मैच (6)
विश्व कप लीग 2 (1)
ENG v SL (U19) (1)
TNPL (1)
LPL (1)
T20 Blast (1)
MLC (1)
ख़बरें

T20 WC 24 - शीर्ष 5 प्रदर्शन जिनकी बदौलत सुपर 8 में पहुंचा भारत

रोहित का अर्धशतक, बुमराह की मैच जिताऊ गेंदबाज़ी सहित अन्य प्रदर्शन जिन्होंने भारत का अभियान किया आसान

Rohit Sharma gets down low to play the ball, India vs Ireland, T20 World Cup, New York, June 5, 2024

रोहित शर्मा ने आयरलैंड के ख़िलाफ़ शानदार अर्धशतक लगाया था  •  AFP via Getty Images

भारत ने T20 वर्ल्ड कप 2024 के पहले राउंड में तीन मैच जीतकर सुपर 8 में जगह बनाई है। भारत का सुपर 8 में सबसे पहला मुक़ाबला 20 जून को अफ़ग़ानिस्तान से होगा। हालांकि भारत के लिए अगले दौर की दावेदारी पेश करना इतना आसान नहीं रहता, अगर हर जीत में भारत के कुछ खिलाड़ियों ने आगे आकर ज़िम्मेदारी नहीं उठाई होती। लिहाज़ा हम पहले राउंड के उन शीर्ष पांच प्रदर्शनों का रुख़ करते हैं जिन्होंने भारत के वर्ल्ड कप अभियान को आसान करने में अहम भूमिका निभाई।
रोहित शर्मा - 52 बनाम आयरलैंड
अपने ओपनिंग पेयर में बदलाव के संकेत भारतीय टीम ने बांग्लादेश के ख़िलाफ़ अभ्यास मैच में ही दे दिए थे, जब यशस्वी जायसवाल की जगह संजू सैमसन को रोहित के साथ पारी की शुरूआत करने के लिए भेजा गया था। आयरलैंड को एक कम टोटल पर रोकने करने के बाद भारत के लिए रोहित और विराट कोहली ने पारी की शुरुआत की थी।
न्यूयॉर्क की पिच बल्लेबाज़ी के लिए आसान नहीं थी और पूरे पहले राउंड में बल्लेबाज़ों को यहां के दोहरे उछाल ने परेशान किया। रोहित भी इस मैच में उछाल से गच्चा खा गए और उन्हें रिटायर्ड हर्ट होकर वापस लौटना पड़ा। लेकिन इससे पहले वह 140.54 के स्ट्राइक रेट से 52 रन बनाकर भारत को जीत की दहलीज़ पर पहुंचा चुके थे। लक्ष्य ज़्यादा नहीं था लेकिन रोहित की तेज़ शुरुआत नहीं होती तो भारत इतनी आसानी से मैच जीत नहीं पाता और इसकी झलक टूर्नामेंट में आगे चलकर दिखाई भी दी। तीन छक्के और चार चौकों वाली रोहित की आतिशी पारी का ही परिणाम था कि भारत ने प्रति ओवर 7.86 रन बनाए थे और यह न्यूयॉर्क की पिच पर खेली गई 16 पारियों में इकलौती ऐसी पारी भी थी जिसमें किसी टीम ने 7 से अधिक के रन रेट से रन बनाए थे।
जसप्रीत बुमराह - 14-3 बनाम पाकिस्तान
बुमराह आयरलैंड के ख़िलाफ़ पहले मैच में भी प्लेयर ऑफ़ द मैच बने थे। लेकिन उनकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत पाकिस्तान के ख़िलाफ़ एक कम टोटल का बचाव करने के लिए थी। पाकिस्तान 120 रन के लक्ष्य की ओर आसानी से बढ़ रहा था। अंतिम छह ओवर में पाकिस्तान को जीत के लिए 40 रन चाहिए थे। लेकिन बुमराह ने आते ही सेट बल्लेबाज़ मोहम्मद रिज़वान को पवेलियन चलता कर दिया और यहां से मैच का पासा भारत के पक्ष में पलटना शुरू हो गया।
अंतिम दो ओवर में पाकिस्तान को जीत के लिए 21 रन बनाने थे और क्रीज़ पर इफ़्तिख़ार अहमद के रूप में पाकिस्तान के पास बिग हिटर भी मौजूद था। इसके साथ ही ऑलराउंडर और लेट मिडिल ऑर्डर फ़िनिशर इमाद वसीम भी क्रीज़ पर डटे हुए थे। लेकिन बुमराह ने इस अहम ओवर में सिर्फ़ तीन रन दिए और अंतिम गेंद पर इफ़्तिख़ार का विकेट भी चटका लिया। यहां से पाकिस्तान जीतना और टूर्नामेंट में बने रहना काफ़ी मुश्किल हो गया था। यह T20 वर्ल्ड कप के इतिहास में पहला ऐसा मौक़ा था जब कोई टीम ऑल आउट होने के बावजूद अपने स्कोर का बचाव करने में सफल हो गई थी।
