मैच (12)
WPL (2)
PSL 2024 (2)
BAN v SL (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
Sheffield Shield (3)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
ख़बरें

दलीप ट्रॉफ़ी : रहाणे 'शून्य' से शुरुआत करने को तैयार

पूर्व भारतीय टेस्ट कप्तान हैमस्ट्रिंग चोट के बाद पहला मैच खेलेंगे

दलीप ट्रॉफ़ी में अजिंक्य रहाणे पश्चिम क्षेत्र की कप्तानी करेंगे  •  BCCI

दलीप ट्रॉफ़ी में अजिंक्य रहाणे पश्चिम क्षेत्र की कप्तानी करेंगे  •  BCCI

आईपीएल 2022 के दौरान लगी हैमस्ट्रिंग की चोट से अजिंक्य रहाणे अब पूरी तरह से स्वस्थ्य हैं और भारत के घरेलू सीज़न के पहले टूर्नामेंट, एक बार फिर से ज़ोन के आधार पर खेली जा रही दलीप ट्रॉफ़ी, खेलने के लिए उत्साहित हैं। चोट ने रहाणे को आईपीएल के कुछ अंश और मुंबई के लिए रणजी ट्रॉफ़ी के नॉकऑउट मैचों से बाहर रखा था लेकिन अब वह पश्चिम क्षेत्र की कप्तानी करने के लिए तैयार हैं।
चेन्नई में अपने पहले दलीप ट्रॉफ़ी मैच से पहले रहाणे ने कहा, "चोट से उपचार ठीक रहा है। मैं दो महीने के लिए राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) में था और वहां के स्टाफ़ और बीसीसीआई ने मेरा अच्छा ध्यान रखा। मैं पूरी तरह फ़िट हूं और उस चोट के बाद यह मेरा पहला मैच होगा। यह [2020 के बाद पहली बार एक संपूर्ण घरेलू सीज़न] एक बेहद ज़रूरी चीज़ है। मैं शून्य से शुरू करना चाहता हूं। मुझे ना तो बीते कल के बारे में सोचना है और ना ही आने वाले कल की चिंता करनी है। मैं वर्तमान में ख़ुश हूं और तभी शून्य से शुरू करने की बात कर रहा हूं। मैदान पर उतरते ही आपके रोंगटे खड़े हो जाते हैं और मुझे यह अनुभव अच्छा लगता है। रोंगटों का खड़ा होना मतलब भले ही घरेलू मैच हो या अंतर्राष्ट्रीय, आप कुछ कर गुज़ारना चाहते हैं। यह भावना मुझमें अभी भी है और मैं इसे दलीप ट्रॉफ़ी में घरेलू सीज़न की शुरुआत के साथ दिखाना चाहता हूं।"
रहाणे ने इस साल जनवरी में केप टाउन टेस्ट के बाद भारत के लिए अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेला है लेकिन वह इस मौक़े पर भारतीय टीम में लौटने पर कुछ टिप्पणी नहीं करना चाह रहे थे। रहाणे बोले, "भविष्य में क्या हो सकता है यह तो आगे ही पता चलेगा लेकिन फ़िलहाल मैं इस पल में ही रहना चाहता हूं और भविष्य की नहीं सोच रहा। मुझे चोट से पूरी तरह उबरने में दो महीने लगे और मैंने कड़े आहार और कार्यक्रम का पालन किया लेकिन [एनसीए] स्टाफ़ बहुत मददगार साबित हुए। मैं बस पूरे सीज़न फ़िट रहते हुए ढेर सारे रन बनाना चाहता हूं। यह [चेपॉक के मैदान पर] मात्र मेरे लिए दूसरा ही अभ्यास सत्र था। मुंबई में मैंने इंडोर बल्लेबाज़ी का अभ्यास किया। मैं अनुभव का मूल्य समझता हूं लेकिन यह भी ज़रूरी है कि आप वर्तमान में रहते हुए विरोधी टीम और परिस्थितियों को उचित सम्मान दें।"
उत्तर पूर्व क्षेत्र के लिए 'खोने को कुछ भी नहीं'
दलीप ट्रॉफ़ी में पहली बार हिस्सा ले रही उत्तर पूर्व क्षेत्र टीम के कप्तान होकाइतो झिमोमी ख़ासे उत्साहित हैं कि उनके खिलाड़ियों को रहाणे, पृथ्वी शॉ और चेतन साकरिया जैसे अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेल चुके खिलाड़ियों के संग भिड़ने का मौक़ा मिलेगा।
होकाइतो ने कहा, "हम इस टूर्नामेंट में एक बड़ी सकारात्मक मानसिकता लेकर आ रहे हैं। हमारे लिए यहां खोने को कुछ नहीं है और पाने के लिए बहुत कुछ। सबसे शक्तिशाली टीम के विरुद्ध खेलने से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलेगा और उम्मीद है हम अच्छा खेल दिखाएंगे।"
अपनी टीम से सबसे प्रभावशाली खिलाड़ियों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने नागालैंड टीम के साथी ख़्रिवित्सो केंसे और मणिपुर के रेक्स सिंह का नाम लिया। केंसे 18 वर्षीय रिस्ट स्पिनर हैं जिनके 2020-21 के सैयद मुश्ताक़ अली टी20 ट्रॉफ़ी में प्रभावशाली खेल के चलते उन्हें मुंबई इंडियंस और राजस्थान रॉयल्स में ट्रायल्स का अवसर मिला था। रेक्स 2018 में तब सुर्ख़ियों में आए थे जब उन्होंने अंडर-19 स्तर की कूच बिहार ट्रॉफ़ी में पारी में 10 विकेट अपने नाम किए थे।
होकाइतो ने आगे कहा, "उत्तर पूर्व के कई राज्यों में खिलाड़ी अच्छा कर रहे हैं। सिक्किम के आशीष थापा अच्छे प्लेयर हैं। [सिक्किम से ही] अंकुर मलिक ने भी प्रभावित किया है। नागालैंड के ख़िवित्सो, मेघालय के दीपू [संगमा] और रेक्स...केंसे को हमने नागालैंड में अंडर-16 से तराशा है। वह अपने खेल पर निरंतर काम कर रहे हैं और अभी उनके [भविष्य के] बारे में कहना कठिन है लेकिन उनका क्रिकेट में विकास ज़रूर हो रहा है।"
होकाइतो ने आगे कहा, "नागालैंड में क्रिकेट का स्तर बढ़ रहा है। पहले सोच यही रहती थी कि आप पढ़ाई करिए और फिर सरकारी नौकरी ढूंढ लीजिए। लेकिन अब पेशेवर क्रिकेट में पैसा आते देख सोच बदल रही है। पहले हमें अभ्यास सत्रों में बच्चों को जा-जाकर बुलाना पड़ता था। अब स्पर्धा काफ़ी बढ़ गई है क्योंकि माता-पिता भी अपने बच्चों को क्रिकेट में धकेल रहे हैं। लोगों को लग रहा है कि क्रिकेट में भी भविष्य है। ऐसी उम्मीद है कि आने वाले समय में उत्तर-पूर्व के खिलाड़ी भारतीय टीम का दरवाज़ा खटखटाते नज़र आएंगे।"

देवरायण मुथु ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo के असिस्टेंट एडिटर और स्थानीय भाषा प्रमुख देबायन सेन ने किया है।