मैच (6)
श्रीलंका बनाम अफ़ग़ानिस्तान (1)
न्यूज़ीलैंड बनाम भारत (1)
हज़ारे ट्रॉफ़ी (4)
फ़ीचर्स

सूर्यकुमार यादव : विकेट के पीछे जन्नत दिखाने वाला एक बेहतरीन बल्लेबाज़

उनकी इस बल्लेबाज़ी का राज़ उनका पोज़िशन में पहले आ जाना और देर से शॉट खेलना है

Suryakumar Yadav played a number of innovative shots as always, West Indies vs India, 4th T20I, Lauderhill, August 6, 2022

सूर्यकुमार यादव, जो पोज़िशन में तो बहुत पहले आ जाते हैं लेकिन शॉट बहुत देर से खेलते हैं  •  AFP/Getty Images

अगर आपको सूर्यकुमार यादव की बल्लेबाज़ी की ख़ूबसूरती देखनी है तो आपको वीडियो को उस वक़्त रोकना होगा, जब वह गेंद को बल्ले से कनेक्ट करते हैं।
अल्ज़ारी जोसेफ़ ने उन्हें ऑफ़ स्टंप के बाहर से अंदर आती एक स्लोअर ऑफ़ कटर गेंद फेंकी, जो मिडिल स्टंप पर आई। जब गेंद फेंकी गई तब ही सूर्यकुमार शॉट लगाने की पोज़िशन में थे। बैकफ़ुट मिडिल स्टंप पर, फ़्रंटफ़ुट लेग स्टंप पर, हाथ ऊपर और बल्ला हवा में।
वह पहले गेंद को उसकी लाइन और लेंथ के अनुसार खेलने के लिए बैकफ़ुट पर थे, लेकिन जब उन्होंने देखा कि गेंद अंदर आ रही है और रूम बिल्कुल नहीं है तो उन्होंने अपना पिछला पैर उठा लिया। उन्होंने अपना पीठ नहीं झुकाया और बल्ले का मुंह खोल गेंद को प्वाइंट के ऊपर से खेल दिया। यह एक दर्शनीय शॉट था, जिसे आप बार-बार देख सकते हैं।
अब, जब बल्ले ने गेंद को कनेक्ट किया तब वीडियो को रोकिए। सूर्यकुमार के पास इस शॉट को खेलने के लिए पर्याप्त रूम नहीं था। लेकिन अंत समय में वह थोड़ा सा और लेग साइड में शफ़ल हुए, अपने दोनों पैर पर उछले और अपर कट के लिए जगह बना डाली। गेंद अब आधा दर्जन रनों के लिए बाउंड्री पार जा चुकी थी।
जोसेफ़ ने फिर से एक वैसी ही गेंद फेंकी लेकिन इस बार सूर्यकुमार ने कोई रूम नहीं बनाया, बल्कि उसे हेलीकॉप्टर शॉट की तरह लेट फ़्लिक करते हुए डीप स्क्वेयर लेग बाउंड्री के बाहर छह रन के लिए भेज दिया।
भारत का इंग्लैंड दौरा। इंग्लैंड के रिचर्ड ग्लीसन ने लेग स्टंप पर लेंथ गेंद डाली। सूर्यकुमार इस गेंद पर ऑफ़ साइड में रूम बना कर शॉट खेलना चाहते थे लेकिन गेंदबाज ने उनका पीछा किया और लेग स्टंप की लाइन में गेंद फेंकी। लेकिन फिर भी सूर्यकुमार ने इतना रूम बना लिया था कि गेंद को ऑफ़ साइड में प्वाइंट के ऊपर से इनसाइड आउट ड्राइव खेल दिया।
पहली बार इस शॉट को देखने पर आपको लगेगा कि गेंद एक्स्ट्रा कवर के ऊपर से जाएगी क्योंकि सूर्यकुमार के बल्ले का मुंह भी एक्स्ट्रा कवर की ही दिशा में खुला था। लेकिन ऐसा नहीं था। गेंद प्वाइंट के ऊपर से छक्के के लिए गई। सूर्यकुमार ने अपना घुटना ज़मीन पर टिकाया और कलाइयों का प्रयोग करते हुए उसे ऐसा स्लाइस किया कि गेंद एक्स्ट्रा कवर नहीं बल्कि प्वाइंट के ऊपर से गई।
