मैच (19)
IPL (3)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (4)
USA vs CAN (1)
Women's Tri-Series (1)
Zonal Trophy [W] (1)
फ़ीचर्स

रेटिंग्स : सूर्यकुमार यादव का जलवा बरक़रार

युज़वेंद्र चहल और मोहम्‍मद सिराज ने साबित की अपनी अहमियत

हमेशा की तरह खूब चमके सूर्यकुमार यादव  •  Getty Images

हमेशा की तरह खूब चमके सूर्यकुमार यादव  •  Getty Images

टी20 विश्‍व कप की निराशा भूलने के बाद टीम इंडिया ने न्‍यूज़ीलैंड को दूसरे टी20 मैच में एकतरफ़ा 65 रनों से हरा दिया। वैसे इस जीत ने भारत की टी20 विश्‍व कप में की गई ग़लतियों का भी चिट्ठा खोलकर रख दिया। कई सवाल हैं क्‍या युज़वेंद्र चहल को सेमीफ़ाइनल खिलाना चाहिए था? क्‍या मोहम्‍मद सिराज को टीम में होना चाहिए था? ख़ैर टी20 विश्‍व कप तो निकल चुका है तो चलिए देख लेते हैं आज इस मैच में किस खिलाड़ी ने क्‍या हासिल किया।

क्या सही क्या ग़लत?

देखिए इस मैच में क्‍या सही रहा और क्‍या ग़लत रहा, इसके बारे में कहना थोड़ा मुश्किल है, क्‍योंकि टी20 विश्‍व कप निकल गया है और अब भारत को 2024 के लिए टीम खड़ी करनी है। रोहित शर्मा, विराट कोहली और हां केएल राहुल की इस टीम को कमी बिल्‍कुल भी नहीं खली। यह सबसे अच्‍छी बात दिखी। सूर्यकुमार यादव को फ़र्क नहीं पड़ता कि टीम कौन है और मैदान कौन सा है। भारतीय तेज़ गेंदबाज़ों ने टी20 विश्‍व कप जैसा लगभग काम किया, तो मोहम्‍मद सिराज और युज़वेंद्र चहल के आने से एक नई उमंग नज़र आई।
क्‍या ग़लत रहा? यह बताना इतना भी मुश्किल नहीं है। भारत की ओपनिंग की समस्‍या। यही तो है वह समस्‍या जो नियम‍ित कप्‍तान रोहित शर्मा के टीम के नए रवैये की बातों से मेल नहीं खा पा रही है। ऋषभ पंत को आज अपने अंडर 19 विश्‍व कप के दिनों वाले ओपनर इशान किशन मिले लेकिन इस बार भी ये दोनों भारत को पावरप्‍ले में विकेट खोने से नहीं रोक सके। टीम चयन की बात की जाए तो भारत इस तेज़ गति की पिच पर वॉशिंगटन सुंदर की जगह उमरान मलिक के साथ जा सकता था।

रेटिंग्स (1 से 10, 10 सर्वाधिक)

ऋषभ पंत, 6 : ऋषभ पंत के करियर का जब आगाज़ हुआ था तो उनको टी20 स्‍पेशलिस्‍ट कहा जाता था, जबकि वह टेस्‍ट प्रारूप में तो सफल हो गए लेकिन इस प्रारूप में अभी भी बस संघर्ष ही कर रहे हैं। पंत को अंडर 19 दिनों की उनकी पसंदीदा जगह ओपनिंग पर उतारा गया लेकिन वह गेंद को टाइम करने की जगह ताकत का इस्‍तेमाल करते दिखे। 13 गेंद में मात्र छह रन उनके पिच पर 34 मिनट के संघर्ष की कहानी आसानी से बयां करते हैं। हालांकि दीपक हुड्डा की हैट्रिक पूरा कराने में पंत का योगदान अहम रहा।
इशान किशन, 7 : यह नई जोड़ी भारत को पावरप्‍ले में विकेट खोने से तो नहीं बचा पाई लेकिन किशन ने टीम में अच्‍छी वापसी की। वह पूरी तरह से लय में नज़र भी आ रहे थे। वह अपनी ताक़त के साथ खेलते दिखे, यानि जिन शॉट्स में वह मज़बूत हैं। उनकी 36 रनों की पारी ने भारत को एक अच्‍छी शुरुआत दिलाई।
सूर्यकुमार यादव, 10 : ऐसा लगता है सूर्यकुमार गेंदबाज़ों और क्षेत्ररक्षकों के साथ आजकल खिलवाड़ कर रहे हैं। माना कि उनके पास कुछ अच्‍छे शॉट्स लगाने की क़ाबिलियत है, लेकिन कौन सा शॉट कब खेलना है उन्‍हें सबसे अच्‍छी तरह से पता है। कप्‍तान फ़ाइन लेग तैनात करता है तो वह गेंद को एक्‍स्‍ट्रा कवर की दिशा और मिडऑफ़ के ऊपर से मार देते हैं, छोटी गेंद हो तो वह फ़ाइन लेग के ऊपर से मार देते हैं, वाइड फुलर गेंद को वह नज़ाकत के साथ थर्ड मैन की दिशा में खेलते हैं और चौथे स्‍टंप की बाहर की बैक ऑफ़ गुड लेंथ पर वह बैकवर्ड प्‍वाइंट के ऊपर से बाउंड्री निकाल देते हैं। यह सब उन्‍होंने आज ही नहीं अपनी हर पारी में किया है।
श्रेयस अय्यर, 6 : मध्‍य क्रम की जान माने जाने वाले श्रेयस आज कुछ अलग ही मूड में थे। पहली ही गेंद पर उनका चौका लगाना बताता है कि वह टी20 विश्‍व कप टीम में नहीं चुने जाने से कितने आहत होंगे। वह 144 के स्‍ट्राइक रेट से बल्‍लेबाज़ी कर रहे थे लेकिन क़‍िस्‍मत देखिए एक साधारण सी गेंद पर डीप मिडविकेट पर सिंगल चुराने की वजह से वह क्रीज़ के इतना अंदर चले गए कि उनका पैर स्‍टंप्‍स से जा टकराया।
हार्दिक पंड्या, 7 : सभी के मन में सवाल होगा कि हार्दिक ने गेंदबाज़ी क्‍यों नहीं की। फि‍र भी वह सात अंक के हक़दार हैं, क्‍योंकि उन्‍होंने समझदारी दिखाते हुए सूर्यकुमार को अधिक से अधिक स्‍ट्राइक पर रखा। जब गेंदबाज़ी की बात आई तो वह जानते थे कि बोर्ड पर स्‍कोर अच्‍छा है और गेंदबाज़ों की कमी नहीं है। उन्‍होंने कप्‍तान के तौर पर अपने सभी गेंदबाज़ों का सही से इस्‍तेमाल किया।
दीपक हुड्डा, 7 : आप हैरान हो सकते हैं कि दीपक ने तो चार विकेट लिए हैं तब भी केवल सात ही अंक क्‍यों? इसकी वजह है कि डैरिल मिचेल को छोड़कर सारे विकेट पुछल्‍ले बल्‍लेबाज़ों के थे। हैट्रिक ज़रूर ली लेकिन सभी पुछल्‍ले बल्‍लेबाज़ इसमें शामिल थे, जो अंत समय पर बस बल्‍ला चलाना चाहते थे। जहां तक बल्‍लेबाज़ी का सवाल है तो वह पहली ही गेंद पर आउट हो गए थे, हालांकि यह पारी का अंतिम ओवर ज़रूर था।
वॉशिंगटन सुंदर, 8 : भारत के स्‍कोर तक अगर कोई बल्‍लेबाज़ न्‍यूज़ीलैंड को पहुंचाता तो वह डेवन कॉन्‍वे थे। मैदान गीला होने की वजह से गेंदबाज़ों ख़ासकर स्पिनरों को ग्रिप बनाने में परेशानी हो रही थी, लेकिन शायद सुंदर समझ चुके थे कि कॉन्‍वे लेग साइड के खेल में हल्‍का महसूस कर रहे हैं, क्‍योंकि कई बार उन्‍होंने इस दिशा में अज़ीबोगरीब शॉट लगाए। जानबूझकर उन्‍हें लेग स्‍टंप पर गेंद डाली गई और वह डीप स्‍क्‍वायर लेग पर लपके गए।
भुवनेश्‍वर कुमार, 7 : भले ही भुवनेश्‍वर कुमार को टी20 टीम में रखने की बाहर आलोचना हो रही हैं, लेकिन यह हक़ीकत है कि अगर गेंद को मूवमेंट मिल रहा है तो वह इस तरह के गेंदबाज़ हैं कि रनों के लिए तरसा देंगे। पहले ही ओवर में उन्‍होंने टीम के सबसे आक्रामक बल्‍लेबाज़ फ़‍िन ऐलेन को चलता कर दिया। महेंद्र सिंह धोनी की ही तरह आजकल कप्‍तान उनसे शुरुआती कम से कम तीन ओवर तो निकलवा ही रहे हैं, जिससे पावरप्‍ले में अधिक रन नहीं बनने से टीम परेशानी में आ रही हैं। तीन ओवर में एक विकेट के साथ 12 रन उनकी कहानी अच्‍छे से बता भी रहे हैं।
अर्शदीप सिंह, 7 : अर्शदीप बेहद ही जल्‍दी सीखने वाले खिलाड़‍ियों में से हैं और जब से उन्‍हें दूसरे एंड पर भुवनेश्‍वर का साथ मिला है तो यह जोड़ी और भी ख़तरनाक हो चली है। पूरी भारत की पारी में न्‍यूज़ीलैंड के गेंदबाज़ों की स्विंग नदारद थी, लेकिन भुवी के साथ अर्शदीप ने गेंद को ऐसे लहराया कि बल्‍लेबाज़ बीट ही होते गए। उन्‍हें विकेट नहीं मिला लेकिन गीली गेंद के साथ थर्ड मैन और डीप बैकवर्ड स्‍क्‍वायर लेग पर उनके कैच उनको सात अंक तो दिलाने में क़ामयाब रहे।
मोहम्‍मद सिराज, 9 : टी20 विश्‍व कप में मोहम्‍मद शमी या सिराज। सिराज उस ख़त्‍म हो चुकी चर्चा में आज आगे निकल गए हैं। चार ओवर में 24 रन और दो विकेट ही नहीं, एक मेडन ओवर भी। वॉबल सीम के साथ सिराज लगातार कमाल कर रहे हैं और इसमें बल्‍लेबाज़ों को मिर्ची उनकी अच्‍छी लेंथ देखकर लग जाती है। मैच का सबसे बड़ा विकेट विलियमसन उन्‍हें भले ही मैच के लगभग ख़त्‍म होने पर मिला लेकिन जरा उस रिप्‍ले को एक बार दोबारा देखिएगा। वहीं मिचेल सैंटनर का भी विकेट दे‍खिएगा।
युज़वेंद्र चहल, 9 : टी20 विश्‍व कप चला गया लेकिन अभी भी भारतीय प्रशंसकों के मन से एक ख्‍़याल नहीं जा रहा है कि क्‍यों चहल को इस पूरे विश्‍व कप में एक भी मौक़ा नहीं दिया गया। ग्‍लेन फ‍़‍िलिप्‍स पहली ही गेंद से आक्रमण करने का मन बनाकर आए थे। एक अच्‍छी लेंथ गेंद लेकिन रुकिए यहां फ्लाइट और गति का सबसे बड़ा खेल रहा। फ़‍िल‍िप्‍स पहले ही स्‍लॉग स्‍वीप के लिए बल्‍ला चला दिए लेकिन गेंद थोड़ा देरी से आई और उनका ऑफ़ स्‍टंप ले उड़ी। दूसरा विकेट भी नीशम की होशियारी को उन्‍होंने अच्‍छे से समझा और फ्लाइट में फंसाया।

निखिल शर्मा ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर हैं। @nikss26