मैच (12)
WPL (2)
PSL 2024 (2)
BAN v SL (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
Sheffield Shield (3)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Comment

टाइमिंग की बदौलत ऋतुराज ने दी उमरान की तेज़ी को मात

उन्होंने इस पारी से मैच का रुख़ शुरुआत से ही चेन्नई के पक्ष में कर दिया

ऋतुराज गायकवाड़ के पास कायरान पोलार्ड जैसा डील-डौल वाला शरीर नहीं है और ना ही उनके पास आंद्रे रसल जैसी 'मसल पावर' है। हालांकि वह इन दोनों धाकड़ बल्लेबाज़ों जैसे ही लंबे छक्के लगाने की क़ाबिलियत रखते हैं। उनकी इस क़ाबिलियत की वजह उनकी टाइमिंग है। रविवार को सनराइज़र्स हैदराबाद के ख़िलाफ़ भी उन्होंने अपनी इसी क़ाबिलियत को दर्शाया। उन्होंने इस सीज़न के सबसे तेज़ गेंदबाज़ उमरान मलिक को अपना निशाना बनाया।
पुणे की जिस पिच पर यह मैच हुआ वह थोड़ी धीमी थी, लेकिन यह ऋतुराज का घरेलू मैदान भी था। उनको पता था कि अगर एक बार वह पिच पर टिक गए तो उनके लिए चीज़ें आसान हो जाएंगी। उन्होंने धीमी शुरुआत की और पहली 18 गेंदों में सिर्फ़ 18 रन बनाए। 90 पर पहुंचने के बाद वह फिर धीमे हुए और अगले नौ रन बनाने के लिए सात गेंदें ली। लेकिन इसके बीच उन्होंने 32 गेंदों पर 72 रन बनाए और मैच का रुख़ शुरुआत से ही चेन्नई सुपर किंग्स की ओर कर दिया।
सात ओवर की समाप्ति के बाद चेन्नई का स्कोर 47 रन था। तब केन विलियमसन ने अपने सबसे तेज़ और सफल गेंदबाज़ उमरान को गेंद सौंपी। सात से 16 ओवरों के बीच में उमरान ने इस सीज़न 12 विकेट लिए हैं, जो तेज़ गेंदबाज़ों में सर्वाधिक है।
ऋतुराज ने इस बेहतरीन रिकॉर्ड के बावजूद उमरान को ही निशाना बनाया। उनकी पहली ही गेंद पर वह आगे निकले और मिड ऑफ़ के ऊपर से उसे दे मारा। इसके बाद उमरान ने ऑफ़ स्टंप से बाहर छोटी गेंद फेंकी तो ऋतुराज ने उस पर थप्पड़ लगाते हुए कवर के ऊपर भेज दिया। अगली गेंद ऑफ़ स्टंप पर फ़ुल थी, ऋतुराज ने इसे लॉन्ग ऑन के ऊपर से आधा दर्जन रनों के लिए भेज दिया। उमरान जल्दी धीमी गति की गेंद नहीं फेंकते हैं, लेकिन इतनी मार पड़ने के बाद उन्हें यह भी आज़मानी पड़ी। हालांकि ऋतुराज तो कुछ अलग ही सोच कर मैदान में उतरे थे। उन्होंने इस गेंद को भी बैकवर्ड प्वाइंट के बाहर भेज दिया।
हालांकि ऋतुराज का सर्वश्रेष्ठ आना अभी बाक़ी था। अगले ओवर में उमरान ने इस सीज़न की सबसे तेज़ गेंद 154 किमी/घंटा के रफ़्तार से फेंकी। लेकिन इसे भी ऋतुराज ने एक कदम आगे निकलते हुए लॉन्ग ऑन की ओर ड्राइव कर दिया। अगली गेंद बाहरी किनारा लेकर चौके के लिए चली गई और ऋतुराज 34 गेंदों पर अर्धशतक पर थे।
उमरान के अगले ओवर में ऋतुराज ने इस मैच का सर्वश्रेष्ठ शॉट लगाया। मलिक ने फ़ुल गेंद डाली। ऋतुराज ने छोटा सा स्ट्राइड लेते हुए सीधे बल्ले से गेंद को मिड ऑफ़ के ऊपर से आधा दर्जन रनों के लिए भेज दिया। टाइमिंग इतनी ज़बरदस्त थी कि इस शॉट को बस देखते ही बन रहा था। उन्होंने बिना कोई ख़तरा लिए उमरान पर 13 गेंदों में 33 रन बनाए और अपनी टाइमिंग का दम दिखाया।
इस पारी के बाद ऋतुराज ने कहा, "पिच थोड़ी धीमी थी, इसलिए उमरान की तेज़ी मेरे लिए फ़ायदेमंद रही। मैंने यही सोचकर पहले ही ओवर से उन पर दबाव बनाया।"
ख़राब फ़ॉर्म और दबाव के बारे में पूछने पर ऋतुराज ने कहा, "हर मैच नया होता है और आप शून्य से ही शुरुआत करते हैं। मैं फ़ॉर्म पर विश्वास नहीं करता और हर मैच की एक नए सिरे से शुरुआत करता हूं। इसी का मुझे फ़ायदा मिला।"

हेमंत बराड़ ESPNcricinfo में सब एडिटर हैं