फ़ीचर्स

कैसे कुलदीप ने मुंबई के सामने बुना स्पिन का जाल

17 महीने बाद आईपीएल में वापसी कर रहे कुलदीप ने तीन विकेट झटके

शुरुआती छह ओवरों में मुंबई इंडियंस का स्कोर53/0 था। दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान ऋषभ पंत ने इसके बाद गेंद कुलदीप यादव को सौंपी, जो एक तरह से इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में वापसी कर रहे थे। उन्होंने 17 महीने पहले अपना आख़िरी आईपीएल मैच खेला था।
2019 तक आईपीएल में उनका औसत 19.43 और इकॉनोमी 7.32 का था। लेकिन उसके बाद उनका प्रदर्शन गिरता गया और उन्हें मौक़े भी कम मिले। फिर आईपीएल 2021 आया। इसके पहले भाग में उन्हें खेलने का मौक़ा नहीं मिला, जबकि दूसरे भाग में वह घुटने की चोट की वजह से बाहर हो गए।
हालांकि रविवार को उन्होंने जो वापसी की, वह काबिले ग़ौर था। उन्हें पता था कि छोटे मैदान पर फ़ुल गेंद करना ख़तरनाक होगा। इसलिए उन्होंने अपनी लेंथ थोड़ी पीछे रखी और लेग साइड बाउंड्री पर दो फ़ील्डर खड़े किए। उन्होंने थोड़ी तेज़ गेंदबाज़ी भी की, जिसके लिए पिछले कुछ समय से उनकी आलोचना भी की जा रही थी कि वह काफ़ी धीमी गेंद फेंकते हैं।
दिल्ली कैपिटल्स के सहायक कोच शेन वॉटसन ने स्टार स्पोर्ट्स से इंटरव्यू में कहा, "वह अपने आप को फिर से साबित करना चाहते थे। वह किन्हीं भी परिस्थितियों में गेंदबाज़ी कर सकते हैं। इसके अलावा उनको अपनी गेंद अधिक टर्न कराने की भी ज़रूरत नहीं है क्योंकि उनके पास अपने वेरिएशन हैं। हां, उन्होंने आज थोड़ी तेज़ गेंदबाज़ी की, लेंथ में बदलाव किया और गुगली भी फेंके।"
कुलदीप ने ऐसा करके मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा को रोके रखा। इस दौरान रोहित ने रिवर्स स्वीप खेलने की कोशिश की, जो वो ज़ल्दी नहीं करते हैं। इसके बाद रोहित ने कुलदीप को सबसे लंबे बाउंड्री डीप मिडविकेट पर मारने की कोशिश की, जहां वह रोवमन पॉवेल के हाथों लपके गए।
अब कुलदीप का आत्मविश्वास ऊपर था और वह नए बल्लेबाज़ अनमोलप्रीत सिंह के साथ लगभग खेल रहे थे। उन्होंने अपने फ़्लाइट, गुगली आदि गेंदों से अनमोलप्रीत को कुछ बार बीट किया और फिर एक फ़्लाइटेड गेंद पर उन्हें लॉन्ग-ऑफ़ पर कैच करा दिया।
कुलदीप ने अपने इस स्पेल के बाद कहा, "मैं पिछले कुछ दिनों से गुड लेंथ पर गेंद फेंकने का अभ्यास कर रहा था। मैंने जस बारे में रिकी पोंटिंग से काफ़ी बात की थी। इससे पहले वेस्टइंडीज़ सीरीज़ के दौरान मैंने इस बारे में रोहित शर्मा से भी बात की थी। आज अच्छा लगा कि मुझे अपनी मेहनत का परिणाम मिला।"
तेज़ गति के बारे में उन्होंने कहा, "जब आप अच्छे लय में होते हैं, तो आपको हवा से भी गति मिलती है। मैं इसको लेकर पूरे नियंत्रण में था। विकेट काफ़ी अच्छी थी और गेंदबाज़ों के लिए इसमें कुछ अधिक नहीं था। ऐसे में आपको अपने लेंथ में परिवर्तन लाना पड़ता है, ताकि बल्लेबाज़ों को अधिक समय नहीं मिल सके। अगर आप ऐसा करने में सफल होते हैं, तो आप सफल हैं।"

शशांक किशोर ESPNcricinfo के सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर दया सागर ने किया है।