मैच (15)
T20 वर्ल्ड कप (5)
IND v SA [W] (1)
T20 Blast (6)
CE Cup (3)
ख़बरें

हमारे लिए दुनिया समाप्त नहीं हुई है : रोहित

लगातार छठी हार के बावजूद वापसी के लिए तैयार हैं मुंबई के कप्तान

लगातार हार के बावजूद मुंबई इंडियंस के ड्रेसिंग रूम में पैनिक बटन न दबाने की बात कही गई। मोटिवेशनल स्पीच देने के लिए टीम में सचिन तेंदुलकर शामिल हुए। बल्लेबाज़ी क्रम में फेरबदल किए गए। विभिन्न गेंदबाज़ी संयोजनों को आज़माया गया। पहली बार सिर्फ दो विदेशी खिलाड़ी अंतिम एकादश में खेले। मुंबई ने सब कुछ करने की कोशिश की, लेकिन इसके बावजूद वह इस आईपीएल में सबसे ख़राब प्रदर्शन करने वाली टीम रही है।
रविवार को लखनऊ सुपर जायंट्स के खिलाफ लगातार छठी हार ने पांच बार की चैंपियन को प्ले-ऑफ़ की दौड़ से लगभग बाहर कर दिया है। इसके बाद मुंबई इंडियंस को अब किसी गणीतिय चमत्कार पर निर्भऱ रहना पड़ेगा।
लेकिन मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा का मानना है कि चीजें इतनी विकट नहीं हैं और उनकी टीम अभी भी वापसी कर सकती है। मैच के बाद रोहित ने स्टार स्पोर्ट्स से बात करते हुए कहा "यह दुनिया का अंत नहीं है। हम पहले भी वापस आ चुके हैं। हम कोशिश करेंगे और फिर से वापस आएंगे। हालांकि इस सीज़न का लगभग आथा चरण अब बीतने की कगार पर पहुंच चुका है और रोहित ख़ुद एक बल्लेबाज़ के तौर पर अब तक विफ़ल रहे हैं।
छह मैचों में रोहित ने 19 की औसत और 129 की स्ट्राइक रेट से 114 रन बनाए हैं। पावरप्ले में उनकी स्ट्राइक रेट 132.05 है। उन्होंने एक पारी में 40 और दो पारियों में 25 से अधिक का स्कोर बनाया है। आज भी वह जल्दी आउट हो गए।
यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें लगा कि उनकी असफलताएं बार-बार हो रही हैं? रोहित ने कहा, "अगर मैं इसे जानता हूं, तो शायद मैं इसमें सुधार करूंगा। ईमानदारी से, मैं खुद को इस तरह से तैयार करने की कोशिश कर रहा हूं कि मैं हर खेल के लिए तैयार हो जाऊं। वहां कुछ भी अलग नहीं है। मैं पूरी ज़िम्मेदारी अपने ऊपर लेता हूं। ईमानदारी से कहूं तो मैं एक व्यक्ति के रूप में और एक खिलाड़ी के रूप में भी ज़िम्मेदारी को समझता हूं जो कि छह मैचों में करने में विफ़ल रहा है। लेकिन, फिर से, मैं वहां जाने और अपने खेल का आनंद लेने के लिए खुद का समर्थन करता हूं और वही कर रहा हूं जो मैं इतने सालों से करता आ रहा हूं। आगे देखते रहना महत्वपूर्ण है।"
सिर्फ रोहित ही नहीं, यहां तक कि उनके सलामी जोड़ीदार इशान किशन ने भी मुंबई के लिए कुछ खास प्रभाव नहीं छोड़ पाए हैं। 2022 की नीलामी में सबसे महंगी खरीद होने का अनकहा दबाव हर बार बोला जाएगा, लेकिन विपक्षी गेंदबाज़ी आक्रमणों ने किशन को चतुराई से गेंदबाज़ी की है। बाएं हाथ का यह बल्लेबाज आमतौर पर मिड ऑन और बैक स्क्वायर के बीच में रन बनाना पसंद करता है, लेकिन गेंदबाज़ों ने वाइड ऑफ स्टंप लाइनों से चिपके हुए उसे भूखा रखा है। रविवार को उन्होंने एक धीमी गेंद को पढ़ने की कोशिश की। उन्होंने उस गेंद को लेग साइड की तरफ फ्लिक करने की कोशिश की लेकिन वह नाकाम हो गए।
जबकि सूर्यकुमार यादव उनके सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज रहे हैं, उन्हें बल्लेबाज़ी करने के लिए चौथा स्थान दिया गया है। जहां उन्हें ज़्यादातर कठिनाई का सामना करना पड़ा है। जबकि तिलक वर्मा और डेवाल्ड ब्रेविस की युवा जोड़ी ने संयम और साहस दिखाया है। रोहित ने बताया कि मुंबई में शीर्ष क्रम का बल्लेबाज़ पारी में गहराई से नहीं खेल रहा है।
