मैच (16)
IPL (3)
PAK v WI [W] (1)
Pakistan vs New Zealand (2)
ACC Premier Cup (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
फ़ीचर्स

अर्शदीप के लिए ख़ुद को साबित करने का मौक़ा, जाडेजा या अक्षर - भारत के लिए विकल्प ही विकल्प

अक्तूबर में होने वाले टी20 विश्व कप के मद्देनज़र इंग्लैंड के ख़िलाफ़ सर्वश्रेष्ठ एकादश उतारने की सोचेगा भारत

अर्शदीप को अंतर्राष्‍ट्रीय पदार्पण का मिल सकता है मौका  •  Getty Images

अर्शदीप को अंतर्राष्‍ट्रीय पदार्पण का मिल सकता है मौका  •  Getty Images

एजबेस्टन टेस्ट हारने के 48 घंटने बाद भारतीय टीम साउथैंप्टन में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ सीमित ओवर क्रिकेट में पहले टी20 के साथ अपने अभियान की शुरुआत करेगी। मुख्य कोच राहुल द्रविड़ को हार से सबक सीखने के लिए बहुत कम समय मिला, क्योंकि कारवां इतनी तेज़ी से बदला।
भारतीय दल के अन्य सदस्यों ने पहले ही सीरीज़ की तैयारी कर ली है। उन्होंने डर्बीशायर और नॉर्थैंप्टनशायर के ख़िलाफ़ दो अभ्यास मैच खेले। इससे पहले यह टीम आयरलैंड में दो टी20 भी खेल चुकी है। वीवीएस लक्ष्मण ही कोच के तौर पर पहले टी20 में टीम के कोच होंगे।
साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ घरेलू सीरीज़ में द्रविड़ ने कहा था, "आठ महीनों में छह कप्तानों के साथ जाने की कोई रणनीति नहीं थी, जब मैंने शुरुआत की थी। वह अब इसको ​लेकर चिंतित नहीं होंगे। रोहित शर्मा कोविड 19 से उबर चुके हैं और सीरीज़ के पहले मैच में खेलने को तैयार हैं। जबकि अन्य सीनियर सदस्य दूसरे टी20 से टीम से जुड़ेंगे।"
पिछले साल यूएई में विश्व कप में ख़राब प्रदर्शन के बाद भारत ने लगातार टी20 खेले हैं। उन्होंने नवंबर से मार्च के बीच न्यूज़ीलैंड, वेस्टइंडीज़ और श्रीलंका के ख़िलाफ़ घर में सीरीज़ जीती हैं। जून में आईपीएल 2022 हुआ और इसके बाद साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ 2-2 से सीरीज़ बराबर की, पांचवां मैच बारिश की वजह से धुल गया। हालांकि इंग्लैंड से उन्हें बड़ी चुनौती मिलने की उम्मीद होगी।
भारत की बल्लेबाज़ी योजना
भारत ने टी20 अंतर्राष्ट्रीय में बड़े रन बनाओ या घर लौटने जैसी योजना नहीं दिखाई है, लेकिन पिछले साल टी20 विश्व कप से बाहर होने के बाद उन्होंने पावरप्ले में खेलने का नज़रिया बदला है। नवंबर 2021 से पांच या उससे ज़्यादा टी20 खेलने वाली टीमों में भारत का पहले छह ओवरों में रन रेट 8.61 है, जो सबसे ज़्यादा है।
जो कहता है, भारत के बल्लेबाज़ी परिवर्तन की कुंजी विश्व कप के लिए अपनी पहली एकादश की पहचान ज़ल्दी से करना होगा। हालांकि पहला टी20 भारत के थिंक-टैंक को ज़्यादा चुनौती नहीं दे सकता है, क्योंकि वरिष्ठ खिलाड़ियों को आराम दिया गया है, उनके पास दूसरे टी20 से ऐसा करने का मौक़ा होगा।
