2 पैट कमिंस टेस्ट कप्‍तानी के डेब्‍यू में पांच विकेट लेने वाले दूसरे ऑस्‍ट्रेलियाई कप्‍तान बने हैं। इससे पहले ज्यॉर्ज गिफ़ेन ने 1894 में कप्तानी में डेब्यू करते हुए इंग्लैंड के ख़िलाफ़ मेलबर्न में दूसरी पारी में 155 रन देकर छह विकेट लिए थे। कमिंस टेस्ट कप्तानी डेब्यू में पांच विकेट लेने वाले 14वें कप्तान बने हैं। इससे पहले राशिद ख़ान ने 2019 में बांग्लादेश के ख़िलाफ़ दोनों पारियों में पांच विकेट लिए थे।

1982 के बाद से ऐशेज़ में पांच विकेट लेने वाले पहले कप्तान बने कमिंस। उनसे पहले 1982 में गाबा टेस्ट में बॉब विलिस ने मेज़बान टीम के ख़िलाफ़ पांच विकेट लिए थे। कमिंस इसी के साथ ऐशेज़ में 1962 के बाद से पांच विकेट लेने वाले पहले ऑस्‍ट्रेलियाई कप्‍तान बने। उनसे पहले रिची बेनॉड ने गाबा में ही इंग्लैंड के ख़िलाफ़ छह विकेट लिए थे।

2 बार ही ऐसा हुआ है जब ऐशेज़ टेस्ट सीरीज़ में पहली गेंद पर विकेट गिरा है, जिसमें बुधवार को स्टार्क का बर्न्स को आउट करना भी शामिल है। इससे पहले 1936 गाबा टेस्ट में इंग्लैंड के ओपनर स्टैन वर्थिंगटन को इर्नी मककोर्मिक ने विकेट के पीछे पहली गेंद पर आउट कराया था।

2 बार ही इंग्लैंड ने 1937 से टेस्ट मैच में पहली गेंद पर विकेट गंवाया है, इसमें ब्रिस्बेन में बर्न्स का भी विकेट शामिल है। इससे पहले 2010 जोहानसबर्ग टेस्ट में ऐंड्रयू स्ट्रास, डेल स्टेन की गेंद पर आउट हुए थे। 1877 से 1936 के बीच इंग्लैंड ने चार बार पहली गेंद पर विकेट गंवाए थे।

3 बार ऐशेज़ में 100 साल के इतिहास में पहली पारी में बल्लेबाज़ी करते हुए टीम इंग्लैंड के 147 रनों से नीचे आउट हुई हैं। ऑस्‍ट्रेलिया 1968 गाबा टेस्ट में 116 और 1997 में ऐजबस्टन टेस्ट में 118 पर आउट हुई थी, जबकि इंग्लैंड केवल एक बार 1958 में 134 रनों पर आउट हुई।

147 रनों पर ब्रिस्बेन में पहली पारी में इंग्लैंड आउट हुई। यह सीरीज़ के पहले मैच की पहली पारी में इंग्लैंड का 100 सालों में पांचवां सबसे न्यूनतम स्कोर है। (एक टेस्ट की सीरीज़ छोड़कर). एक ही बार इससे पहले इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए इससे कम स्कोर 134 ऑस्‍ट्रेलिया के ख़िलाफ़ 1958 में ब्रिस्बेन में बनाया है।

6 बार रोरी बर्न्स इस साल शून्य पर आउट हुए हैं। यह किसी ओपनर का एक साल में सबसे ज़्यादा बार शून्य पर आउट होने का रिकॉर्ड है। इससे पहले यह रिकॉर्ड पंकज रॉय (1952) और माइक एथर्टन ( 1998) पांच बार शून्य पर आउट हुए थे। यही नहीं शीर्ष सात बल्लेबाज़ों में एक साल में सबसे ज़्यादा बार शून्य पर आउट होने वाले खिलाड़ी भी बर्न्स बन गए हैं।

7 बार इस साल इंग्लैंड की टीम टेस्ट में 150 से कम स्कोर में आउट हुई है। केवल दो ही टीम एक कैलेंडर ईयर में आठ बार 150 से कम स्कोर पर आउट हुई हैं। ऑस्‍ट्रेलिया ने यह 1888 में और वेस्‍टंइडीज़ ने 2000 में ऐसा किया।

4 बार कप्तान के तौर पर ऐशेज़ में शून्य पर आउट हुए हैं जो रूट। ऐसा करके उन्होंने ​माइक ब्रेयरली की बराबरी की। ऐशेज़ में कप्तान के तौर पर सबसे ज़्यादा बार शून्य पर आउट होने का रिकॉर्ड डॉन ब्रैडमैन के नाम है। अगर ऑस्‍ट्रेलियाई कप्‍तानों की बात की जाए तो ऐशेज़ में जो डार्लिंग और इयन चैपल भी चार बार आउट हुए हैं।

संपत बंदारुपली ESPNcricinfo में स्‍टैटिशियन हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।