मैच (15)
IPL (2)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ख़बरें

जाडेजा : परिस्थितियों के अनुसार किसी भी क्रम पर बल्लेबाज़ी करने के लिए तैयार हूं

"टी20 विश्व कप नहीं हॉन्ग कॉन्ग के ख़िलाफ़ अगले मैच पर है नज़र"

पाकिस्तान के ख़िलाफ़ अपनी पारी के दौरान जाडेजा  •  AFP/Getty Images

पाकिस्तान के ख़िलाफ़ अपनी पारी के दौरान जाडेजा  •  AFP/Getty Images

हांगकांग के ख़िलाफ़ भारत के अंतिम ग्रुप मुक़ाबले से पहले वैकल्पिक अभ्यास सत्र में रवींद्र जाडेजा पूरे जोश में दिखे।
मैच से पहले उन्होंने प्रेस कॉन्फ़्रेंस को भी संबोधित किया। जब जाडेजा प्रेस कॉन्फ़्रेंस के लिए आए तो प्रेस कॉन्फ़्रेंस रूम ठहाकों से गूंज उठा क्योंकि भारत से आया एक बड़ा मीडिया दल उम्मीद कर रहा था कि इस मैच से पहले भारतीय कोचिंग स्टाफ़ का कोई सहयोगी सदस्य मीडिया को संबोधित करेगा।
जाडेजा ने कुर्सी पर बैठते ही हंसकर कहा, "आप लोगों को (बलि का) बकरा मिल गया क्या?" अगले 10 मिनट तक जाडेजा इसी ह्यूमर के साथ पत्रकारों से बात करते रहे।
ऋषभ पंत के टीम में शामिल किए जाने या ना जाने के सवाल पर उन्होंने हंसकर कहा "आपका सवाल मेरे क़िताब से बाहर है।"
जब उनसे टेस्ट क्रिकेट और सीमित ओवर के क्रिकेट में उनकी भूमिकाओं में अंतर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "आप ज़्यादा सोचते हो, मैं इतना नहीं सोचता। मैं सिर्फ अपने खेल पर ध्यान देता हूं, अच्छा खेलने के बारे में सोचता हूं।"
जाडेजा के जवाब उनके ओवर की तरह ही छोटे और तेज़ थे। वह जितने समय में अपना एक ओवर फेंकते हैं, उतने समय में आधा दर्जन सवालों से गुजर सकते हैं।
हालांकि उन्होंने बस मज़ाक नहीं किया। उन्होंने अपनी नई भूमिका ख़ासकर अपनी बल्लेबाज़ी के बारे में विस्तार से बताया। पाकिस्तान के ख़िलाफ़ पहले मैच में उन्हें बाएं हाथ के किसी मुख्य बल्लेबाज़ की अनुपस्थिति में नंबर चार पर भेजा गया था।
जाडेजा ने इस मैच में 29 गेंदों में 35 रनों की पारी खेली और हार्दिक पांड्या के साथ उनकी साझेदारी ने भारत को मैच में बनाए रखा। उन्होंने कहा कि वह कहीं भी बल्लेबाजी करने को तैयार हैं।
जाडेजा ने कहा, "कभी-कभी ऐसा होता है कि अगर बाएं हाथ का स्पिनर या लेग स्पिनर गेंदबाज़ी कर रहा होता है, तो बाएं हाथ के बल्लेबाज़ को भेजना एक आसान निर्णय होता है। टीम में मैं अकेला ही बाएं हाथ का बल्लेबाज़ था। मुझे पता था कि ऐसी परिस्थितियां आने पर मुझे जल्दी बल्लेबाज़ी करने के लिए उतरना पड़ सकता है। मैं इसके लिए ख़ुद को मानसिक रूप से तैयार कर रहा था। भाग्य से मुझे रन भी मिले। मैं यह नहीं कह सकता कि ऐसा सभी टीमों के ख़िलाफ़ होगा। हर प्रतिद्वंद्वी के पास अलग-अलग तरह के गेंदबाज होते हैं और हम उसी हिसाब से योजना बनाएंगे।"
जाडेजा ने इस मैच को ख़त्म नहीं करने पर अफ़सोस जताया, लेकिन दबाव की स्थिति में एक महत्वपूर्ण प्रदर्शन करने पर संतोष भी व्यक्त किया। उनका कहना है कि ऐसे प्रदर्शन से एक खिलाड़ी का आत्मविश्वास बढ़ने में मदद मिलती है।
उन्होंने कहा, "अगर आप भारत के लिए खेलते हैं तो हमेशा आप पर दबाव रहेगा, बस आपको ज़िम्मेदारी के साथ खेलने की ज़रूरत होती है। जब आपको मुश्किल क्षणों में बल्लेबाज़ी करने का मौक़ा मिलता है, तो यह चुनौतीपूर्ण होता है। कभी-कभी आप ऐसी परिस्थितियों में गेंदबाज़ी करने भी आते हैं। अगर ऐसे मौक़ों पर आप अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो आपको एक खिलाड़ी के रूप में संतुष्टि और आत्मविश्वास दोनों मिलता है।"
गेंदबाज़ जाडेजा, बल्लेबाज़ जाडेजा को कैसे गेंदबाज़ी करेंगे?
"अगर टी 20 में ऐसा कोई बल्लेबाज़ है तो मैं देखूंगा कि वह बल्लेबाज़ मैदान के किस तरफ़ अधिक शॉट खेलता है, उसके मज़बूत क्षेत्र क्या हैं, मैं किस छोर से गेंदबाज़ी कर रहा हूं और आउटफ़ील्ड का कौन सा कोना बड़ा है।"
2018 का एशिया कप जाडेजा की वापसी के लिए लॉन्च-पैड था, जब वह क़रीब एक साल तक टीम से बाहर थे। चार साल बाद जाडेजा और हार्दिक पांड्या भारत की टी20 टीम के प्रमुख सदस्य हैं और एक ऐसा टूर्नामेंट जीतना चाहते हैं जो उन्होंने 2007 के बाद से नहीं जीता है।
हालांकि जाडेजा का ध्यान अभी ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 विश्व कप पर नहीं है। वह हॉन्ग कॉन्ग के ख़िलाफ़ अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर एशिया कप के सुपर-4 में पहुंचना चाहते हैं।

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं