मैच (15)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ख़बरें

250 का स्कोर प्राप्त करने के लिए किसी एक बल्लेबाज़ का पिच पर टिकना ज़रूरी : मिताली

बल्लेबाज़ों की मददगार पिच पर दोनों कप्तानों को गेंदबाज़ों से उम्मीदें

महिला विश्व कप में हुए अब तक के छह में से चार पारियों में 250 से अधिक का स्कोर बन चुका है। इस दौरान इन चार पारियों में चार शतक भी बने हैं। भारतीय कप्तान मिताली राज का मानना है कि ऐसी लंबी पारी के लिए कम से कम एक बल्लेबाज़ का विकेट पर टिकना ज़रूरी होगा, जो कि पारी को एंकर कर सके। वहीं उन्होंने यह भी कहा कि तेज़ गेंदबाज़ी की मददगार पिच पर स्पिनर भी अहम भूमिका निभा सकती हैं।
पाकिस्तान के ख़िलाफ़ मैच से पहले हुए प्रेस कॉन्फ़्रेंस में उन्होंने कहा, "अब तक के मैचों को देखकर लगता है कि पिच बल्लेबाज़ों के मददगार है और सभी टीमें कम से कम 250 का स्कोर ज़रूर बनाना चाहेंगी। लेकिन इसके लिए किसी एक बल्लेबाज़ को पारी को एंकर करना होगा।"
उन्होंने आगे कहा, "अगर गेंदबाज़ अपनी गेंदबाज़ी में विविधता दिखाते हैं तो उन्हें भी फ़ायदा मिल सकता है। मुझे विश्वास है कि जैसे-जैसे टूर्नामेंट आगे बढ़ेगा, गेंदबाज़ों को भी मदद मिलेगी और फिर 250 का स्कोर करना आसान नहीं होगा।"
वहीं पाकिस्तान की कप्तान बिस्माह मारूफ़ भी भारतीय कप्तान से इस मामले में सहमत नज़र आईं। उन्होंने यह भी कहा कि जिस तरह से वेस्टइंडीज़ ने न्यूज़ीलैंड को हराकर उलटफेर किया है, वैसा ही कई और टीमें भी कर सकती हैं।
उन्होंने कहा, "यह बेहतरीन मैच था। पिच भी काफ़ी अच्छी थी और गेंदबाज़ों को भी मदद मिल रही थी। हम इस टूर्नामेंट में कई हाई-स्कोरिंग मैच देखेंगे और कई टीमें उलटफेर भी कर सकती हैं।"
2017 विश्व कप में 15 बार 250 से अधिक का स्कोर बना था। 2017 विश्व कप के बाद से भारत ने सिर्फ़ आठ बार 250 या उससे अधिक का स्कोर बनाया है। इसमें उन्हें तीन में जीत हासिल हुई है। दो बार उन्होंने ऐसा लक्ष्य का पीछा करते हुए किया है। वहीं पाकिस्तान ने ऐसा 34 पारियीं में सिर्फ़ तीन बार किया है और उन्हें सिर्फ़ दो बार जीत हासिल हुई है। दोनों बार वह पहले बल्लेबाज़ी कर रहे थे, एक मैच टाई भी हुआ था।
दोनों टीमें स्पिनर पर कुछ अधिक ही निर्भर करती हैं। हालांकि मारूफ़ का मानना है कि मैच में युवा तेज़ गेंदबाज़ डायना बेग और फ़ातिमा सना भी अंतर पैदा कर सकती हैं।
उन्होंने कहा, "तेज़ गेंदबाज़ी इकाई के रूप में हमने बड़ा सुधार किया है। डायना और फ़ातिमा विशेष रूप से प्रभावी रही हैं। हमारा गेंदबाज़ी संयोजन बेहतरीन है और सभी गेंदबाज़ एक दूसरे के पूरक हैं। हां, हमारे बल्लेबाज़ों को बेहतर खेल दिखाने की ज़रूरत है। अगर हमारे बल्लेबाज़ अच्छा करते हैं, तो हमारे गेंदबाज़ों को भी आसानी होगी।"
कोरोना के कारण पाकिस्तान के कई सीरीज़ प्रभावित हुए और उन्हें विश्व कप के क्वालिफ़ायर में खेलना पड़ा। इस पर मारूफ़ ने कहा, "हां, हम विश्व कप के लिए सीधे भी क्वालिफ़ाई कर सकते थे और इससे टीम का मनोबल बढ़ता। लेकिन अब हम विश्व कप की तरफ़ देख रहे हैं और हमारा पूरा ध्यान और लक्ष्य उसी तरफ़ है।"

ऑन्नेशा घोष ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो में सब एडिटर हैं, अनुवाद ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो हिंदी के दया सागर ने किया है