मैच (17)
T20 वर्ल्ड कप (5)
CE Cup (3)
SL vs WI [W] (1)
T20 Blast (8)
फ़ीचर्स

रॉस टेलर : न्यूज़ीलैंड के दिग्गज बल्लेबाज़ और नंबर 4 के स्टार

टेलर के लंबे और ऐतिहासिक अंतर्राष्ट्रीय करियर के आंकड़े

Ross Taylor bats in what is set to be his final Test series, New Zealand vs Bangladesh, 1st Test, Mount Maunganui, 1st day, January 1, 2022

हाल ही में अंतर्राष्‍ट्रीय क्रिकेट से संन्‍यास की घोषणा कर चुके हैं रॉस टेलर  •  Getty Images

18,145 कुल अंतर्राष्ट्रीय रनों के साथ रॉस टेलर ने सभी अंतर्राष्ट्रीय प्रारूपों में न्यूजीलैंड के लिए पिछले सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ की तुलना में 2679 अधिक रन बनाए हैं। उन्होंने न्यूजीलैंड के किसी भी बल्लेबाज़ की तुलना में अधिक टेस्ट रन, वनडे रन, वनडे शतक और कुल शतक बनाए हैं। यह एक ऐसे करियर को परिभाषित करता है जिसने लंबी उम्र को शानदार रन-स्कोरिंग के साथ जोड़ा है। उन्हें हमेशा दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ों में नहीं गिना जाता है और हम इसके कारणों को बाद में देखेंगे लेकिन यह किसी भी तरह से न्यूज़ीलैंड क्रिकेट में उनके समग्र योगदान को कम नहीं करता है।
टेलर के टेस्ट करियर को तीन चरणों में बांटा जा सकता है। 2011 तक वह एक सक्षम, लेकिन असाधारण नहीं, मध्य क्रम के बल्लेबाज़ थे, जिनका औसत 33 मैचों में 40.81 था। वह 49.62 के औसत से घरेलू परिस्थितियों में शानदार थे, लेकिन विदेशी दौरों पर यह 32.58 पर आ गया। इसी तरह, 2018 की शुरुआत के बाद से उनकी वापसी प्रभावशाली नहीं रही है : औसत घटकर 34.36 हो गया है और घर से दूर उनका औसत केवल 25.82 है।
टेस्ट में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन उन दो चरणों के बीच के छह साल था। 2012 और 2017 के बीच टेलर 50 टेस्ट में 54.24 के औसत से दुनिया के शीर्ष बल्लेबाज़ों में से थे, जो केन विलियमसन और जो रूट से थोड़ा अधिक था। घर पर उनका औसत 64.92 था, जबकि विदेश में औसत बढ़कर 48.31 हो गया।
उन्होंने इस अवधि के दौरान ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ आउट हुए बिना 486 रन बनाए (122*, 173*, 124*, 67*), लेकिन बेहतर टीमों के ख़िलाफ़ उनकी कुछ महत्वपूर्ण पारियां भी थीं, जिसमें पर्थ में करियर का सर्वश्रेष्ठ 290 रन का स्कोर भी शामिल था। और 142 श्रीलंका के ख़िलाफ़ कोलंबो में। इन छह वर्षों में 3000 से अधिक टेस्ट रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों में केवल छह का औसत टेलर से अधिक था। यह संख्या और भी अधिक विश्वसनीय है क्योंकि इस चरण में 2014-16 के आसपास की अवधि शामिल है - जब वह एक आंख की समस्या से जूझ रहे थे और स्विंग को समझने के लिए गेंदबाज़ के हाथ का अंदाज़ा नहीं लगा पा रहे थे। शायद यही कारण है कि उन्होंने 2014 में आठ टेस्ट मैचों में केवल 35.53 और 2015 में 42.4 का औसत निकाला।
टेस्ट में टेलर के नंबर अच्छे हैं, लेकिन उनके वनडे आंकड़े और भी बेहतर हैं। 217 पारियों में 48.20 का औसत अविश्वसनीय है। यह उन्हें 8000 से अधिक रन बनाने वाले 32 बल्लेबाज़ों में छठे स्थान पर रखता है और प्रारूप में उनके 21 शतक न्यूज़ीलैंड के लिए अगले सर्वश्रेष्ठ से 31% अधिक है, इसके बावजूद तथ्य यह है कि उन्होंने ज़्यादातर नंबर 4 पर बल्लेबाज़ी की और उन्हें सभी ओवर खेलने का मौक़ा नहीं मिला।
और टेस्ट के विपरीत, जहां हाल ही में उनकी संख्या फ़ीकी पड़ गई है, वह वनडे मैचों में मज़बूत बने हुए हैं: 2018 की शुरुआत से, उनका 89.12 का स्ट्राइक रेट और 66.18 का औसत है। वास्तव में, मार्च 2018 में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ इस अवधि के दौरान नाबाद 181 का उनका सर्वोच्च वनडे स्कोर आया। पिछले 11 वर्षों में टेलर के वनडे नंबर सबसे अच्छे हैं। 131 पारियों में 57.27 का औसत, जिसमें 18 शतक शामिल हैं। इस अवधि के दौरान कम से कम 3000 रन बनाने वाले 45 बल्लेबाज़ों में से केवल दो एबी डिविलियर्स और विराट कोहली का औसत बेहतर है।
