मैच (14)
ENG v PAK (1)
आईपीएल (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
USA vs BAN (1)
WI vs SA (1)
ख़बरें

हॉन्ग कॉन्ग की टीम के लिए भारतीय खिलाड़ियों से मिलना 'सपना साकार' होने के समान

एसोसिएट देश के पास शुक्रवार को पाकिस्तान के ख़िलाफ़ चुनौती पेश करने का मौक़ा मिलेगा

Ayush Shukla poses with Rohit Sharma, the man he dismissed in the sides' Asia Cup match, Dubai, August 31 2022

आयुष शुक्ला ने ही रोहित शर्मा को आउट किया था  •  ESPNcricinfo Ltd

बुधवार को भारत और हॉन्ग कॉन्ग के मैच के ख़त्म होने के कुछ देर बाद हॉन्ग कॉन्ग के खिलाड़ियों ने अपने स्थानीय संपर्क अधिकारी के ज़रिए भारतीय टीम के साथ मिलने की इच्छा व्यक्त की।
इस अनुरोध को भारतीय टीम ने तुरंत स्वीकार लिया। लगभग 15 मिनटों के लिए दोनों ख़ेमों के खिलाड़ियों ने एक दूसरे के साथ बातचीत की। लगभग सभी हॉन्ग कॉन्ग के खिलाड़ियों ने रोहित शर्मा, विराट कोहली, राहुल द्रविड़ और हार्दिक पंड्या के साथ तस्वीर खिंचवाईं।
जाते-जाते उन्होंने एक ऑटोग्राफ़ किया हुआ बल्ला और जर्सी भारतीय टीम को भेंट के तौर पर दिया। उस पर लिखे संदेश ने कहा, "विराट, एक पूरे पीढ़ी को प्रेरित करने के लिए धन्यवाद। हम आपके साथ हैं और जानते हैं कि आपके लिए कुछ अविश्वसनीय दिन आने अभी बाक़ी हैं।"
सीनियर बल्लेबाज़ बाबर हयात ने कहा, "यह ऐसा था जैसे कोई सपना साकार हुआ हो। उनके चेंज रूम में जाकर रोहित और विराट जैसे खिलाड़ियों से मिलना और उनकी प्रतिपुष्टि लेना, ऐसा हमारे साथ रोज़ तो नहीं होता और इसीलिए यह कोई सपने का सच होने जैसा ही था।"
19-वर्षीय तेज़ गेंदबाज़ आयुष शुक्ला के माता-पिता भारतीय हैं लेकिन हॉन्ग कॉन्ग के निवासी हैं, और उनका इस टूर्नामेंट में आना तब संभव हुआ जब उनका विश्वविद्यालय उन्हें छुट्टी देने को तैयार हुआ। शुक्ला फ़िलहाल न्यूज़ीलैंड के ऑकलैंड में वित्त और लेखांकन की पढ़ाई कर रहे हैं और क्रिकेट टीम के साथ दौरे पर अपनी कक्षा में बहुत ज़्यादा ना पिछड़ने के लिए ऑनलाइन सेशन भी लेते रहते हैं।
बुधवार को उन्होंने पहले रोहित को आउट किया और फिर भारतीय कप्तान के साथ सेल्फ़ी भी ली।
शुक्ला ने कहा, "मुझे अभी भी विश्वास नहीं हो रहा कि मैंने रोहित शर्मा का विकेट लिया। यह एक ज़बरदस्त अनुभव है। क्या पता हम अगली बार कब उनके साथ एशिया कप या विश्व कप में भिड़ेंगे। ऐसा मौक़ा जीवन में शायद एक ही बार मिलता है। वह बहुत अच्छे इंसान हैं। ऐसा लगा ही नहीं कि हम उनसे पहली बार मिल रहे हैं। मैं बहुत ख़ुश हूं।"
"हमारा मूल भले ही भारत या पाकिस्तान से हो, लेकिन हम हॉन्ग कॉन्ग के खिलाड़ी हैं। ऐसा नहीं है कि भारत के ख़िलाफ़ मैच केवल भारतीय मूल के खिलाड़ियों के लिए अहम था या पाकिस्तान वाला मैच पाकिस्तानी मूल के प्लेयर्स के लिए ख़ास होगा।
बाबर हयात
भारत के खिलाड़ियों से मैदान पर उन्होंने क्या सीखा है इस पर शुक्ला ने कहा, "उन्हें गेंदबाज़ी या बल्लेबाज़ी करते हुए देख कर भी काफ़ी कुछ सीखने को मिलता है। उनकी जीवनशैली, मैच के लिए उनकी तैयारी, यह सब चीज़ें आपको सीखनी चाहिए और उनके पेशेवर अंदाज़ को दोहरानी चाहिए। (उनसे मिलने का) यह अवसर हमारे लिए बहुत बड़ी बात थी। कोहली जैसे खिलाड़ी के साथ खेलना अपने आप में बड़ी बात है। ऊपर से उनसे तैयारी के बारे में बात करना और उनसे क़रीब से मिलना बहुत अच्छी बात थी।"
आगे उन्होंने कहा, "हमारे और उनके संसाधनों के बीच बहुत बड़ा फ़ासला है। हम जानते हैं कि हम उनसे जो भी सीख सकते हैं वह बहुत बड़ी बात है। एसोसिएट देश से खेलते हुए ऐसे टूर्नामेंट हमारे लिए बहुत कुछ सिखाते हैं।"
शुक्रवार को हॉन्ग कॉन्ग शारजाह में पाकिस्तान से भिड़ेगा। दोनों ही टीमों के पास सुपर 4 में जाने की चुनौती होगी और हॉन्ग कॉन्ग निडर होकर अपना सर्वश्रेष्ठ गेम खेलना चाहता है।
हयात ने कहा, "हम भारत को परेशान करना चाहते थे और हमने उन पर अच्छी रोक लगा रखी थी लेकिन वह डेथ ओवरों में हमसे दूर निकल गए थे। हम पेशेवर नहीं हैं और ऐसे में आपका ध्यान केवल क्रिकेट पर नहीं रहता लेकिन हमने अच्छा मुक़ाबला किया था। (पाकिस्तान के ख़िलाफ़) दबाव होगा लेकिन हम जीत की पूरी कोशिश करेंगे।"
हॉन्ग कॉन्ग के कई खिलाड़ी भारतीय और पाकिस्तानी मूल के ही हैं और ऐसे में यह टूर्नामेंट उनके लिए एक अनोखा अवसर लाया है। शुक्ला ने कहा, "हमारा मूल भले ही भारत या पाकिस्तान से हो, लेकिन हम हॉन्ग कॉन्ग के खिलाड़ी हैं। ऐसा नहीं है कि भारत के ख़िलाफ़ मैच केवल भारतीय मूल के खिलाड़ियों के लिए अहम था या पाकिस्तान वाला मैच पाकिस्तानी मूल के प्लेयर्स के लिए ख़ास होगा। यह एक बड़ा मैच है और हम सब उत्साहित हैं।"

शशांक किशोर ESPNcricinfo के सीनियर सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सहायक एडिटर और स्थानीय भाषा लीड देबायन सेन ने किया है।