मैच (7)
ENG v PAK (1)
T20WC Warm-up (5)
ENG v PAK (W) (1)
ख़बरें

कैरी : 'हमें स्पिन के साथ-साथ रिवर्स स्विंग के लिए भी तैयार रहना होगा'

ऑस्ट्रेलियाई विकेटकीपर के अनुसार सभी बल्लेबाज़ों को अपना अलग-अलग तरीक़ा ढूंढ़ना होगा

Alex Carey plays the reverse sweep, Australia vs West Indies, 2nd Test, Adelaide, 2nd Day, December 9, 2022

कैरी को स्वीप करना पसंद है  •  Associated Press

ऑस्ट्रेलियाई टीम भारत दौरे पर मिलने वाली सभी तरह की चुनौतियों का सामना करने के लिए बेंगलुरु के अलूर में तैयारी कर रही है। यहां उन्होंने चार दिन का कैंप लगाया है, जिसके बाद टीम नागपुर पहुंचेगी, जहां पर 9 फ़रवरी से पहला टेस्ट खेला जाना है। उन्हें पता है कि स्पिन के साथ-साथ पुरानी गेंद से होने वाली रिवर्स स्विंग उन्हें परेशान कर सकती है। इससे पहले 18-सदस्यीय ऑस्ट्रेलियाई दल ने सिडनी में भारत जैसी पिच और परिस्थितियों का निर्माण कर अभ्यास किया था।
ऑस्ट्रेलिया के विकेटकीपर बल्लेबाज़ ऐलेक्स कैरी का मानना है कि पिछले साल पाकिस्तान और श्रीलंका दौरे का अनुभव उनके काम आएगा। इसके अलावा उनका मानना है कि तेज़ गेंदबाज़ भी इस सीरीज़ में अपना प्रभाव डाल सकते हैं। उन्होंने 2018 के ऑस्ट्रेलिया ए के भारत दौरे का उदाहरण भी दिया, जब बेंगलुरु में इंडिया ए की ओर से खेलते हुए मोहम्मद सिराज ने आठ विकेट लिए थे।
अलूर में पत्रकारों से बात करते हुए कैरी ने कहा, "जब हम पाकिस्तान जा रहे थे तो स्पिन की बात हो रही थी लेकिन हमें रिवर्स स्विंग ने अधिक परेशान किया। मैंने 2018 में यहां पर चार दिवसीय मैच खेला है और तब दोनों टीमों के तेज़ गेंदबाज़ों ने अपनी रिवर्स स्विंग गेंदों से बल्लेबाज़ों को परेशान किया था। हमें पता है कि भारत में क्या-क्या चुनौतियां हैं और हम इसके लिए तैयारी कर रहे हैं। जो यहां पर पहले से खेल चुके हैं, हम उनसे बात करेंगे। इसके अलावा हमारे बल्लेबाज़ों की एक अलग से मीटिंग होगी। हम अगले कुछ दिनों में अलग-अलग तरह के वैरिएशन (विविधता) वाले स्पिनरों पर अभ्यास करेंगे।"
कैरी ने कहा है कि वह स्पिन के विरुद्ध अपने सबसे कारगर हथियार 'स्वीप' का प्रयोग बहुत सावधानी से करेंगे। उन्होंने कहा, "मैं स्वीप करना बहुत पसंद करता हूं लेकिन किसी भी शॉट को खेलने या ना खेलने के लिए हम स्वतंत्र हैं। हमने इसके बारे में बात नहीं की है कि कौन किस अंदाज़ से बल्लेबाज़ी करने जाएगा। यह व्यक्तिगत रूप से सब पर निर्भर करता है। ट्रैविस (हेड) शायद अधिक आक्रमकता से बल्लेबाज़ी करना चाहें, वहीं मैट रेनशॉ लंबे हैं तो वह गेंद की पिच तक आकर स्ट्रोक खेलना चाहेंगे। वह भारत में खेल चुके हैं और सफल भी रहे हैं।"