मैच (17)
ENG v WI (1)
Asia Cup (2)
ENG v SL (U19) (1)
T20 Blast (8)
MLC (2)
LPL (2)
TNPL (1)
ख़बरें

रोहित : बुमराह एक जीनियस गेंदबाज़ हैं

बुमराह ने कहा कि पिच बाद में बल्लेबाज़ी के लिए आसान हो गई थी

टी20 विश्व कप 2024 में रोमांचक मुक़ाबले में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ छह रन की जीत के बाद भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह की जमकर तारीफ़ की। रोहित ने कहा कि बुमराह एक जीनियस गेंदबाज़ हैं।
रोहित ने कहा, "मैं उनके बारे में अधिक बात नहीं करना चाहता। हम पिछले कुछ वर्षों से लगातार इस बात का गवाह बने हैं कि वह क्या कर सकते हैं। वह एक जीनियस गेंदबाज़ हैं लेकिन अन्य गेंदबाज़ों ने भी बढ़िया प्रदर्शन किया।"
बुमराह के तीसरे ओवर (पाकिस्तान की पारी का 15वां ओवर) ने भारत के लिए मैच खोल दिया। पाकिस्तान को छह ओवर में 40 रन चाहिए थे और मोहम्मद रिज़वान के विकेट ने मैच में ट्विस्ट ला दिया।
इसके बाद बुमराह ने 19वें ओवर में सिर्फ़ तीन रन दिए और इफ़्तिख़ार अहमद का विकेट भी चटकाया। पाकिस्तान को अंतिम दो ओवर में 21 रनों की दरकार थी और अब अंतिम ओवर में उसे 18 रनों की दरकार थी। बुमराह को उनके इस प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ़ द मैच चुना गया।
बुमराह के अलावा हार्दिक पंड्या (2/24), अर्शदीप सिंह (1/31), मोहम्मद सिराज (चार ओवर में सिर्फ़ 19 रन दिए) और रवींद्र जाडेजा और अक्षर पटेल की स्पिन जोड़ी (चार ओवर में दोनों ने कुल 21 रन ही दिए) ने भी मिलकर पाकिस्तान को रोकने में अहम भूमिका निभाई। अक्षर ने विशेष तौर पर 16वां ओवर किफ़ायती किया क्योंकि उस ओवर में उनके सामने बाएं हाथ के बल्लेबाज़ इमाद वसीम था और यह एक ऐसा मैच अप था जो अक्षर के ख़िलाफ़ भी जा सकता था।
रोहित ने अन्य गेंदबाज़ों की तारीफ़ करते हुए कहा, "ज़ाहिर तौर पर इस तरह के टूर्नामेंट में आप अपने खिलाड़ियों से ऐसे ही प्रदर्शन की अपेक्षा करते हैं। छोटे छोटे योगदानों ने अंत में बड़ा अंतर पैदा किया। जिसके हाथ में भी गेंद आई, वह टीम के लिए योगदान देना चाहता था।"
हालांकि भारत ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए संतोषजनक स्कोर खड़ा नहीं किया था। ख़ुद बुमराह ने मैच के बाद कहा कि दूसरी पारी में पिच बल्लेबाज़ी के लिए आसान भी हो गई थी और मूवमेंट भी मिलना बंद हो गया था।
"हमें लगा कि हमने पार स्कोर से थोड़े रन कम बनाए हैं। इसलिए हमें अनुशासन में रहकर गेंदबाज़ी करने की ज़रूरत थी। मैंने कुछ अतिरिक्त करने का प्रयास नहीं किया। विकेट बाद में बल्लेबाज़ी के लिए आसान हो गई थी और मूवमेंट भी नहीं मिल रही थी इसलिए मैंने यह कोशिश की कि जितना संभव हो सके सीम को हिट करूं।"
बुमराह ने अन्य गेंदबाज़ों की तारीफ़ और गेंदबाज़ी के दौरान अपनी रणनीति को साझा करते हुए कहा, "हमने पाकिस्तान की बल्लेबाज़ी के दौरान धैर्य बनाए रखा। पिच से अधिक मदद नहीं मिल रही थी इसलिए ऐसी परिस्थिति में एक गेंदबाज़ी इकाई के तौर पर हमें इस बात को लेकर स्पष्ट होना था कि हमें किस तरह की गेंदबाज़ी करनी है और हम विपक्षी टीम पर वैसा दबाव बनाने में सफल भी हुए। गेंदबाज़ी के दौरान में बाहरी आवज़ों से ध्यान हटाकर वर्तमान में रहने की कोशिश कर रहा था और यही सोच रहा था कि मुझे कैसी गेंद डालनी चाहिए कि बल्लेबाज़ को शॉट खेलने में कठिनाई महसूस हो। मेरे लिए ऐसी परिस्थिति में क्या बेहतर विकल्प हैं?"
ख़ुद रोहित ने भी स्वीकारा कि भारत ने 15-20 रन कम बनाए थे और यह भी कि भारत और बेहतर बल्लेबाज़ी कर सकता था।
"हमने अच्छी बल्लेबाज़ी नहीं की। 10 ओवर के बाद हम अच्छी स्थिति (81/3) में थे। लेकिन हम यहां से साझेदारियां नहीं बना सके। मुझे लगा कि हमने 15-20 रन कम बनाए हैं। हमने इस बारे में चर्चा भी की थी इस तरह की पिच पर हर रन मायने रखता है। हमारे ज़ेहन में 140 का स्कोर चल रहा था। लेकिन मैं यही सोच रहा था कि हमारे गेंदबाज़ बढ़िया प्रदर्शन करेंगे और उन्होंने किया भी।"