मैच (16)
AFG v IRE (1)
WPL (2)
PSL 2024 (1)
NZ v AUS (1)
Nepal Tri-Nation (2)
Durham in ZIM (1)
QAT v HKG (1)
Sheffield Shield (3)
विश्व कप लीग 2 (1)
CWC Play-off (3)
ख़बरें

इंडिया अंडर-19 ने श्रीलंका को हराकर रिकॉर्ड आठवां एशिया कप ख़िताब जीता

स्पिनर ओस्तवाल, तांबे और सलामी बल्लेबाज़ रघुवंशी चमके, नौ विकेट से जीती भारतीय टीम

भारतीय अंडर-19 टीम ने रिकॉर्ड आठवीं बार जीता एशिया कप खिताब  •  ACC

भारतीय अंडर-19 टीम ने रिकॉर्ड आठवीं बार जीता एशिया कप खिताब  •  ACC

इंडिया अंडर-19 104 पर 1 (रघुवंशी 56*, रशीद 31*) ने श्रीलंका अंडर-19 106 पर 9 (ओस्तवाल 3-11, तांबे 2-23) को डीएलएस पद्धति से नौ विकेट से हराया
भारत ने शुक्रवार को दुबई में बारिश से प्रभावित फ़ाइनल में श्रीलंका को नौ विकेट से हराकर नौ संस्करणों में रिकॉर्ड आठवां अंडर-19 एशिया कप ख़िताब जीतकर एक यादगार उपलब्धि के साथ 2021 का अंत किया।
भारत की जीत के पीछे स्पिनर विक्की ओस्तवाल और कौशल तांबे और सलामी बल्लेबाज़ अंगकृष रघुवंशी का योगदान रहा। रघुवंशी 56 रन बनाकर नाबाद रहे।
भारत ने श्रीलंका को पहले बल्लेबाज़ी के लिए आमं​त्रित किया और स्पिनरों ने 38 ओवर के संशोधित कोटे में श्रीलंका को नौ विकेट पर 106 रन पर सीमित कर दिया। स्पिनरों ने आपस में पांच विकेट बांटे। बाएं हाथ के स्पिनर ओस्तवाल ने आठ ओवर में 11 विकेट देकर तीन विकेट लिए, जबकि ऑफ़ स्पिनर तांबे ने छह ओवर में 23 रन देकर दो विकेट लिए।
भारत ने पारी के चौथे ओवर में बाएं हाथ के तेज रवि कुमार ने सलामी बल्लेबाज़ चामिंडु विक्रमसिंघे को दो रन पर आउट कर दिया। इसके बाद तेज़ गेंदबाज़ों की जोड़ी राजवर्धन हगंरगेकर और कुमार ने श्रीलंका पर दबाव बनाया और उन्हें 10 ओवर में एक विकेट पर 15 रन ही बनाने दिए।
स्पिनरों ने जल्द ही आक्रमण किया और श्रीलंका का स्कोर सात विकेट पर 57 रन हो गया। भारी बारिश के कारण 33 ओवर के बाद दो घंटे के लिए खेल रुक गया और खेल को 38-ओवर प्रत्येक साइड कर दिया, जिसमें श्रीलंका ने सिर्फ़ 100 रन बनाए।
भारत को डीएलएस पद्धति के माध्यम से 32 ओवर में 102 रनों का संशोधित लक्ष्य निर्धारित किया गया था, जिसे उन्होंने 21.3 ओवरों में आसानी से हासिल कर लिया। पांचवें ओवर में हरनूर सिंह के पांच रन पर एलबीडब्ल्यू आउट होने के बाद, शेख़ रशीद और रघुवंशी ने टीम को ख़िताबी जीत दिलाने के लिए 96 रनों की अटूट साझेदारी की। रघुवंशी की पारी में सात चौके शामिल थे, जबकि रशीद ने 49 गेंदों में 31 रन की अपनी पारी में दो चौके लगाए।
रशीद और हरनूर ने चार मैचों में क्रमशः 133 और 131 रन के साथ शीर्ष दो प्रमुख स्कोरर के रूप में टूर्नामेंट का अंत किया। टूर्नामेंट में भारत की एकमात्र हार पाकिस्तान से हुई।