मैच (19)
आईपीएल (1)
WI vs SA (1)
ENG v PAK (W) (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
CE Cup (4)
T20WC Warm-up (3)
फ़ीचर्स

रेटिंग्स: कोहली और सिराज ने हासिल किया टॉप स्पॉट

रनों के लिहाज़ से वनडे इतिहास की सबसे बड़ी जीत में शुभमन गिल की शतकीय पारी ने उन्हें दूसरा स्थान दिलाया

India's bowlers were in sensational form, India vs Sri Lanka, 3rd ODI, Thiruvananthapuram, January 15, 2023

भारत ने श्रीलंकाई चुनौती को पूरी तरह से ध्वस्त कर दिया  •  BCCI

तिरुवनंतपुरम में खेले गए तीन मैचों की सीरीज़ के आख़िरी मैच में भारत ने श्रीलंका को 317 रन से रौंदकर 3-0 से क्लीन स्वीप किया। शुभमन गिल और विराट कोहली के बल्लों से निकले दर्शनीय शतकों की मदद से भारत ने एवरेस्ट समान स्कोर खड़ा किया, उसके बाद मोहम्मद सिराज ने श्रीलंकाई बल्लेबाज़ी क्रम को तहस-नहस कर दिया। आइए रेटिंग्स के माध्यम से जानते हैं कि किस खिलाड़ी ने कितना प्रभावित किया।

क्या सही क्या ग़लत?


शुरू में पिच को परखने के बाद भारतीय सलामी बल्लेबाज़ों शुभमन गिल और रोहित शर्मा ने सकारात्मक बल्लेबाज़ी की, जिससे पहली विकेट गिरने के बाद आए विराट कोहली खुलकर खेल सके। मोहम्मद सिराज जब पूरे लय में गेंदबाज़ी रहे थे तो उनसे लगातार सात ओवर करवाना भी अच्छे फ़ैसलों में से गिना जाएगा। इस तरह की जीत में कमी की कोई गुंजाइश नहीं रहती।

रेटिंग्स 1 से 10, सर्वाधिक 10)

रोहित शर्मा, 7.5: रोहित शर्मा पिछले कुछ समय से बड़ा स्कोर नहीं खड़ा कर पा रहे हैं। यहां भी ऐसा ही हुआ। शुरुआत में तेज़ गेंदबाज़ों के अंदर आती गेंदों पर वह थोड़ा असहज दिखे, लेकिन जब हाथ खोलना शुरू किया तो फिर ऐसे लगा कि उन्हें रोकना मुश्किल होगा। लेकिन एक नीची रहती शॉर्ट गेंद पर अपना फ़ेवरिट पुल शॉट मिसटाइम कर वह आउट हो गए। फिर से एक बड़ी पारी ना खेलने की निराशा उनके मन में ज़रूर होगी।

शुभमन गिल, 9.5: वैसे तो शुभमन गिल अब भारत के लिए तीनों फ़ॉर्मेट खेल रहे हैं, लेकिन वनडे उन्हें सबसे अधिक जम रहा है। पारी की शुरुआत के दौरान जब रोहित संघर्ष करते दिख रहे थे, उस दौरान शुभमन ने कई दर्शनीय स्ट्रोक लगाकर भारतीय पारी को चलायमान रखा। एक बार जब उन्होंने अपना अर्धशतक पूरा किया तो फिर शतक भी स्पष्ट दिखने लगा था। दुर्भाग्यपूर्ण रहा कि वह पिच के कारण नीची रही एक बैक ऑफ लेंथ गेंद पर अपना विकेट दे बैठे।

विराट कोहली, 10: विराट कोहली इस सीरीज़ में एक अलग लय में दिखे हैं। विश्व कप साल में यह भारत के लिए सुकून और विपक्षी टीमों के लिए सरदर्द की बात है। पहले वनडे में शतक लगाने के बाद भले ही दूसरे वनडे में उनका बल्ला ख़ामोश रहा, लेकिन तिरुवनंतपुरम में उन्होंने इसकी भी क़सर निकाल ली। वह पहले ही गेंद से एक बेहतरीन टच में नज़र आए। पहले 100 रन के दौरान उन्होंने टिपिकल विराट कोहली वनडे पारी खेली, लेकिन शतक बनने के बाद उन्होंने दिखाया कि वह अब भी सेकेंड गियर लगाना जानता है। पारी में लगाए गए आठ छक्के इसका ख़ूब संकेत देते हैं।

श्रेयस अय्यर, 8: शुभमन की तरह ही श्रेयस अय्यर भले ही तीनों फ़ॉर्मेट खेलते हैं, लेकिन वनडे उनका पसंदीदा फ़ॉर्मेट है। डेब्यू करने के बाद वह मैच-दर-मैच, साल-दर-साल इस फ़ॉर्मेट में निखर रहे हैं। अच्छी शुरुआत के बाद उनकी ज़िम्मेदारी थी कि वह भारतीय पारी को तेज़ करके अंत तक ले जाए। उन्होंने तेज़ी तो दिखाई लेकिन पारी को अंत तक नहीं ले जा सके।

