मैच (11)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
NZ v AUS (1)
Nepal Tri-Nation (1)
PSL 2024 (2)
Sheffield Shield (3)
WPL (1)
Dang CL (1)
ख़बरें

DC vs GT रिपोर्ट कार्ड : सुदर्शन के प्रदर्शन ने दिल्ली का खट्टा किया मन

सुदर्शन, विजय शंकर और मिलर ने दिल्ली को हावी नहीं होने दिया

मिलर ने 16 गेंदों पर 31 रन बनाए  •  BCCI

मिलर ने 16 गेंदों पर 31 रन बनाए  •  BCCI

दिल्ली के अरुण जेटली स्टेडियम के अपने घरेलू मैदान पर भी दिल्ली की टीम जीत हासिल नहीं कर पाई। दिल्ली एक बार भी गुजरात पर हावी नज़र नहीं आई तो वहीं गुजरात ने दिल्ली को पूरे मुक़ाबले में पछाड़े रखा। कुल मिलाकर आईपीएल 2023 में भी हार्दिक पंड्या की टीम ठीक उसी तरह से खेल रही है, जैसा वह पिछले सीज़न में खेल रही थी। एक नज़र तमाम क्षेत्रों पर डालते हैं कि क्षेत्रवार ढंग से दिल्ली कब, कहां, कैसे और क्यों पिछड़ी?
बल्लेबाज़ी
डीसी (B) - टॉस हारने के बाद जब दिल्ली की सलामी जोड़ी शुरु से ही संघर्ष करते दिखी। पहले ही ओवर में डेविड वॉर्नर मोहम्मद शमी की गेंद पर बोल्ड हो ही गए थे। पृथ्वी शॉ और मिचेल मार्श इस मुक़ाबले में भी कुछ ख़ास नहीं कर पाए और पावरप्ले में ही दिल्ली ने दो विकेट गंवा दिए। इसके बाद वॉर्नर और सरफ़राज ख़ान के बीच जुझारू साझेदारी हुई लेकिन वॉर्नर 37 रनों के निजी स्कोर पर आउट हो गए। हालांकि दूसरे छोर पर सरफ़राज़ टिके रहे और उनके अभिषेक पोरेल के बीच भी अच्छी साझेदारी हुई। इसके बाद अक्षर पटेल के बढ़िया पारी के कारण दिल्ली एक सम्मानजनक स्कोर तक पहुंच पाई।
गुजरात (A+) लक्ष्य उतना बड़ा नहीं था। बल्लेबाज़ी लाइन अप में गहराई भी थी लेकिन दोहरा उछाल ले रही पिच पर गुजरात के सलामी बल्लेबाज़ों ने आक्रामक रुख़ अपनाया। इसका फ़ायदा गुजरात को आगे जाकर मिला जब विकेट नियमित अंतराल पर तीन विकेट गिरने के बावजूद साई सुदर्शन और विजय शंकर के पास अपनी पारी को एंकर करने का पर्याप्त अवसर मिला। साई सुदर्शन का प्रदर्शन आकर्षण का केंद्र तो रहा ही लेकिन अंत में डेविड मिलर के आक्रामण ने भी दिल्ली को मैच में वापस लौटने नहीं दिया।
गेंदबाज़ी
डीसी (A) - दिल्ली के गेंदबाज़ों पर गुजरात की सलामी जोड़ी पारी के आग़ाज़ के साथ ही टूट पड़ी। हालांकि तीसरे ओवर में पहले ओवर के साथ आए अनरिख़ नॉर्खिये ने पहले ऋद्धिमान साहा को पवेलियन भेज दिया और अगले ओवर में शुभमन गिल को भी बोल्ड कर दिया। हालांकि नॉर्खिये ने अपने दोनों ओवर में ओवरस्टेपिंग की। खलील अहमद ने कप्तान हार्दिक पंड्या को पवेलियन चलता कर दिल्ली की मुक़ाबले में वापसी करा दी थी लेकिन साई सुदर्शन और वियज शंकर के बीच पनपी साझेदारी ने एक बार फिर गुजरात को ड्राइविंग सीट पर ला दिया। बल्ले से फ़्लॉप रहे मार्श ने विजृय शंकर का विकेट लेकर दिल्ली की आस ज़रूर जगाई लेकिन दिल्ली और जीत के बीच में सुदर्शन और मिलर ड़टे रह गए।