रोहित ने लखनऊ के कप्तान केएल राहुल का उदाहरण दिया, जिनके शतक ने उनकी टीम की पारी को एक बड़े स्कोर तक पहुंचाया। "केएल ने शानदार बल्लेबाज़ी की, अंत तक बल्लेबाजी की। और वह कुछ ऐसा है जो हमारी बल्लेबाज़ी में गायब है: हम चाहते हैं कि हमारे शीर्ष चार में से एक यथासंभव लंबे समय तक बल्लेबाज़ी करे जो नहीं हो रहा है।"
छोटी बाउंड्री वाले मैदान पर जहां 200 का लक्ष्य हासिल किया जा सकता था, वहां रोहित ने महसूस किया कि एक बड़ी साझेदारी करने में विफलता मुंबई के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित हुई। हालांकि मुंबई के बल्लेबाज़ों ने सात मर्तबा 50 से अधिक साझेदारियां की है। जो कि इस सीजन में अब तक की सबसे अधिक साझेदारी है। मुंबई के लिए सबसे बड़ी चुनौती विपक्षी बल्लेबाजी में शुरुआती सेंध लगाने में नाकामी रही है।राहुल ने क्विंटन डी कॉक के साथ लखनऊ को पावरप्ले में 57 रन बनाने में मदद की। इस दौरान मुंबई ने छह गेंदबाज़ों का इस्तेमाल किया, जो कि टीम के लिए एक अभूतपूर्व कदम था। पिछले दो मैचों में बेहतरीन स्पेल करने वाले जसप्रीत बुमराह को छोड़कर, मुंबई के बाकी गेंदबाज़ों ने दबाव से निपटने के लिए संघर्ष किया है। मुंबई की गेंदबाज़ी की योजना भी सवालों के घेरे में है।
आज जयदेव उनादकट ने पहला ओवर फेंका। सुनील गावस्कर जैसे पंडितों ने सोचा कि बुमराह ने विशेष रूप से राहुल के खिलाफ गेंदबाज़ी की शुरुआत क्यों नहीं की? वह भी तब, चब केएल राहुल लखनऊ के पिछले दो मैचों में पहली गेंद पर आउट हुए हैं। रोहित ने कहा कि "यह इतना आसान नहीं था, खासकर जब बुमराह को बैकएंड पर गेंदबाज़ी करने की ज़िम्मेदारी दी गई हो। इसका कोई विशेष कारण नहीं है। एक टीम के रूप में हम जो कुछ भी महसूस करते हैं, हमें उसे करने की कोशिश करनी चाहिए और वह करना चाहिए। हम कोशिश करते हैं और टीम को व्यक्ति से पहले रखते हैं। वह काफ़ी गहरी बल्लेबाज़ी करते हैं, इसलिए अपने प्रमुख गेंदबाज़ों को बैकएंड की ओर रखना महत्वपूर्ण है। हम हमेशा बुमराह को बैकएंड के लिए रखने की कोशिश करते हैं। बुमराह ने बहुत अच्छी गेंदबाजी की, लेकिन बाकी खिलाड़ियों को थोड़ा ऊपर उठने की जरूरत है।"
मुंबई भी सबसे ज़्यादा खिलाड़ियों को मैदान में उतारने वाली टीमों में से एक रही है। लेकिन रोहित का मानना था कि जब तक मुंबई को सही विनिंग कॉम्बिनेशन नहीं मिल जाता है, तब तक वह बदलाव करने से नहीं कतराते। रोहित ने कहा, "हम जो भी खेल खेलते हैं वह एक अवसर होता है, इसलिए हम एक ऐसा संयोजन खोजने की कोशिश करते हैं जो उस विशेष स्थिति और उस विशेष परिस्थितियों के लिए सबसे उपयुक्त हो। जब तक आप गेम नहीं जीत लेते, आप वास्तव में उसी इलेवन से नहीं खेल सकते। जैसा कि आपने सही कहा था कि हम अब छह गेम हार चुके हैं, तो ज़ाहिर है कि हम यह समझने की कोशिश कर रहे हैं कि शायद सही संयोजन क्या होगा? मेरा मतलब है कि जब आप खेल हारते हैं तो यह बताना बहुत आसान होता है कि बदलाव किए जा रहे हैं लेकिन हम सही संयोजन के साथ जाने की पूरी कोशिश करते हैं।"

नागराज गोलापुड़ी ESPNcricinfo में न्यूज़ एडिटर हैं, अनुवाद ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांस नवनीत झा ने किया है