के एल राहुल, 5: राहुल उस समय क्रीज़ पर आए थे, जब लोगों को लगा था कि सूर्यकुमार को आना चाहिए। वह 46वें ओवर में बल्लेबाज़ी के लिए आए, जब अच्छी शुरुआत के बाद भारत को एक तेज़ अंत की आवश्यकता थी। राहुल ने एक बाउंड्री शॉट लगाकर अपने इरादे तो जाहिर किए लेकिन इसके बाद बड़ा शॉट खेलने के चक्कर में दो बार मिसटाइम किया। पहली बार तो वह कैच से बच गए, लेकिन दूसरी बार कहां कोई बचता है।

सूर्यकुमार यादव, 5: टी20 में शतक बनाकर आ रहे सूर्यकुमार यादव को अंतिम वनडे में मौक़ा मिला था, लेकिन वह इसे ठीक तरह से भुना नहीं पाए। पहली ही गेंद पर उन्होंने अपना पसंदीदा स्कूप शॉट खेलने की कोशिश की लेकिन वह मिसटाइम हुआ। इसके बाद उन्होंने कुछ और शॉट आड़े-तिरछे और सीधे बल्ले से खेले, लेकिन आज उनके बल्ले पर गेंद ठीक से नहीं आ रही थी। इस दौरान श्रीलंकाई गेंदबाज़ों ने लगातार स्लोअर गेंदों का प्रयोग किया। हालांकि चार गेंद की पारी के आधार पर किसी को अंक देना थोड़ा सा अतिश्योक्तिपूर्ण है, लेकिन सूर्यकुमार ने हमें इसकी आदत दिला दी है कि हम हर दिन और हर गेंद पर उनसे चमत्कार की उम्मीद करें।

मोहम्मद सिराज, 10: अगर आप सोच रहे होंगे कि यह मैच सिर्फ़ विराट के नाम पर जाना जाएगा, तो आप ग़लत हैं। जो काम विराट ने बल्लेबाज़ी में किया, मोहम्मद सिराज ने वह काम गेंदबाज़ी में किया। उन्होंने पहले बाहर जाती गेंदों से श्रीलंकाई बल्लेबाज़ों को परेशान किया, फिर उनकी अंदर आती स्क्रंबल सीम गेंदों का जवाब भी श्रीलंकाई बल्लेबाज़ों के पास नहीं था। रही-सही कसर फ़ॉलो थ्रो में किए गए उनके डायरेक्ट थ्रो ने कर दी। उन्हें पूरे अंक नहीं मिलना, एक नाइंसाफ़ी होती।

मोहम्मद शमी, 8.5: टी20 विश्व कप के बाद मोहम्मद शमी टीम इंडिया में वापसी कर रहे थे, लेकिन पहले दो वनडे उनके नाम के अनुरूप नहीं गए थे। इस मैच में भी जहां सिराज ने पहली ही गेंद से श्रीलंकाई बल्लेबाज़ों को परेशान किया, वहीं शमी को पिच से तालमेल बिठाने में कुछ वक़्त लगा। हालांकि इसके बाद उन्होंने दो मेडेन ओवर किए और तीन महत्वपूर्ण विकेट भी लिया।

अक्षर पटेल, 6: जब आप सामने वाली टीम को इस तरह से हराते हैं तो ऐसा भी होता है कि कुछ खिलाड़ियों को कुछ करने का मैक़ा नहीं मिलेगा। अक्षर उन खिलाड़ियों में से एक रहे, जिन्हें गेंदबाज़ी और बल्लेबाज़ी का मौक़ा नहीं मिला। फ़ील्डिंग में उन्होंने एक कैच ज़रूर लपका।

वॉशिंगटन सुंदर, 6: वॉशिंगटन भी उन खिलाड़ियों में शामिल रहे, जिन्हें आज बल्लेबाज़ी और गेंदबाज़ी का मौक़ा नहीं मिला। देखा जाए तो भारत के तीन ही गेंदबाज़ों ने श्रीलंकाई पारी के ख़त्म कर दी, वो इसलिए क्योंकि चौथे गेंदबाज़ के रूप में श्रेयस अय्यर ने सिर्फ़ एक ओवर किया था।

कुलदीप यादव, 7: पावरप्ले में ही तेज़ गेंदबाज़ों ने विपक्षी टीम को ध्वस्त कर दिया था, तो पहले बदलाव के तौर पर आए कुलदीप के पास करने के लिए कुछ ख़ास था नहीं, लेकिन उन्होंने एक बेहतरीन गेंद पर श्रीलंकाई कप्तान को क्लीन बोल्ड कर और आख़िरी विकेट लेकर अपनी छाप छोड़ी।

दया सागर ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं। @dayasagar95