फ़ीचर्स

आंकड़े झूठ नहीं बोलते : पृथ्वी को नहीं भाता आईपीएल का दूसरा चरण

पंत इस सीज़न हर बार तेज़ गेंदबाज़ों का ही शिकार बने हैं

Rishabh Pant was bowled by Mohsin Khan for 44, Delhi Capitals vs Lucknow Super Giants, IPL 2022, Wankhede Stadium, Mumbai, May 1, 2022

मोहसिन ख़ान की गेंद पर चकमा खाते पंत  •  BCCI

गुरुवार को दिल्ली कैपिटल्स और सनराइज़र्स हैदराबाद के बीच रोचक मुक़ाबाला खेला जाना है। दिल्ली कैपिटल्स के सलामी बल्लेबाज़ डेविड वॉर्नर पहली बार अपनी पुरानी फ़्रैंचाइज़ी के सामने होंगे। वॉर्नर अभी भी सनराइज़र्स की ओर से सबसे अधिक 4014 रन बनाने वाले बल्लेबाज़ हैं। इस मुक़ाबले के मद्देनज़र कुछ ऐसे आंकड़ों पर नज़र डालते हैं, जो इस मैच की दशा और दिशा को प्रभावित करने का माद्दा रखते हैं।
शार्दुल और खलील की अच्छी ख़ातिरदारी करते हैं केन
सनराइज़र्स हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन, कुलदीप यादव और मुस्तफ़िज़ुर रहमान की गेंदों पर दो-दो बार आउट हो चुके हैं। दोनों के ख़िलाफ़ उनका स्ट्राइक रेट भी क्रमशः 116 और 114 का ही रहा है। भले ही वह शार्दुल ठाकुर के ख़िलाफ़ दो बार आउट हो चुके हैं, उन्होंने शार्दुल के विरुद्ध 162 के स्ट्राइक रेट से 50 गेंदों में 81 रन बनाए हैं। वहीं खलील अहमद की आठ गेंदों पर विलियमसन ने 263 के स्ट्राइक रेट से 21 रन बनाए हैं।
पृथ्वी को नहीं भाता आईपीएल का दूसरा चरण
आईपीएल के दूसरे चरण में पृथ्वी शॉ अपने शो को जारी नहीं रख पाते। दूसरे चरण में प्रवेश करते ही शॉ का प्रदर्शन तुलनात्मक रूप से ख़राब होने लग जाता है। आईपीएल 2019 से लेकर अब तक पहले चरण में कुल 28 मैच खेलते हुए उन्होंने 32 की औसत और 160 के स्ट्राइक रेट से 908 रन बनाए हैं, जबकि आठ अर्धशतक भी उनके नाम हैं। वहीं दूसरे चरण में खेले कुल 25 मुक़ाबलों में शॉ ने महज़ 16 की औसत और 126 के स्ट्राइक रेट से 411 रन बनाए हैं। इस दौरान शॉ सिर्फ़ दो बार ही 50 या उससे अधिक रन बना पाए हैं। इस सीज़न भी पहले सात मैचों में 254 रन बनाने वाले शॉ पिछले दो मैचों में सिर्फ़ पांच रन ही बना पाए हैं।
पंत के बल्ले को शांत कर देती है पेस की रफ़्तार
तेज़ गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ ऋषभ पंत इस सीज़न में सात बार (हर बार) आउट हुए हैं, जबकि तेज़ गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ उनकी औसत भी सिर्फ़ 14 की है। उन्होंने तेज़ गेंदबाज़ों के विरुद्ध 147 के स्ट्राइक रेट से 100 रन बनाए हैं। वहीं स्पिनर्स के ख़िलाफ़ उन्होंने 151 के स्ट्राइक रेट से 134 रन बनाए हैं। भुवनेश्वर के ख़िलाफ़ पंत 237 के स्ट्राइक रेट से रन बनाते हैं। आंद्रे रसल (243 का स्ट्राइक रेट) के बाद पंत ने ही भुवनेश्वर के ख़िलाफ़ सबसे अधिक स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं।
पावरप्ले में विकेट लेना दिल्ली के लिए सबसे बड़ी चुनौती
दिल्ली कैपिटल्स इस सीज़न पावरप्ले के दौरान सबसे ख़राब गेंदबाज़ी करने वाली टीमों में से एक है। दिल्ली के गेंदबाज़ सिर्फ़ 11 विकेट ही पावरप्ले में ले पाए हैं। पावरप्ले में उनका गेंदबाज़ी स्ट्राइक रेट भी 29.4 का है। पावरप्ले में दिल्ली से ख़राब प्रदर्शन सिर्फ़ रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के गेंदबाज़ों ने ही किया है। 3 मई के अंत तक बेंगलुरु के गेंदबाज़ों ने पावरप्ले में 32.7 के स्ट्राइक रेट से 11 विकेट झटके हैं।
पावरप्ले में हैदराबाद का प्रदर्शन तय करता है मैच की दिशा
वहीं दूसरी तरफ़ हैदराबाद की टीम को पावरप्ले में महारत हासिल है। पावरप्ले में विकेट मिलना हैदराबाद के लिए जीत के सूचक की तरह ही है। इस सीज़न पावरप्ले में विकेट लेने वाले छह मुक़ाबलों में से पांच मैच हैदराबाद ने जीते हैं। जबकि हारे हुए चार मुक़ाबलों में से तीन ऐसे मुक़ाबलों में उन्हें हार मिली जब वह पावरप्ले में एक भी विकेट नहीं ले पाए।

नवनीत झा (@imnot_nav) ESPNcricinfo हिंदी में ए़़डिटोरियल फ़्रीलांसर हैं।