वर्ल्ड कप में कोहली के ओपन करने के कारण पंत को नंबर तीन की भूमिका अदा करने की ज़िम्मेदारी दी गई। अभ्यास मैच में नाबाद अर्धशतक और आयरलैंड के ख़िलाफ़ नाबाद 36 रनों की पारी खेलने के अलावा पंत की पाकिस्तान के ख़िलाफ़ पंत की 31 गेंदों पर 42 रनों की पारी अधिक महत्वपूर्ण थी क्योंकि अगर पंत के 42 रन नहीं होते तो भारत 100 के आंकड़े को भी नहीं छू पाता।
पावरप्ले में ही भारत की सलामी जोड़ी पवेलियन लौट गई थी। भारत ने अक्षर पटेल को प्रमोट किया और पंत और उनके बीच 39 रनों की साझेदारी भी हुई और पंत ने 10 ओवर में भारत का स्कोर 80 के पार भी पहुंचा दिया था। इसके बाद सूर्यकुमार यादव और शिवम दुबे के आउट होने के बाद पंत भी भारतीय पारी के 96 रन के स्कोर पर छठे विकेट के रूप में आउट हो गए और यहां से भारत सिर्फ़ 23 रन और ही जोड़ पाया।
अर्शदीप सिंह - 9-4 बनाम USA
अर्शदीप ने आयरलैंड के ख़िलाफ़ अच्छी गेंदबाज़ी की थी। हालांकि पाकिस्तान के ख़िलाफ़ वह भारत के सबसे महंगे गेंदबाज़ ज़रूर साबित हुए लेकिन अंतिम ओवर में उन्होंने ही पाकिस्तान को लक्ष्य हासिल करने से रोका भी था। हालांकि इस मैच में अर्शदीप ने ना सिर्फ़ विकेट ही चटकाए बल्कि भारत के सबसे किफ़ायती गेंदबाज़ भी साबित हुए। संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) ने अब तक टूर्नामेंट में अपनी गेंदबाज़ी से काफ़ी प्रभावित किया था ऐसे मे उन्हें एक कम टोटल पर रोकना भारत के लिए ज़रूरी था।
अर्शदीप ने पहले ही गेंद पर USA को झटका दे दिया था। एक तरफ़ जहां भारत के अन्य दो तेज़ गेंदबाज़ों ने प्रति ओवर छह से अधिक की इकॉनमी से रन दिए और एक भी सफलता हासिल नहीं कर पाए। तो वहीं दूसरी तरफ़ अर्शदीप ने महज़ 2.25 की इकॉनमी से नौ रन देते हुए चार विकेट झटके और उनके इस प्रदर्शन की बदौलत USA की टीम आठ विकेट के नुकसान 110 रन ही बना पाई।
सूर्यकुमार यादव - 50 बनाम USA
भारत ने USA को एक कम स्कोर पर तो सीमित कर दिया था लेकिन लक्ष्य का पीछा करना भारत के लिए भी आसान नहीं रहा। एक बार फिर भारत की सलामी जोड़ी असफल हुई और इस बार पंत भी अपनी ओर से भारत के स्कोरबोर्ड में 18 रन जोड़ पाए। हालांकि इसके बाद सूर्यकुमार और शिवम दुबे ने भारत की पारी को संभाल लिया लेकिन पिच बल्लेबाज़ी के लिए काफ़ी मुश्किल थी इसलिए लक्ष्य की ओर भारतीय जोड़ी उस गति के साथ आगे नहीं बढ़ रही थी।
सूर्यकुमार और दुबे दोनों अंत तक डटे रहे और सूर्याकुमार ने अपना अर्धशतक पूरा करते हुए भारत की जीत की हैट्रिक सुनिश्चित कर ही दम लिया। वहीं दुबे ने भी 35 गेंदों पर 31 रनों की नाबाद पारी खेली। न्यूयॉर्क की पिच पर इस टूर्नामेंट में सिर्फ़ पांच अर्धशतक ही लग पाए, जिसमें दो अर्धशतक भारत की ओर से लगे थे। सूर्यकुमार यादव का 49 गेंदों पर आया अर्धशतक पुरुष T20 वर्ल्ड कप का संयुक्त रूप से तीसरा धीमा अर्धशतक भी था।

नवनीत झा ESPNcricinfo में कंसल्टेंट सब एडिटर हैं।