जीटी (A+) - पहले ही ओवर में मोहम्मद शमी ने सात अतिरिक्त रन दिए। हालांकि पहली ही गेंद से शमी को गेंद में स्विंग प्राप्त हो रही थी। हालांकि तीसरे ओवर में ही गुजरात को शमी ने सफलता दिलाई। पृथ्वी बड़ा शॉट खेलने के असफल प्रयास के चलते आउट हो गए। इसके बाद शमी ने मिचेल मार्श को भी अपना शिकार बनाया और पावरप्ले में ही दिल्ली के दो विकेट झटक दिए। वॉर्नर के रूम में तीसरा और राइली रुसो के रूप में चौथा विकेट लगातार दो गेंद पर आया और अल्ज़ारी ने दिल्ली को बैकफ़ुट पर धकेल दिया। डेथ ओवरों में अक्षर को छोड़कर वह दिल्ली पर नियंत्रण पाने में क़ामयाब रहे।
क्षेत्ररक्षण
दिल्ली (B) - शुरुआत में अच्छी गेंदबाज़ी करने के बावजूद दिल्ली की टीम पस्त हो गई थी। दिल्ली की तरफ़ से कोई फ़ील्डिंग में कोई बड़ी ग़लती तो नहीं हुई लेकिन गुजरात के बल्लेबाज़ों के सामने वह पस्त दिखाई दिए। हालांकि खलील की गेंद पर कीपर अभिषेक ने हार्दिक का अच्छा कैच ज़रूर लपका।
जीटी (A+) - गेंदबाज़ी की तरह ही फ़ील्डिंग में भी गुजरात का प्रदर्शन प्रंशसनीय रहा। डीप में जोश लिटिल ने उम्दा फ़ील्डिंग तो की ही वहीं फ़ाइन लेग पर उन्होंने सरफ़राज़ का कैच भी लपका। राहुल तेवतिया द्वारा बैकवर्ड प्वाइंट पर राइली रुसो का कैच इस मुक़ाबले का सबसे अहम कैच था। कुल मिलाकर गुजरात के फ़ील्डरों ने गेंदबाज़ों का भरपूर साथ निभाया जिस वजह से दिल्ली पूरी बल्लेबाज़ी के दौरान गुजरात पर हावी दिखाई नहीं दी।
रणनीति
डीसी (C) - पिच पर असीमित उछाल थी लेकिन इसके बावजूद दिल्ली के बल्लेबाज़ों ने बड़े शॉट खेलने के प्रयास नहीं छोड़े। हालांकि तीन विकेट गिरने के बाद जब दिल्ली पर दबाव आया तब वह मध्य ओवरों में स्ट्राइक रोटेट नहीं कर पाए। गेंदबाज़ी में भी वह पावरप्ले में तीन विकेट झटकने के बावजूद गुजरात पर दबाव बनाने में असफल रहे। वॉर्नर कुलदीप और अक्षर का इस्तेमाल नहीं कर पाए। अक्षर से तो वॉर्नर ने एक भी ओवर नहीं डलवाया। कुलदीप की किफ़ायती गेंदबाज़ी से पता चलता है कि अक्षर और वह गुजरात के बल्लेबाज़ों को आसानी से सिंगल चुराने से ज़रूर रोक सकते थे।
जीटी (A) - गेंदबाज़ी में ही गुजरात दिल्ली पर हावी रही। गुजरात के गेंदबाज़ों ने फ़ील्ड सेटअप के अनुरूप ही गेंदबाज़ी की। हार्दिक राशिद को भले ही 13वें ओवर में लेकर आए लेकिन उन्होंने पिच की असीमित उछाल को देखते हुए उसी का फ़ायदा उठाना अधिक मुनासिब समझा। बल्लेबाज़ी में भी साहा के आउट होते ही हार्दिक ने सुदर्शन को प्रमोट किया और उन्होंने निराश नहीं किया। दो विकेट गिरने के बाद हार्दिक ख़ुद मैदान में आए। भले ही वह कुछ ख़ास कमाल नहीं दिखा पाए लेकिन सुदर्शन और विजय शंकर ने सूझबूझ भरी साझेदारी करते हुए गुजरात को जीत की दहलीज़ पर पहुंचा दिया। विकेट गिरने के बावजूद गुजरात के बल्लेबाज़ों ने रनों की रफ़्तार पर ब्रेक लगने नहीं दिया।