बड़ी तस्वीर

2016 के बाद टेस्ट क्रिकेट की मुंबई में वापसी हो रही है। लेकिन आपको नवंबर 1988 तक पीछे मुड़कर देखना होगा कि जब पिछली बार यह दोनों टीमें इस शहर में टकराई थी तो हुआ क्या था। संदर्भ के लिए विराट कोहली तीन हफ़्ते के थे और केन विलियमसन का जन्म भी नहीं हुआ था, रिचर्ड हैडली के नाम टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट थे और वेस्टइंडीज़ सबसे ताक़तवर टीम।

इतिहास में भारत में भारत और न्यूज़ीलैंड के मुक़ाबले एक-तरफ़ा रहे है। 1969 में वह सीरीज़ जीत के बेहद क़रीब आ गए थे और मात्र तीन विकेट दूर थे। हालांकि इस दौरान भले ही वह जीत नहीं पाए, उन्होंने जज़्बा दिखाया है। कानपुर में फीकी रोशनी में संघर्षपूर्ण ड्रॉ निकालने के बाद वह सीरीज़ जीत से दूर नहीं है, फिर चाहे इतिहास उनके ख़िलाफ़ ही क्यों ना हो।

बेमौसम बारिश ने इस टेस्ट मैच की तैयारियों को प्रभावित किया है। जहां एक तरफ़ मेज़बान टीम ने बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स में इंडोर नेट में अभ्यास किया, मेहमान टीम ने दो दिनों तक आराम फ़रमाया। भारत के लिए कप्तान कोहली टीम में वापस आ गए हैं और कप्तानी का भार संभालेंगे। उप-कप्तान अंजिक्य रहाणे का बल्ला ख़ामोश रहा है और टीम में उनके स्थान पर सवालिया निशान खड़े हो गए हैं।

पिछले तीन हफ़्तों में कोहली ने भले ही कोई प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेला हो, उन्हें पूर्व बल्लेबाज़ी कोच संजय बांगर के साथ क्रिकेट क्लब ऑफ़ इंडिया के नेट में काम करते हुए देखा गया था। वह इस टेस्ट के साथ-साथ साउथ अफ़्रीका के एक लंबे दौरे की तैयारी जो कर रहे हैं।

एक रोमांचक पहले टेस्ट मैच के बाद आप बस यह सोच सकते हैं कि विश्व की दो शीर्ष टेस्ट टीमों के बीच की यह सीरीज़ केवल दो मैचों की क्यों है। लेकिन ऐसे समय में जब कोरोना का नया वेरियंट सामने आया है तो यह अंतिम मैच शायद खिलाड़ियों के लिए आशीर्वाद बनकर आया है। ज़्यादातर खिलाड़ी पिछले पांच महीनों से लगातार क्रिकेट खेल रहे हैं। इन दोनों टीमों के लिए यह आख़िरी मुक़ाबला होगा जिनकी प्रतिद्वंद्विता तेज़ी से दिलचस्प होती जा रही है।

हालिया फ़ॉर्म

भारत : ड्रॉ, जीत, हार, जीत, ड्रॉ (पिछले पांच टेस्ट मैच, सबसे हालिया मैच पहले)
न्यूज़ीलैंड : ड्रॉ, जीत, जीत, ड्रॉ, जीत

इन पर रहेगी नज़र

ऋद्धिमान साहा को ऋषभ पंत के बाद भारत के बैक-अप कीपर स्थान के साथ संतोष करना पड़ा है। लेकिन 37 साल की उम्र में वह जवान नहीं होते जा रहे हैं। कानपुर में उनके गर्दन की तकलीफ़ ने उनके प्रतिस्थापन केएस भरत को छाप छोड़ने का मौक़ा दिया और भरत ने अच्छा प्रदर्शन किया। साहा ने बल्लेबाज़ी में भी काफ़ी संघर्ष किया है लेकिन दूसरी पारी में उनके अर्धशतक के बाद उन्होंने राहत की सांस ली होगी। अगर उन्हें एक और मौक़ा मिलता है तो साहा यह ज़रूर दिखाना चाहेंगे कि क्यों उन्हें भारत का सबसे अच्छा विकेटकीपर कहा जाता है।

एजाज़ पटेल पहली बार अपने माता-पिता और विस्तारित परिवार के सामने घर पर एक विदेशी टेस्ट मैच खेलेंगे। कितनी अजीब बात है ना? इस बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज़ ने रचिन रविंद्र के साथ कानपुर टेस्ट बचाने में बढ़िया बल्लेबाज़ी की लेकिन वह अपनी प्राथमिक कौशल से सभी को प्रभावित करना चाहेंगे।

टीम न्यूज़

कप्तान कोहली टीम में वापस आ गए हैं। अब टीम को एक कठिन फ़ैसला लेना होगा। क्या वह कानपुर टेस्ट में शानदार बल्लेबाज़ी करने वाले श्रेयस अय्यर को बाहर करेंगे? या रहाणे टीम से बाहर जाएंगे? या फिर वे मयंक अग्रवाल को बाहर कर एक मैच के लिए नया समाधान खोजेंगे? साथ ही क्या इशांत शर्मा की जगह मोहम्मद सिराज को मौक़ा मिलेगा जो उनसे तेज़ और अधिक फ़िट हैं? सवाल अनेक और जवाब ... वह तो टॉस के समय ही मिलेंगे।

भारत : (संभावित) 1 शुभमन गिल, 2 मयंक अग्रवाल, 3 चेतेश्वर पुजारा, 4 विराट कोहली (कप्तान), 5 श्रेयस अय्यर, 6 ऋद्धिमान साहा (विकेटकीपर), 7 रवींद्र जाडेजा, 8 अक्षर पटेल, 9 रविचंद्रन अश्विन, 10 उमेश यादव, 11 मोहम्मद सिराज

लाल मिट्टी वाली इस पिच पर मिलने वाले उछाल को ध्यान में रखते हुए न्यूज़ीलैंड एक अतिरिक्त तेज़ गेंदबाज़ को अपनी एकादश में शामिल कर सकता है। अगर ऐसा होता है तो नील वैगनर, विलियम समरविल की जगह लेंगे।

न्यूज़ीलैंड : (संभावित) 1 टॉम लेथम, 2 विल यंग, 3 केन विलियमसन (कप्तान), 4 रॉस टेलर, 5 हेनरी निकल्स, 6 टॉम ब्लंडल (विकेटकीपर), 7 रचिन रविंद्र, 8 काइल जेमीसन, 9 टिम साउदी, 10 नील वैगनर, 11 एजाज़ पटेल

पिच और परिस्थितियां

कोहली का मानना है कि यह विशिष्ट 'वानखेड़े विकेट' है जिसमें उछाल होगा। लाल मिट्टी की सतह पर यह हमेशा से देखने को मिला है। मैच से पहले की बारिश के कारण हो सकता है कि यह पिच अन्य भारतीय पिचों की तुलना में ज़्यादा सूखी ना हो।

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर अफ़्ज़ल जिवानी ने किया है।