बायो-बबल में फंसने और एक नया कोविड-19 वेरियंट की दहशत के बीच भारत ए टीम ब्लूमफ़ोंटेन में मंगलवार से दूसरे अनौपचारिक टेस्ट में साउथ अफ़्रीका ए से भिड़ेगी, जहां पर कुछ सीनियर खिलाड़ी अपनी छाप छोड़ने की कोशिश करेंगे।

पहला चार दिवसीय मैच पिछले सप्ताह बी.1.1.529 कोविड 19 संस्करण का पता चलने के बीच शुक्रवार को ख़राब मौसम के कारण ड्रॉ हुआ। डब्ल्यूएचओ द्वारा इसे ओमिक्रॉन नाम दिया और कई देशों ने साउथ अफ़्रीका पर अंतरराष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंध लगा दिए।

अनिश्चित स्थिति के कारण नीदरलैंड ने साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ जोहानसबर्ग में होने वाले अपने आख़िरी दो वनडे मैचों को छोड़ दिया।

हालांकि, भारत ए को बायो-बबल के अंदर ब्लोमफ़ोन्टेन में रखा गया है। मैच दर्शकों के बिना खेले जा रहे हैं और भारत की सीनियर टीम भी 17 दिसंबर से शुरू होने वाले लगभग सात सप्ताह के असाइनमेंट के लिए नौ दिसंबर तक देश में आने वाली है।

यदि स्थिति बिगड़ती है तो यह दौरे को ख़तरे में डाल सकता है जिसमें चार स्थानों जोहानसबर्ग, सेंचुरियन, पार्ल और केप टाउन में तीन टेस्ट, तीन वनडे और चार टी20 मैच खेले जाने हैं।

हालांकि, भारत ए के खिलाड़ियों को नए संस्करण के विचारों को दिमाग से निकालने और काम पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता होगी क्योंकि वे यहां साउथ अफ़्रीका ए के साथ अपनी प्रतिस्पर्धा को फिर से शुरू करेंगे।

पहले मैच में भारत ए के बल्लेबाज़ों ने एक अच्छा प्रदर्शन किया, जिसमें अभिमन्यु ईश्वरन ने एक ठोस शतक लगाया और कप्तान प्रियांक पांचाल ने 96 रन बनाकर साउथ अफ़्रीका के सात विकेट पर 509 के जवाब में भारत ने चार विकेट पर 308 रन बनाए, लेकिन अंतिम दिन बा​रिश से मैच धुल गया।

सलामी बल्लेबाज़ पृथ्वी शॉ ने भी शानदार 48 रन बनाए और वह बल्लेबाज़ी की अच्छी परिस्थितियों का पूरा फ़ायदा उठाना चाहेंगे।

हनुमा विहारी, जिन्हें न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ दो घरेलू टेस्ट के लिए नहीं चुने गए हनुमा विहारी नंबर चार पर सिर्फ़ 25 रन बना सके और दूसरे मैच में रन बनाने के लिए उत्सुक होंगे।

हालांकि, मेहमान टीम की गेंदबाज़ी चिंता का विषय है क्योंकि इसने मेज़बान टीम को पहले मैच में रनों का पहाड़ खड़ा करने की अनुमति दी।

भारतीय टीम में अपनी जगह गंवा चुके नवदीप सैनी और तेज़ गेंदबाज़ अर्ज़न नागवसवाला ने दो-दो विकेट लिए, वहीं आईपीएल में अपनी अतिरिक्त गति से प्रभावित होकर ए टीम में चुने जाने वाले उमरान मलिक ने भी एक विकेट लिया।

राहुल चाहर ने 125 रन देकर एक विकेट लिया, जबकि गौतम और बाबा अपराजित कोई विकेट नहीं ले पाए।

भारत ए : प्रियांक पांचाल (कप्तान), पृथ्वी शॉ, हनुमा विहारी, अर्ज़न नागवसवाला, देवदत्त पड़िक्कल, सरफराज़ ख़ान, अभिमन्यु ईश्वरन, नवदीप सैनी, के गौतम, बाबा अपराजित, राहुल चाहर, इशान पोरेल, सौरभ कुमार, उमरान मलिक, उपेंद्र यादव (विकेटकीपर)।

साउथ अफ़्रीका ए : पीटर मलान (कप्तान), डोमिनिक हेंड्रिक्स, रैनार्ड वान टॉन्डर, जेसन स्मिथ, टोनी डीज़ॉर्ज़ी, सारेल अर्वी, सेनुरन मुथुस्वामी, ज्यॉर्ज लिंंडे, मार्को यानसन, मिगेल प्रिटोरियस, सिनेतेम्बा केशिले (विकेटकीपर), ब्युरन हेंड्रिक्स, ग्लेनटन स्टूरमैन।