मैच (13)
IPL (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
ACC Premier Cup (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ख़बरें

नई चीज़ें आज़माने को तैयार है रोहित की टीम इंडिया

भारतीय कप्तान ने कहा, "कुछ चीज़ें काम करेंगी और कुछ नहीं, लेकिन कोशिश करने में कोई बुराई नहीं है"

भारत टी20 विश्व कप की तैयारी के लिए प्रयोग करना जारी रखेगा। वे सभी खिलाड़ियों को उचित मौक़े देने के लिए भी देखेगा। दरअसल यह पाकिस्तान के ख़िलाफ़ एशिया कप मैच से पहले रोहित शर्मा की प्रेस कॉन्फ़्रेंस के सबसे बड़े निष्कर्षों में से एक था।
रोहित ने कहा, "देखिए, हमने तय किया है कि हम चीज़ों को आज़माना जारी रखेंगे। कुछ चीज़ें काम करेंगी और कुछ नहीं, लेकिन कोशिश करने में कोई बुराई नहीं है। चीज़ों को आज़माने पर ही आपको उत्तर मिलेंगे। जब अलग-अलग संयोजनों को आज़माने का मौक़ा मिलेगा, हम उसका उपयोग करेंगे।"
भारतीय कप्तान ने आगे कहा, "हम नए उत्तर तलाशने की कोशिश करते रहेंगे। यह कहीं भी हो सकता है, चाहे वह बल्लेबाज़ी हो या गेंदबाज़ी हो। पिछले 8-10 महीनों में हमें पहले ही बहुत सारे उत्तर मिल चुके हैं, और यह [प्रयोग] जारी रहेगा। जब विश्व कप आएगा, तो हम देखेंगे कि क्या करना है और क्या नहीं।"
जैसे ही रोहित ने शुक्रवार को ट्रेनिंग पूरी की, वे दुबई अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम की सतह पर एक नज़र डालने और ओस चेक करने के लिए तुरंत पहुंचे। यह बताता है कि भारत कितनी बारिक़ी से हर चीज़ों को देख रहा है, क्योंकि वह पिछले साल टी20 विश्व कप में जो कुछ हुआ था उसके प्रति सचेत है, जहां टॉस का अंतिम परिणाम पर बड़ा असर पड़ता है। दुबई में पिछले 10 टी20 अंतर्राष्ट्रीय मुक़ाबलों में नौ मैच लक्ष्य का पीछा करने वाली टीम ने जीते हैं।
रोहित ने कहा, "कल [शुक्रवार को] हमने क्यूरेटर से बात की और उनसे कहा कि टॉस एक फ़ैक्टर नहीं होना चाहिए। हम दोनों पारियों में गुणवत्ता वाला क्रिकेट देखना चाहते हैं। उन्होंने [कहा] कि वह सर्वश्रेष्ठ क्रिकेट दिखाने के लिए जो कुछ हो सकता है, वह करेंगे। हमने सुना है कि कल कोई ओस नहीं पड़ी है। सौभाग्य से हम कल (रविवार को) खेल रहे हैं और हमारे पास आज का मैच और यह देखने का मौक़ा है कि परिस्थितियां कैसी होंगी।"
उन्होंने आगे कहा, "परिस्थितियों का आकलन करने के लिए हम ग्राउंड्समैन के लगातार संपर्क में रहेंगे कि क्या ओस होगी। अगर ओस होगी भी, तो हमने यहां यह जानने के लिए पर्याप्त मैच खेले हैं कि हमें टीम या व्यक्तिगत रूप में क्या करने की ज़रूरत है।"
हाल के दिनों में भारतीय ख़ेमे में एक ख़ास बातचीत मानसिक स्वास्थ्य के बारे में रही है, ख़ासकर विराट कोहली के इस ख़ुलासे के बाद कि उन्होंने हाल ही में मानसिक रूप से कैसे थका हुआ महसूस किया। कोहली ने इस साल भारत के लिए सिर्फ़ चार टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैचों में भाग लिया है और अलग-अलग समय पर ब्रेक लिया है। उन्होंने स्टार स्पोर्ट्स को दिए एक इंटरव्यू में ख़ुलासा किया कि उन्होंने दुबई आने से पहले एक महीने तक बल्ले को नहीं छुआ था। रोहित ने मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बातचीत को सामान्य बनाने की आवश्यकता पर बात की।
रोहित ने कहा, " हम इस तरह की चीज़ों के बारे में बहुत बात करते हैं। जब से कोविड का असर हुआ है यह सिर्फ़ विराट ही नहीं बहुत सारे खिलाड़ियों के लिए मुश्किल है। कोविड की चपेट में आने के बाद से बहुत से खिलाड़ियों को मानसिक रूप से कठिन समय का सामना करना पड़ा है। बायो-बबल में रहना और होटलों से बाहर न जा पाना, कुछ लोगों को यह मुश्किल लगता है और इसमें कुछ भी ग़लत नहीं है।"
कप्तान ने आगे कहा, "हर खिलाड़ी के पास इस पर प्रतिक्रिया देने का एक तरीक़ा होता है, इसमें कुछ भी ग़लत नहीं है अगर खिलाड़ी उस पर अपने विचार रखता है। हमारी टीम में इस बारे में लगातार बात होती है कि खिलाड़ी मानसिक रूप से कैसे हैं और वे खेल के बारे में क्या सोचते हैं और हम उन्हें कैसे तरोताज़ा रख सकते हैं। वह ताज़गी महत्वपूर्ण है, ख़ासकर जब आप बड़ा मैच खेल रहे हों, मानसिक रूप से आपको तरोताज़ा होना चाहिए नहीं तो आप प्रतिस्पर्धा नहीं कर पाएंगे। इसलिए मानसिक स्वास्थ्य बहुत महत्वपूर्ण है।"
इसके बाद रोहित ने प्रशिक्षण के दौरान कोहली पर अपनी अवलोकन और वह "पहले की तुलना में तरोताज़ा" कैसे दिखते हैं इसका जवाब दिया। रविवार को कोहली का 100वां टी20 अंतर्राष्ट्रीय मैच होगा। वह रॉस टेलर के बाद हर प्रारूप में 100 मैच खेलने वाले दूसरे खिलाड़ी बनेंगे।
रोहित ने कहा, "मैंने जो देखा, उससे मुझे लगा [वह] बहुत अच्छे हैं, वह अच्छी लय में हैं और अपनी बल्लेबाज़ी के हिसाब से मेहनत कर रहे हैं। मुझे ऐसा नहीं लगा कि वह बहुत सी बातें सोच रहे हैं। वह वैसे ही हैं जैसे हमने उन्हें पहले देखा था। उन्होंने कोई ख़ास बदलाव नहीं किया है, लेकिन एक महीने के बाद वापसी पर ताज़गी देखी जा सकती है। हम एक टीम के रूप में खिलाड़ियों को तैयारी करने का मौक़ा देने पर ध्यान केंद्रित करते हैं, क्योंकि तैयारी महत्वपूर्ण है। हम अपनी तैयारी के अनुसार खेलते हैं। हमने जिस तरह से तैयारी की है, हमने सभी मूल विभागों को कवर कर लिया है।"

शशांक किशोर ESPNcricinfo के सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांसर कुणाल किशोर ने किया है।