मैच (11)
T20 वर्ल्ड कप (5)
IND v SA [W] (1)
CE Cup (2)
T20 Blast (3)
ख़बरें

वेस्टइंडीज़ के पूर्व ऑलराउंडर डेविड होल्फ़ोर्ड का 82 वर्ष की उम्र में निधन

उन्हें एक ऐसे चयनकर्ता के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने शिवनारायण चंद्रपॉल की खोज की थी

David Holford practices his bowling for West Indies' tour to Australia in 1968

वह पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे  •  Central Press/Getty Images

वेस्टइंडीज़ के पूर्व हरफ़नमौला खिलाड़ी डेविड होल्फ़ोर्ड का 82 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। उन्होंने बारबाडोस में स्थित अपने घर में अंतिम सांसें लीं। रिपोर्ट्स के मुताबिक वह पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे।
वह निचले क्रम के बल्लेबाज़ व लेग स्पिनर थे, जिन्होंने कुल 24 टेस्ट मैचों में वेस्टइंडीज़ का प्रतिनिधित्व किया था। 1966 से 1977 के बीच खेले 24 टेस्ट मैचों में उन्होंने 768 रन बनाए जिसमें एक शतक भी उनके नाम दर्ज है। जबकि गेंदबाज़ी में उन्होंने 51 विकेट अपने नाम किए।
उन्होंने 1970 के दशक में बारबाडोस की कप्तानी की और उन्हें पांच शेल शील्ड खिताब दिलाए। उन्होंने त्रिनिदाद और टोबैगो का भी प्रतिनिधित्व किया।होल्फ़ोर्ड प्रतियोगिता में 1000 रन बनाने और 100 विकेट लेने वाले पहले क्रिकेटर थे। वह 1978 में केरी पैकर श्रृंखला का भी हिस्सा बने।
अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में उन्हें पहचान तब मिली जब 1966 में ओल्ड ट्रैफ़र्ड के मैदान पर इंग्लैंड के ख़िलाफ़ उन्होंने गैरी सोबर्स के साथ की हुई 127 रनों की साझेदारी में 32 रनों की उपयोगी पारी खेली। उन्होंने बाद में एक साक्षात्कार के दौरान इस पारी को अपनी सबसे यादगार पारी के तौर पर याद भी किया था।
इसके ठीक बाद लॉर्ड्स टेस्ट में उन्होंने वेस्टइंडीज़ के लिए संकटमोचक की भूमिका अदा करते हुए 105 रनों की अपनी पारी की बदौलत वेस्टइंडीज़ को वह मैच हारने से बचा लिया। होल्फ़ोर्ड दूसरी पारी में जब बल्लेबाज़ी करने आए थे तब वेस्टइंडीज़ की टीम 95 रनों पर अपने पांच विकेट गंवा चुकी थी। इसके बाद उन्होंने एक बार फिर गैरी सोबर्स के साथ 260 रनों की अटूट साझेदारी की। नतीजतन वेस्टइंडीज़ उस सीरीज़ को 3-1 से अपने नाम करने में क़ामयाब हो गया।
बल्लेबाज़ी के इतर गेंदबाज़ी में उन्होंने भारत के ख़िलाफ़ अपना सर्वश्रेष्ठ दिया था। होल्फ़ोर्ड ने 1975 में बारबाडोस में अपने घरेलू मैदान पर खेलते हुए 23 रन देकर पांच विकेट लिए थे। क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद उन्होंने बारबाडोस क्रिकेट के एसोसिएशन के निदेशक व वेस्टइंडीज़ क्रिकेट टीम के चयनकर्ता और टीम मैनेजर के रूप में भी अपनी सेवाएं दीं।
बारबाडोस क्रिकेट एसोसिएशन के मौजूदा अध्यक्ष कॉन्डी रिले ने होल्फ़ोर्ड को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए बारबाडोस के प्रति उनके योगदान को याद किया। उन्होंने कहा, "वह हमेशा बारबाडोस क्रिकेट के बारे में बात करते रहा करते थे। हमरी राष्ट्रीय टीम के निर्माण पर काफ़ी ध्यान दिया। प्रमुख चयनकर्ता के तौर पर उन्होंने शिवनारायण चंद्रपॉल को काफ़ी कम उम्र में खेलने का मौक़ा दिया और बाक़ी अपने आप में इतिहास है।"