यह शॉट कोई तुक्का नहीं था। इसे साबित करने के लिए सूर्यकुमार ने उसी मैच में क्रिस जॉर्डन की वैसी ही गेंद को प्वाइंट के ऊपर से भेजा।
ऑस्ट्रेलिया के पैट कमिंस ने सूर्यकुमार को ऑफ़ साइड में शफ़ल करता देख ऑफ़ स्टंप के काफ़ी बाहर लेंथ गेंद डाली। कमिंस के ऐक्शन के कारण नैसर्गिक रूप से उनकी गेंद थोड़ा सा अंदर आती है। सूर्यकुमार ने जो शॉट लगाया उससे लगा कि गेंद मिडविकेट के ऊपर से जाएगी, लेकिन वह स्क्वेयर लेग के पीछे गई।
सूर्यकुमार के इन सभी शॉट्स की सबसे ख़ास बात यह है कि वह बहुत लेट खेलते हैं। वह अपनी ऊंची बैकलिफ़्ट के कारण पहले से ही पावर शॉट लगाने की पोज़िशन में होते हैं और फिर लेट खेलकर उसे और मज़ेदार बना देते हैं। शॉर्ट गेंदों पर खेला गया उनका रैंप शॉट तो बहुत देर से खेला गया होता है और वह गेंद को तब बल्ले से कनेक्ट करते हैं तब गेंद लगभग स्टंप तक आ चुकी होती है। कई बार तो यह इतना लेट होता है कि विकेटकीपर भी सन्न रह जाता है।
सूर्यकुमार टी20 के सबसे सफल बल्लेबाज़ों में से एक हैं। अक्सर पावर हिटर बल्लेबाज़ों के लिए हार्ड लेंथ की गेंदें खेलने में मुश्किल आती है। लेकिन सूर्यकुमार ने उसका भी तोड़ निकाला है। वह ऐसी गेंदों को विकेट के पीछे खाली जगहों पर खेलते हैं। हालांकि वे ऐसे शॉट पहले बहुत ही कम खेलते थे और उन्होंने धीरे-धीरे इन शॉट पर अपनी पकड़ बनाई है। यह एक क्रिकेटर के तौर पर उनके विकास को भी दर्शाता है।
2018 के आईपीएल में वह 130 के स्ट्राइक रेट से रन बनाते थे, लेकिन 2020, 2021 और 2022 में यह 140 से ऊपर हो गया। 2019 के बाद से उन्होंने अपने 46% टी20 रन विकेट के पीछे बनाए हैं, इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट भी 230 का हो जाता है। वह हर 7.4 गेंद पर विकेट के पीछे से बाउंड्री लगाते हैं। अगर वह विकेट के पीछे शॉट खेलते हैं तो 10 में से चार शॉट बाउंड्री पार जाता है।
उन्होंने विकेट के पीछे 54 छक्के लगाए हैं, जो कि सर्वाधिक है। विश्वास किजिए, विश्व क्रिकेट का कोई भी बल्लेबाज़ उनके नज़दीक भी नहीं है। जब वह विकेट के पीछे शॉट लगाते हैं तो 91.1% बार नियंत्रण में होते हैं, जो कि परफ़ेक्ट के बिल्कुल क़रीब है।
सूर्यकुमार ना सिर्फ़ विकेट के पीछे शॉट खेलते हैं बल्कि सामने भी शॉट खेलने का विकल्प हमेशा खुला रहता है। वह आगे निकलकर गेंदबाज़ के ऊपर से कभी भी शॉट खेल सकते हैं। सूर्यकुमार की यही विविधता उन्हें अन्य बल्लेबाज़ों से अलग और ख़तरनाक बनाती है।
शिवा जयरमन के स्टैट्स इनपुट के साथ

सिद्धार्थ मोंगा ESPNcricinfo में असिस्टेंट एडिटर हैं, अनुवाद ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो हिंदी के दया सागर ने किया है