मैच (8)
IRE vs ZIM (1)
One-Day Cup (2)
Men's Hundred (1)
Women's Hundred (1)
MLC (2)
Global T20 (1)
ख़बरें

संन्‍यास पर धोनी : मेरे पास फ़ैसला लेने के लिए 8-9 महीने हैं

अगले सीज़न में लौटने के सवाल पर धोनी ने कहा कि हमेशा रहेंगे सीएसके के साथ

MS Dhoni walks out next to the IPL trophy, Gujarat Titans vs Chennai Super Kings, Qualifier 1, IPL 2023, May 23, 2023

अपने भविष्‍य पर खुलकर नहीं बोले धोनी  •  Getty Images

चेपॉक में सीज़न का आख़‍िरी मुक़ाबला खेलकर फ़ाइनल में पहुंचने के कुछ देर बाद जब चेन्‍नई सुपर किंग्‍स के कप्‍तान एमएस धोनी से पूछा गया कि क्‍या वह अगले साल चेन्‍नई आएंगे। तो उन्‍होंने जवाब दिया कि उनके पास फ़ैसला करने के लिए अभी आठ-नौ महीने हैं।
धोनी ने कहा, "मैं नहीं जानता, मेरे पास आठ-नौ महीने फ़ैसला करने के लिए है, छोटी नीलामी दिसंबर के आसपास होगी तो अभी यह सिर का दर्द क्‍यों लेना? मेरे पास फ़ैसला करने के लिए समय है।"
धोनी को इस पूरे सीज़न घुटने की समस्‍या रही है और सीएसके के आख़‍िरी लीग मैच के बाद भी उन्‍हें घुटने पर पट्टी बांधे देखा गया। हालांकि वह सारे मैच खेले लेकिन उन्‍हें विकेट के बीच रन लेते समय परेशानी में देखा गया।
धोनी ने कहा, "मैं सीएसके के लिए हमेशा रहूंगा, चाहे खिलाड़ी के तौर पर या कहीं बाहर बैठे हुए। मैं सही में नहीं जानता। मैं पिछले चार महीनों से घर से बाहर हूं। 31 जनवरी को मैंने घर छोड़ दिया था, काम ख़त्‍म किया और दो या तीन मार्च से अभ्‍यास शुरू कर दिया। इसमें काफ़ी समय लगता है, लेकिन मेरे पास निर्णय लेने के लिए पर्याप्त समय है।"
धोनी अब 14 सीज़न मं अपने 10वें आईपीएल फ़ाइनल के लिए चेन्‍नई से अहमदाबाद रवाना होंगे। जब उनसे पूछा गया कि अब आईपीएल फ़ाइनल तो एक मैच की तरह लगता होगा तो धोनी ने मना कर दिया।
धोनी ने कहा, "आईपीएल के बारे में यह कहना कि यह एक मैच ही होगा यह ग़लत है। नहीं भूलना चाह‍िए कि यहां पर शीर्ष आठ टीम होती हैं जो दुनिया के सर्वश्रेष्‍ठ खिलाड़‍ियां के साथ प्रतिस्‍पर्धा करती हैं और यह अब और कठिन हो गया है।"
"मैं यह नहीं कहूंगा कि यह बस एक और फ़ाइनल होगा। इसके पीछे दो महीनों की कड़ी मेहनत है जिसकी वजह से हम यहां खड़े हैं। सभी ने अपना अलग कैरेक्‍टर दिखया है, जहां से हमने शुरू किया और जहां हम पहुंचे हैं और मुझे लगता है सभी ने योगदान दिया है। हां मध्‍य क्रम को अधिक मौक़े नहीं मिले लेकिन सभी को मौक़ा मिला है और उन्‍होंने फ़ायदा उठाया है।"
टॉस हारने के बाद क्‍वालीफ़ायर 1 में सीएसके 172 रन बनाई थी और ऐसी पिच पर जहां बल्‍लेबाज़ी कठिन थी। लक्ष्‍य का बचाव करते हुए धोनी ने अपने ज़ोन में थे उन्‍होंने गेंदबाज़ों का सही इस्‍तेमाल किया और अपने क्षेत्ररक्षकों को सही जगह पर लगाया।
धोनी ने कहा, "आप विकेट देखते हो, परिस्थिति देखते हो और उसी के हिसाब से क्षेत्ररक्षण लगाते हो। मैं बहुत परेशान करने वाला कप्‍तान हो सकता हूं क्‍योंकि मैं हमेशा क्षेत्ररक्षक को एक या दो फ़ीट इधर या उधर होने के लिए कहता रहता हूं।"
"क्षेत्ररक्षकों को मुझ पर नज़र रखनी होती है। सोचो आप क्षेत्ररक्षण कर रहे हो और मैं हर दो या तीन गेंद के बाद बोलूं कि दो फ़ीट अपने दायीं ओर जाओ, तीन फ़ीट अपने बायीं ओर जाओ। यह परेशान करने वाला हो सकता है। मैं हमेशा कहता हूं कि मुझे अपनी गट फ़ीलिंग पर भरोसा है, मैं विकेट देखता हूं, लाइन देखता हूं, क्‍या वाकई हो रहा है और इसका फल भी मिलता है। केवल एक ही अनुरोध मेरा मेरे क्षेत्ररक्षकों से यह होता है कि मेरे पर नज़र बनाए रखो, अगर आप कैच छोड़ते हो तो कोई रिएक्‍शन नहीं होगा लेकिन बस मेरे पर नज़र बनाए रखो।"
फ़ाइनल का सफ़र सीएसके के लिए आसान नहीं रहा है। उनके खे़मे में कई चोट‍िल हुए हैं, लेकिन अपने संसाधनों का उन्‍होंने अच्‍छे से इस्‍तेमाल किया, ख़ासकर तुषार देशपांडे और मथीशा पथिराना के रूप में जो इस सीज़न में अपने रोल में निखरकर आए।
उन्‍होंने कहा, "हम माहौल बनाने की कोशिश करते हैं। इसी के साथ हम पहचानते हैं कि तेज़ गेंदबाज़ की ताक़त क्‍या है। इसी के साथ हम कोशिश करते हैं कि वे इसमें सुधार करते रहें। आईपीएल मं एक नई गेंद के गेंदबाज़ के रूप में नहीं पहचानकर वे जानते हैं कि उन्‍हें क्‍या करना है। सवाल तब होता है जब गेंद स्विंग नहीं होती है, जब आपके पक्ष में कुछ नहीं होता है, जब दो क्षेत्ररक्षक बाहर होते हैं, जहां आप एक निश्चित बल्‍लेबाज़ को गेंदबाज़ी कर रहे होते हैं और आप क्‍या क्षेत्ररक्षण लगा सकते हो। अगर गेंदबाज़ यह जानता है तो वह सफलता हासिल कर सकता है।"
"हम उनको लगातार मोटिवेट करने की कोशिश करते हैं। सहायक स्‍टाफ़ वहां पर है और हमेशा रहता है। अब ड्वेन ब्रावो वहां हैं, एरिक सिमंस वहां पर हैं। कई लोग हैं जो उनकी मदद कर सकते हैं। दिन के अंत में जब वह खड़े होंगे तो उन्‍हें खु़द पर विश्‍वास होगा। यह बहुत अकेला स्‍थान हैं लेकिन यहीं पर आप बहादुर और साहसी बनते हो।"

