रद्द हुए सत्र की मैच फ़ीस खिलाड़ियों में बांटी गई

Sarfaraz Khan nails a sweep, Himachal Pradesh v Mumbai, Ranji Trophy 2019-20, Dharamsala, 1st day, January 27, 2020

कोरोना की वजह से भारतीय घरेलू क्रिकेट हुआ था प्र‍भावित  •  Shailesh Bhatnagar

इसे अगर घरेलू खिलाड़ियों के लिए क्रिसमस का तोहफ़ा कहा जाए तो यह ग़लत नहीं होगा। बीसीसीआई ने अपने घरेलू क्रिकेट के सैकड़ों पुरुष और महिला खिलाड़ियों को कोरोना के कारण नहीं हुए 2020-21 सत्र की मैच फ़ीस का भुगतान कर दिया है।
ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो को पता चला है कि उन खिलाड़ियों जिनके क्रिकेट संघों ने विधिवत भरे हुए चालान भेजे हैं, उन्हें उनकी नियमित कमाई का 50 प्रतिशत मुआवज़ा दिया गया है।
रणजी ट्रॉफ़ी पिछले साल 85 वर्ष के इतिहास में पहली बार रद्द हुई थी। वहीं दूसरी लहर में महिलाओं का टी20 टूर्नामेंट नहीं हो पाया था। भुगतान मोहम्मद अज़हरुद्दीन के नेतृत्व वाले पैनल द्वारा तैयार किए गए फ़ॉर्मूले के अनुरूप हैं, जिसे कोरोना प्रभावित सत्र के लिए मुआवज़ा तैयार करने का काम सौंपा गया था।
उदाहरण के तौर पर, अगर कोई खिलाड़ी 2019-20 सत्र में आठ मैच खेला है तो उसे 11 लाख 20 हज़ार रुपये (35,000 रुपये प्रति मैच दिन) मिलेंगे। 2020-21 सत्र के लिए खिलाड़ियों को पांच लाख 10 हज़ार रुपये मिले। गणना के आधार पर प्रत्येक खिलाड़ी को प्रति मैच दिन 35,000 रुपये मिलते हैं। जिन खिलाड़ियों ने कुछ मैचों में एकादश में जगह नहीं बनाई, उन्हें आनुपातिक आधार पर मुआवज़ा दिया गया।
भुगतान का होना 13 जनवरी से 17 मार्च तक सात स्थानों पर नए रणजी ट्रॉफ़ी सीज़न की शुरुआत के साथ मेल खाता है। यहां तक ​​​​कि कुछ खिलाड़ियों के बीच ओमिक्रॉन से कोविड मामलों में वृद्धि के कारण कार्यक्रम में और बदलाव को लेकर भ्रम की स्थिति है।
पिछले सप्ताह, बीसीसीआई को विजय मर्चंट ट्रॉफ़ी के लिए अंडर-16 टूर्नामेंट को रद्द करने के लिए मजबूर होना पड़ा। बीसीसीआई सचिव जय शाह के अनुसार, "प्रतिभागियों को अभी भी टीका नहीं लगाया गया है और ऐसे में इस टूर्नामेंट को आयोजित करना सही नहीं है।" दरअसल, अब तक 18 वर्ष से कम आयु के लोग अभी भी देश में वैक्सीन लेने के योग्य नहीं थे।
भुगतान के बारे में, बोर्ड ने इस साल की शुरुआत में घरेलू खिलाड़ियों के लिए मैच फ़ीस में उल्लेखनीय वृद्धि की घोषणा की थी। 2021-22 के बाद लागू होने वाले नए वेतन स्लैब में वरिष्ठ पुरुषों की आय 40,000 रुपये से लेकर 60,000 रुपये प्रति दिन के बीच होगी, जबकि वरिष्ठ महिलाओं की आय प्रति दिन 20,000 रुपये तक होगी।
यह बढ़ोतरी पहली श्रेणी (20 से कम मैच खेलने वाले) के खिलाड़ियों के लिए एक छोटी सी है, लेकिन अधिक अनुभवी खिलाड़ियों (40 से अधिक मैच खेलने वालों) के लिए लगभग 100 प्रतिशत है। जबकि 21 से 40 मैच खेलने वालों को 50,000 रुपये मिलेंगे। इससे पहले, वरिष्ठ पुरुष क्रिकेटरों को प्रथम श्रेणी और वनडे मैचों के लिए प्रति दिन 35,000 रुपये और टी20 के लिए प्रति मैच 17,500 रुपये मिलते थे।
सीनियर महिला खिलाड़ियों को, जिन्हें पहले 12,500 प्रति वनडे मैच और 6250 प्रति टी20 मैच मिलते थे, अब अंतिम एकादश में जगह बनाने पर 20,000 रुपये प्रति मैच और बेंच पर बैठने पर 10,000 रुपये प्रति मैच मिलेंगे। भारत में महिला खिलाड़ियों का कोई प्र​थम श्रेणी टूर्नामेंट नहीं होता है।
जहां खेल जगत ने बढ़ोतरी का स्वागत किया है, वहीं मैचों में उल्लेखनीय कमी पर असंतोष भी है। उदाहरण के लिए, 2019-20 में, प्रत्येक टीम ने रणजी ट्रॉफ़ी में आठ ग्रुप मैच और उसके बाद तीन नॉकआउट मैच खेले (यदि उन्होंने फ़ाइनल में जगह बनाई)। इस बार, टीमें सिर्फ़ पांच ग्रुप मैच खेलेंगी, जो वेतन में शुद्ध वृद्धि को काफ़ी कम करता है।
देश भर के खिलाड़ी मौजूदा सत्र के समापन पर इस मुद्दे के हल होने की उम्मीद कर रहे हैं, जब बीसीसीआई अपने वार्षिक सम्मेलन में कप्तान और कोच से मिलता है।

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।