नंबर 4 स्थान के मालिक
टेस्ट में उन्होंने जो 7655 रन बनाए, उनमें से 7059 रन 47.37 की औसत से चौथे नंबर पर आए। अपने टेस्ट पदार्पण के बाद की अवधि में, किसी भी बल्लेबाज ने उस स्लॉट पर अधिक रन नहीं बनाए, जबकि कुल मिलाकर केवल चार ने इस नंबर पर अधिक रन बनाए हैं।
वनडे मैचों में टेलर नंबर 4 पर किसी भी बल्लेबाज़ द्वारा सबसे अधिक रन और शतक लगाने वाले बल्लेबाज़ हैं, जबकि उनका कुल वनडे औसत 48.20 है। नंबर 4 पर उनका औसत और भी बेहतर है : 52.13। वास्तव में, इस स्थान पर 50 से अधिक औसत से 2500 से अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों वह डिविलियर्स के बाद केवल दूसरे बल्लेबाज़ हैं।
केन के साथ साझेदारी
विलियमसन के नंबर 3 पर आने के साथ, इसका मतलब था कि न्यूज़ीलैंड को एक दशक से अधिक समय तक इन दो स्लॉट्स के बारे में परेशान नहीं होना पड़ा। यह शायद ही आश्चर्य की बात है कि ये दोनों और उनकी तीसरी विकेट की साझेदारी पिछले 10 वर्षों में न्यूज़ीलैंड की बल्लेबाज़ी की आधारशिला रही है। सभी अंतरराष्ट्रीय प्रारूपों में विलियमसन और टेलर ने 8018 साझेदारी रन बनाए हैं, जिसमें 24 शतकीय साझेदारी शामिल हैं। दोनों न्यूज़ीलैंड के लिए अब तक सर्वश्रेष्ठ हैं। रनों के मामले में अगला सर्वश्रेष्ठ नाथन एस्टल और स्टीफन फ्लेमिंग द्वारा 5802 है।
टेस्ट में उन्होंने जो 3882 रन जोड़े हैं, वह न्यूज़ीलैंड के लिए अगले सर्वश्रेष्ठ से 58% अधिक है। दूसरे नंबर पर टॉम लैथम और विलियमसन की जोड़ी के 2458 रन हैं। वनडे मैचों में, वे कुल मिलाकर दूसरे स्थान पर हैं, एस्टल और फ्लेमिंग के 3814 से केवल दो रन कम। लेकिन एस्टल और फ्लेमिंग को उन रन बनाने के लिए 118 साझेदारियों लगी और औसत 33.16 का रहा। जबकि टेलर और विलियमसन ने सिर्फ़ 3812 रन बनाए हैं, वह भी 69 साझेदारियों में और औसत 57.75 का रहा। यह औसत उन 41 जोड़ियों में चौथा सर्वश्रेष्ठ है, जिन्होंने वनडे में कम से कम 3000 साझेदारी रन बनाए हैं।
जहां टेलर फीके साबित हुए
हालांकि, सभी रनों और शतकों के बावजूद, टेलर के करियर के आंकड़ों के कुछ पहलू बहुत ही कम हैं। टेस्ट में, घर से दूर उनका कुल औसत 38.16 है, लेकिन इसमें ज़िम्बाब्वे में दो बार आउट के बाद 516 रन शामिल हैं। सात अन्य विदेशी देशों ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, भारत, संयुक्त अरब अमीरात, साउथ अफ़्रीका, श्रीलंका और वेस्टइंडीज़ में उनका औसत 33.55 तक गिर जाता है। इन सात देशों और पाकिस्तान में 1500 से अधिक रन बनाने वाले न्यूज़ीलैंड के 14 बल्लेबाजों में नौ का औसत अधिक है। विलियमसन इस सूची में शीर्ष पर नहीं हैं। इन देशों में उनका 40.07 का औसत उन्हें पांचवें स्थान पर रखता है, लेकिन उनकी संख्या में सुधार के लिए शायद उनके पास कुछ और दौरे हैं।
50 ओवर के विश्व कप में टेलर का औसत 37.11 है, जो न्यूज़ीलैंड के उन 10 बल्लेबाजों में छठां है जिन्होंने टूर्नामेंट में 500 से अधिक रन बनाए हैं। विलियमसन का औसत 56.93, मार्टिन क्रो का 55 और ग्लेन टर्नर का 61.20 का औसत है।
रन आउट किंग
टेलर पर कोई भी आंकड़े इस ख़ासियत पर ध्यान दिलाए बिना पूरे नहीं होगें। टेलर अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में 73 रन-आउट में शामिल रहे हैं, जो मार्च 2006 में अपने अंतरराष्ट्रीय पदार्पण के बाद से सभी खिलाड़ियों में सबसे अधिक है। एमएस धोनी (68) दूसरे और एंजेलो मैथ्यूज (67) तीसरे नंबर पर हैं। टेलर खुद भी 33 बार रन आउट हुए हैं।

एस राजेश ESPNcricinfo में स्‍टैटस एडिटर हैं।. @rajeshstats अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।