मैच (12)
IND v ENG (1)
BPL 2023 (2)
रणजी ट्रॉफ़ी (4)
CWC Play-off (3)
PSL 2024 (1)
WPL (1)
फ़ीचर्स

वेस्टइंडीज़ के वे खिलाड़ी जो भारत को आने वाली सीरीज़ में परेशान कर सकते हैं

भारत को वेस्टइंडीज़ में पांच मैचों की टी20 और तीन मैचों की वनडे सीरीज़ खेलना है

सीपीएल 2021 में गुडाकेश ने अपने प्रदर्शन से सबको काफ़ी प्रभावित किया था  •  Getty Images

सीपीएल 2021 में गुडाकेश ने अपने प्रदर्शन से सबको काफ़ी प्रभावित किया था  •  Getty Images

एक सप्ताह पहले ही वेस्टइंडीज़ की टीम बांग्लादेश के ख़िलाफ़ वनडे सीरीज़ खेल रही थी। इसके तुरंत बाद उनकी टीम भारत के ख़िलाफ़ भी वनडे सीरीज़ खेलने के लिए तैयार हो रही है। वेस्टइंडीज़ की टीम में जेसन होल्डर, निकोलस पूरन और रोवमन पॉवेल जैसे कुछ परिचित खिलाड़ी हैं, जो बढ़िया प्रदर्शन कर सकते हैं। लेकिन कुछ ऐसे भी खिलाड़ी हैं जिनसे काफ़ी लोग परिचित नहीं हैं। हालांकि वह भारत को परेशान करने का माद्दा रखते हैं। आइए उन खिलाड़ियों पर नज़र डालते हैं।
अकील की गेंदबाज़ी में अदभुत सटीकता है। हालांकि एक बात ज़रूर है कि बांग्लादेश के ख़िलाफ़ उनका प्रदर्शन कुछ ख़ास नहीं रहा था। इस दौरान उन्होंने तीन टी20 और तीन वनडे में सिर्फ़ तीन ही विकेट लिए थे। इसके बावजूद अकील फ़िलहल वनडे सुपर लीग में सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ हैं। उन्होंने 20 मैचों में कुल 35 विकेट झटके हैं।
अगर अकील वापस अपनी लय में लौटते हैं तो वह भारतीय टीम के लिए काफ़ी ख़तरनाक साबित हो सकते हैं। भारतीय टीम में दाएं हाथ के काफ़ी बल्लेबाज़ हैं और यह बात अकील को काफ़ी पसंद आएगी। यही नहीं बल्लेबाज़ी में भी वह कमाल कर सकते हैं। उनके पास सिक्सर मारने की भी अच्छी-ख़ासी क्षमता है। वह अपने प्रिय गेंदबाज़ रवींद्र जाडेजा के ख़िलाफ़ कुछ बड़े शॉट्स लगा सकते हैं।
अपने पहले वनडे सीरीज़ में बाएं हाथ के स्पिनर गुडाकेश मोती ने कुल छह विकेट झटके थे। इस दौरान उनकी इकॉनमी सिर्फ़ तीन की थी। सीपीएल 2021 में भी उनका प्रदर्शन काफ़ी बढ़िया था। गुयाना की तरफ़ से खेलते हुए उन्होंने कई बार काफ़ी क़िफ़ायती गेंदबाज़ी की और विकेट भी झटके। सीपीएल में गुयाना की कप्तानी निकोलस पूरन करते हैं। इसी कारण से उन्हें पता है कि गुडाकेश को कब और कहां प्रयोग में लाना है। सीपीएल 2021 में गुडाकेश ने सिर्फ़ छह ही मैच खेले थे लेकिन इसके बावजूद वह टी20 विश्व कप में वेस्टइंडीज़ के नेट बोलर थे।
भारत के ख़िलाफ़ खेले जाने वाले वनडे सीरीज़ में एंडरसन फ़िलिप और रोमारियो शेफ़र्ड टीम में नहीं हैं। इसी कारण से जेडेन सील्स को खेलना का मौक़ा मिल सकता है। जेडेन ने बांग्लादेश के ख़िलाफ़ सिर्फ़ एक ही वनडे खेलना था, जिसमें उन्होंने 3.5 ओवर में 26 रन दिए थे। लंकन प्रीमियर लीग 2021 में जेडेन ने सात मैचों में 15 विकेट लिए थे। इसमें सबसे ख़ास बात यह थी कि एलपीएल 2021 में ज़्यादातर पिचें स्पिनरों को मदद कर रही थी। इसके बावजूद जेडेन ने बढ़िया तेज़ गेंदबाज़ी की थी। जेडेन शुरुआती ओवरों में गेंद को स्विंग करा सकते हैं, बीच के ओवर में हार्ड लेंथ पर गेंदबाज़ी कर सकते हैं और अंतिम ओवरों के दौरान बढ़िया यॉर्कर भी डाल सकते हैं।
वास्तव में ब्रैंडन किंग एक पहेली की तरह हैं। उन्होंने मूल रूप से जमैका के लिए मध्य क्रम के बल्लेबाज़ के रूप में शुरुआत की थी लेकिन उस समय अमेज़ॉन वारियर्स के कोच जोहान बोथा ने उन्हें सीपीएल 2019 में एक सलामी बल्लेबाज़ के रूप में बदल दिया। किंग ने 12 पारियों में 496 रनों के साथ सीपीएल ज़बरदस्त प्रदर्शन किया। इस दौरान उनका औसत 55.11 का और स्ट्राइक रेट लगभग 150 का था, जिसमें पहले क्वालीफ़ायर में नाबाद 132 रनों की पारी शामिल है। हालांकि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में ब्रैंडन का पदार्पन उतना सहज नहीं रहा है। टीम प्रबंधन लगातार उनके बल्लेबाज़ क्रम में बदलाव कर रही है। ब्रैंडन ने हाल ही में कहा कि वह शीर्ष छह में कहीं भी बल्लेबाज़ी करने के लिए तैयार हैं।
कैरेबियन के एक डच विदेशी क्षेत्र सेंट मार्टिन में जन्मे कीसी कार्टी नीदरलैंड के लिए खेलने के लिए योग्य थे, लेकिन एक समय ऐसा आया कि उन्होंने नीदरलैंड के ख़िलाफ़ वेस्टइंडीज़ के लिए अपना अंतर्राष्ट्रीय पदार्पण किया।
अपने पहले ही मैच में कार्टी ने ब्रैंडन के साथ 118 रन की अटूट साझेदारी की, जिसमें उन्होंने 66 गेंदों में नाबाद 43 रनों का योगदान दिया, जिससे वेस्टइंडीज़ 216 रनों का पीछा करने में सफल रहा। इस मैच में वेस्टइंडीज़ ने 99 के स्कोर पर पांच विकेट गंवा दिए थे।
कार्टी पहले अपने पारी को आराम से आगे बढ़ाते हैं, फिर वह आक्रामक शॉट लगाते हैं। पाकिस्तान के ख़िलाफ़ भी उन्होंने अपने इस शैली क्रिकेट का मुज़ाहिरा किया था। साल 2016 में वेस्टइंडीज़ ने अंडर19 विश्व कप में भारत के ख़िलाफ़ काफ़ी बढ़िया प्रदर्शन किया था। उस दौरान उन्हें प्लेयर ऑफ़ दे मैच भी चुना गया था। भारत के ख़िलाफ़ एक बार फिर से कार्टी के पास अंतर्राष्ट्रीय सफलता हासिल करने का मौक़ा है।

देवरायण मुथु ESPNcricinfo के सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।