मैच (17)
आईपीएल (1)
T20WC Warm-up (3)
County DIV1 (3)
County DIV2 (4)
CE Cup (3)
ENG v PAK (1)
INTER-PRO T20 (1)
ITA vs NL [W] (1)
ख़बरें

अब डीविलियर्स ने भी की सूर्यकुमार की तारीफ़, कहा- मुझसे तुलना बिल्कुल सही है

360 डिग्री बल्लेबाज़ ने कहा कि सूर्यकुमार अगर ऐसा लगातार पांच से 10 साल तक करने में सफल होते हैं, तो उनका नाम सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा

पिछले कुछ महीनों से भारतीय बल्लेबाज़ सूर्यकुमार यादव की तुलना साउथ अफ़्रीकी लीजेंड एबी डीविलियर्स से की जा रही है। ऐसा उनके 360 डिग्री खेल के लिए किया जा रहा है। अब डीविलियर्स ने ख़ुद सूर्यकुमार की प्रशंसा की है और कहा है कि वह अगर कंसिस्टेंट रहें तो उनका नाम क्रिकेट के इतिहास में सुनहरे पन्ने पर लिखा जाएगा।
न्यूज़ एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए डीविलियर्स ने कहा, "जो भी सूर्यकुमार की तुलना मुझसे कर रहे हैं, वे सही हैं। उन्हें बस अपने इस फ़ॉर्म को बरक़रार रखना होगा। अगर अगले पांच से 10 साल तक वह ऐसा निरंतर करते जाएंगे तो निश्चित रूप से उनका नाम क्रिकेट के इतिहास में सुनहरे पन्ने पर लिखा जाएगा। कोई भी खिलाड़ी जब मैदान पर जाकर खुलकर खेलता है, तो उसे देखना सुखद होता है। अभी सूर्या को देखने में वैसा ही मज़ा आ रहा है।"
सूर्यकुमार वर्तमान में आईसीसी रैंकिंग में नंबर एक बल्लेबाज़ हैं। यह उनका पहला ऑस्ट्रेलियाई दौरा है लेकिन वह इस विश्व कप के सबसे प्रभावशाली खिलाड़ियों में से हैं। ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ 25 गेंद में 61 रन की पारी खेलने वाले सूर्यकुमार ने बाएं हाथ के तेज़ गेंदबाज़ रिचर्ड एंगरावा की ऑफ़ स्टंप के बहुत बाहर की वाइड गेंदों पर भी शफ़ल करके स्कूप या स्वीप के साथ छक्का लगाया, जो स्क्वेयर नहीं बल्कि विकेट के पीछे गईं।
इस पारी के बाद सुनील गावस्कर ने भी सूर्यकुमार को 'नया 360-डिग्री बल्लेबाज़' कहा था। इंडिया टूडे से बात करते हुए गावस्कर ने कहा था, "सूर्या ने एक छक्का विकेटकीपर के बिल्कुल बाईं ओर से लगाया। इसके बाद जब गेंदबाज़ एंगल का प्रयोग करते हुए वाइड यॉर्कर गेंदें फेंकने की कोशिश करने लगा तब भी उन्होंने विकेट के पीछे शॉट लगाए। इसके अलावा उन्होंने लॉफ़्टेड कवर ड्राइव और एक स्ट्रेट ड्राइव भी लगाया। यह दिखाता है कि उनके किताब में क्रिकेट के हर शॉट्स हैं।"
हालांकि स्टार स्पोर्ट्स से बात करते हुए सूर्यकुमार ने कहा था कि दुनिया में एक ही डीविलियर्स है। उन्होंने कहा, "उनसे तुलना बेमानी है, मैं अपने तरीक़े से शॉट खेलने की कोशिश करता हूं। मैं क्रीज़ पर आख़िर तक बने रहने की कोशिश करता हूं ताकि मैं गेंद को उस दिशा में मार सकूं, जहां मारना चाहता हूं। मैं नेट्स पर भी इसी तरह अभ्यास करता हूं। जब मैं बल्लेबाज़ी करता हूं तो मेरी योजनाएं स्पष्ट होती हैं। मैं बस देखता हूं कि फ़ील्ड कहां-कहां लगाई गई है। मैं ताक़त के साथ शॉट खेलना पसंद नहीं करता, बस फ़ील्ड से खेलता हूं। मैं कुछ ज्यादा अलग करने की कोशिश नहीं करता।"
विश्व कप शुरू होने से पहले पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग ने भी सूर्यकुमार की तुलना डीविलियर्स से की थी।
उन्होंने कहा था, "सूर्या मैदान के चारों कोनों में 360 डिग्री शॉट खेलते हैं, जो एबी डीविलियर्स की तरह है। उनके पास लैप, लेट कट, हवाई फ़्लिक और रैंप जैसे कई अनोखे शॉट हैं, इसके अलावा वह सामने सीधा भी खेल सकते हैं। उनकी सबसे अच्छी बात यह है कि वह तेज़ गेंदबाज़ और स्पिनर दोनों को अच्छा खेलते हैं।"