दीपक चाहर : सबकुछ ठीक है

सीएसके के सबसे अनुभवी गेंदबाज़ दीपक चाहर ने कहा है कि सबकुछ ठीक है। गुजरात के ख़‍िलाफ़ मैच में आख़‍िरी कैच लेते समय उनको पैर में समस्‍या दिखी थी।
चाहर ने मैच के बाद कहा, "सब ठीक है, बस एक मैच और है।"
हैमस्ट्रिंग की वजह से चाहर इस सीज़न छह मैच नहीं खेल पाए थे। इससे पहले 2022 में वह चोट की वजह से पूरा सीज़न नहीं खेल पाए थे। क्‍वालीफ़ायर 1 में चाहर ने 29 रन देकर दो विकेट लिए, जिसमें गुजरात के ओपनर ऋद्धिमान साहा और शुभमन गिल के विकेट थे।
चाहर ने कहा, "पिच पर गेंद हरक़त कर रही थी और रूककर भी आ रही थी। तो गेंदबाज़ी यूनिट के तौर पर हमने लेंथ बॉल करने की कोशिश की। जब आपको विकेट से मदद मिलती है तो आप ज्‍़यादा प्रयोग नहीं करते हो, आप बस बेसिक गेंद करते हो और उनको प्रयत्‍न करने देते हो, जब सेमीफ़ाइनल की बात है तो यहां सब दबाव झेलने की बात होती है। और जब आप 170 रन बनाते हो और 170 रन सेमीफ़ाइनल में चेज़ करने जाते हो और दर्शक भी आपके ख़‍िलाफ़ हैं तो यह बहुत मुश्किल होता है।"