केएल राहुल के सितंबर तक बाहर रहने की संभावना है, ऐसे में विश्व कप से पहले भारत के पास अपने सर्वश्रेष्ठ ओपनरों को उतारने का मौक़ा नहीं होगा। इससे इशान किशन को ख़ुद को साबित करने का एक और मौक़ा मिलेगा, क्योंकि टीम प्रबंधन उन्हें बैकअप ओपनर के तौर पर देख रहा है। ख़राब आईपीएल, चोट और कोविड 19 के बाद रोहित को भी ख़ुद को फ़ॉर्म में लाना होगा।
विराट कोहली का नंबर तीन पर रहना पक्का है, जहां वह टी20 विश्व कप के लिए तैयार हो सकते हैं। एक अस्थायी तरीका यह हो सकता है कि वह ओपनिंग करें, जिससे ​ऋषभ पंत, सूर्यकुमार यादव और दिनेश कार्तिक को खेलने का मौक़ा मिले, लेकिन इससे टीम प्रबंधन की सर्वश्रेष्ठ एकादश चुनने की चाहत पूरी नहीं हो सकती है। इसका मतलब है कि सूर्यकुमार और पंत को जगह के लिए लड़ना होगा, अगर हार्दिक पंड्या और कार्तिक को निचले क्रम में जगह ​दी जाती है। एकादश में जगह बनाने की चुनौती तो श्रेयस अय्यर और हाल में अच्छा प्रदर्शन करने वाले दीपक हुड्डा के बीच भी होगी।
डेथ ओवरों संभालने की ज़िम्मेदारी
जसप्रीत बुमराह और हर्षल पटेल पर डेथ ओवरों की ज़िम्मेदारी होगी, लेकिन पहले टी20 में भारत अन्य विकल्प देख सकता है। बायें हाथ के तेज़ गेंदबाज़ अर्शदीप सिंह ने पंजाब किंग्स के लिए बेहतरीन प्रदर्शन किया था, इसी के साथ भले ही उनका नाम आईपीएल 2022 में विकेट लेने वाले शीर्ष 30 गेंदबाज़ों में ना हो, तब भी उन्होंने 14 मैच में 10 विकेट लिए हैं, क्यों​कि कार्तिक की तरह उन्हें भी एक ख़ास रोल दिया गया है।
आईपीएल 2021 से अर्शदीप की डेथ ओवरों की इकॉनमी 8.50 है, जो कम से कम 15 ओवर करने वाले 22 गेंदबाज़ों में दूसरी सर्वश्रेष्ठ है। इस आईपीएल में भी उनकी इकॉनमी डेथ ओवरों में 7.58 रही, जो बुमराह के 7.38 से ही ज़्यादा है। अर्शदीप ही आयरलैंड में अकेले ऐसे गेंदबाज़ रहे, जिन्हें खेलने का मौक़ा नहीं मिला। साउथैंप्टन में उन्हें जॉस बटलर, लियम लिविंगस्टन, मोइन अली और जेसन रॉय के सामने अपना कौशल दिखाने का मौक़ा मिल सकता है। अर्शदीप के पास पावरप्ले में भी गेंदबाज़ी करने का अच्छा अनुभव है।
जाडेजा पर सवाल
पिछले कुछ समय से रवींद्र जाडेजा की बल्लेबाज़ी में तेज़ी आई है। आईपीएल 2020 के बाद से, उन्होंने 147 के स्ट्राइक रेट से 575 रन बनाए हैं। इसी अवधि में, उनका 199.60 का डेथ-ओवर स्ट्राइक रेट चौथा सर्वश्रेष्ठ है। हालांकि समस्या यह है कि उनकी गेंदबाज़ी के प्रदर्शन में कमी आई है। आईपीएल 2020 से वह 40 मैच में 24 ही विकेट ले पाए हैं और उनका इकॉनमी भी 7.70 का रहा। उनकी अनुपस्थिति में अक्षर पटेल ने ख़ुद को साबित किया है। अक्षर ने 2022 में 12 मैचों में 6.65 के इकॉनमी से 15 विकेट लिए हैं। ऐसे में यह देखना होगा कि क्या जाडेजा अपना स्थान बना पाते हैं या नहीं।

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।