3- सिर्फ़ तीन बार किसी भी गेंदबाज़ ने टेस्ट पारी के सभी 10 विकेट लिए हैं। एजाज़ पटेल से पहले ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ 1956 में जिम लेकर (10/53) और पाकिस्तान के ख़िलाफ़ 1999 में अनिल कुंबले (10/74) यह कारनामा कर चुके हैं। लेकर का 10 विकेट मैच की तीसरी जबकि कुंबले का 10 विकेट चौथी पारी में आया था। एजाज़ पहली पारी में ऐसा करने वाले पहले गेंदबाज़ हैं।

1- वह अब एक पारी में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले नंबर एक गेंदबाज़ भी बन चुके हैं। उन्होंने सर रिचर्ड हैडली का कीर्तिमान तोड़ा, जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ 1985 में 9/52 के आंकड़े पेश किए थे।

43.55- एजाज़ ने अकेले ही भारतीय पारी की 43.55% गेंदें फेंकी। उन्होंने इस दौरान 109.5 में से 47.5 ओवर फेंकी। 2000 के बाद से 100 ओवर से अधिक की पारी में यह किसी भी गेंदबाज़ का तीसरा सबसे अधिक ओवर का रिकॉर्ड है। इससे पहले एडिलेड, 2018 में आर अश्विन ने 119.5 में स्व 52.5 ओवर डाले थे, वहीं 2017 में ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ रांची टेस्ट में रवींद्र जाडेजा ने 100 में से 44 ओवर फेंके थे।

हालांकि यह दूसरी पारी की बात है। अगर हम सिर्फ़ पहली पारी की बात करें तो 1977 में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ ऑस्ट्रेलिया के तेज़ गेंदबाज़ मिक मलोन ने 101.2 ओवर में 47 ओवर डाले थे। अगर हम सिर्फ़ स्पिनरों की बात करें तो 1952 में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ भारत के वीनू मांकड़ ने 104.3 ओवर की पारी में अकेले 47 ओवर डाले थे, जो कि पहली पारी का रिकॉर्ड है।

2- यह दूसरी बार है, जब न्यूज़ीलैंड के किसी गेंदबाज़ ने प्रथम श्रेणी में 10 विकेट लिया है। 1889 में वेलिंगटन के ख़िलाफ़ कैंटरबरी के अल्बर्ट मॉस ने पहली बार ऐसा किया था।

1- यह पहली बार हुआ है जब किसी बाएं हाथ के स्पिनर ने अकेले 10 विकेट लिए हैं। दो या दो से अधिक बाएं हाथ के स्पिनरों ने भी मिलकर कभी यह कारनामा नहीं किया था। हां, कुछ मौक़े ऐसे आए हैं, जब दो बाएं हाथ के स्पिनरों ने मिलकर नौ विकेट लिए हो। अंतिम बार ऐसा पिछले सप्ताह ही हुआ था, जब वेस्टइंडीज़ के वीरासैमी परमॉल और जोमेल वारिकन ने श्रीलंका के ख़िलाफ़ दूसरे टेस्ट की पहली पारी में मिलकर नौ विकेट लिए थे।

एस राजेश (@rajeshstats) ESPNcricinfo के स्टैट्स एडिटर हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर दया सागर ने की है।