मैच (19)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
CAN T20 (2)
फ़ीचर्स

आख़िर क्यों मौजूदा भारतीय पेस आक्रमण है बेहद ख़तरनाक ?

स्टीव हार्मिसन और वीवीएस लक्ष्मण की नज़र में भारतीय पेस बैट्री है सर्वश्रेष्ठ

भारतीय क्रिकेट टीम इस इंग्लिश दौरे पर अपनी पुरानी 3-2 की रणनीति को पीछे छोड़ते हुए 4-1 की रणनीति के साथ लगातार दो टेस्ट मैच में खेलती हुई नज़र आई है। और दोनों ही टेस्ट में ये रणनीति क़ामयाब भी रही है, ट्रेंट ब्रिज टेस्ट जहां बारिश की वजह से ड्रॉ रहा तो भारतीय तेज़ गेंदबाज़ों के दम पर लॉर्ड्स में टीम इंडिया के सिर पर जीत का सेहरा बंधा।
हमारे कार्यक्रम मैच-डे के इंग्लिश संस्करण पर मौजूद पूर्व इंग्लिश तेज़ गेंदबाज़ स्टीव हार्मिसन और पूर्व भारतीय बल्लेबाज़ वीवीएस लक्ष्मण ने भी इस पेस आक्रमण की तारीफ़ों के क़सीदे गढ़े।
स्टीव हार्मिसन ने इस पेस आक्रमण की सबसे बड़ी ख़ासियत उनकी विविधता को दी और कहा कि इस वजह से ही भारत ने अपनी गेंदबाज़ी रणनीति 3-2 से 4-1 कर दी है।
भारत के सभी तेज़ गेंदबाज़ अपने में ही अलग हैं और यही इस पेस अटैक को बेहतरीन बनाता है। इस टीम में लंबे क़द के इशांत शर्मा हैं जिनकी ख़ासियत है इनस्विंग गेंदबाज़ी। उनकी सीम पोजिशन सीधी रहती है और बीच-बीच में वह कलाईयों के सहारे गेंद को बाहर भी निकाल देते हैं। दूसरी ओर मोहम्मद शमी एक इंग्लिश गेंदबाज़ की तरह लगते हैं जिनका शरीर भारी भरकम है और कुछ कुछ मेरी तरह और मैथ्यू होगार्ड जैसा लगता है। उनकी विशेषता है कि वह एक ही जगह से गेंद को बाहर और अंदर दोनों तरफ़ सीम करा सकते हैं। यही ख़ासियत उन्हें बेहतरीन गेंदबाज़ बनाती है। विपक्षी टीम के लिए मुश्किल तब होती है जब एक छोर से इशांत गेंद को अंदर लाते रहते हैं और दूसरे छोर से शमी गेंद को बाहर निकालते हैं।
स्टीव हार्मिसन, पूर्व इंग्लिश तेज़ गेंदबाज़
हार्मिसन ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि इन दोनों सीम गेंदबाज़ों के अलावा बुमराह एक ऐसे गेंदबाज़ हैं जो अपनी गेंदबाज़ी से किसी भी पिच पर बल्लेबाज़ों का इम्तेहान ले सकते हैं।
"जसप्रीत बुमराह इन दोनों से बिल्कुल उलट पिच पर ज़ोर से पटकने वाले गेंदबाज़ हैं, और इससे गेंदबाज़ी में विविधता मिलती है। इसलिए एक बल्लेबाज़ के तौर पर उनकी गेंदों को छोड़ने का फ़ैसला आसान नहीं होता क्योंकि कौन सी गेंद नीचे रहेगी और विकेट पर जा लगेगी आप अनुमान नहीं लगा पाते। साथ ही साथ उनके पास बेहतरीन बाउंसर भी है, इसलिए अगर पिच में दोहरा उछाल है तो फिर बुमराह का सामना करना बेहद मुश्किल हो जाता है। जबकि चौथे गेंदबाज़ मोहम्मद सिराज में ग़ज़ब की क्षमता है, वह हमेशा गेंद को ऊपर रखते हैं जिससे उनकी गेंदों में सीम ज़्यादा देखने को मिलता है। साथ ही साथ वह बड़े जिगर वाले गेंदबाज़ भी हैं और बल्लेबाज़ को स्लेज करने से भी परहेज़ नहीं करते। स्लेजिंग की वजह से कई बार बल्लेबाज़ की एकाग्रता भंग हो जाती है।"
वीवीएस लक्ष्मण ने भी इस भारतीय आक्रमण की तारीफ़ की और कहा कि सबसे बड़ी ख़ासियत ये है कि इस आक्रमण में कोई भी ऐसा बोलर नहीं है जो विपक्षी टीम का प्रेशर रिलीज़ कर दे।
सबसे अहम ये है कि इस भारतीय पेस आक्रमण में कोई भी रिलीज़ बोलर नहीं है, सभी के सभी तेज़ गेंदबाज़ हमेशा आक्रमण करना चाहते हैं। इशांत को जहां उनकी लंबाई का फ़ायदा मिलता है तो शमी कलाईयों का शानदार इस्तेमाल करते हैं। जबकि बुमराह मेरी नज़र में सर्वश्रेष्ठ है, वह जब लय में हों तो विकेट झटकना उनके लिए आसान हो जाता है। और अब सिराज का शामिल होना लाजवाब है। वह ठीक वैसे ही हैं जैसे शुरुआत में इशांत शर्मा थे, उनमें ऊर्जा की कमी नहीं है, एक छोर से वह लगातार लंबे स्पेल में गेंदबाज़ी कर सकते हैं। हालांकि इन चारों के अलावा उमेश यादव भी शानदार तेज़ गेंदबाज़ हैं, जो ख़ुद को इस समय थोड़ा बदक़िस्मत महसूस कर रहे होंगे।
वीवीएस लक्ष्मण, पूर्व भारतीय बल्लेबाज़
इंग्लैंड के ख़िलाफ़ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज़ में फ़िलहाल भारत 1-0 से आगे है, तीसरा टेस्ट 25 अगस्त से लीड्स में प्रस्तावित है। जिस अंदाज़ में भारतीय टीम को 4-1 की रणनीति से क़ामयाबी मिल रही है, उसे देखते हुए बाहर बैठे ऑफ़ स्पिनर आर अश्विन का इंतज़ार और भी लंबा हो सकता है।

सैयद हुसैन ESPNCricinfo हिंदी में मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट हैं।@imsyedhussain