मैच (16)
IPL (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (4)
Women's Tri-Series (1)
ख़बरें

ऑस्ट्रेलिया ने अफ़ग़ानिस्तान से खेलने से मना किया तो राशिद ने दी बीबीएल से हटने की धमकी

अफ़ग़ानिस्तान बोर्ड ने कहा, इस मुद्दे पर आईसीसी को लिखेंगे

राशिद ख़ान 2017-18 से बीबीएल खेल रहे हैं  •  Kelly Barnes/Getty Images

राशिद ख़ान 2017-18 से बीबीएल खेल रहे हैं  •  Kelly Barnes/Getty Images

अफ़ग़ानिस्तान के दिग्गज लेग स्पिनर राशिद ख़ान, जो ऑस्ट्रेलिया के बिग बैश लीग (बीबीएल) में एडिलेड स्ट्राइकर्स के लिए खेलते हैं, ने बीबीएल से भविष्य में अपना नाम वापस लेने की बात कही है। राशिद ने यह घोषणा क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) के उस बयान के जवाब में की है जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने अफ़ग़ानिस्तान के तालिबान शासन द्वारा देश के महिलाओं के शिक्षा के ख़िलाफ़ अभियान को कारण बताते हुए मार्च में निर्धारित वनडे सीरीज़ खेलने से इनकार कर दिया है।

राशिद ने ट्विटर पर लिखा, "यह सुनकर बहुत खेद हुआ कि ऑस्ट्रेलिया मार्च में हमारे साथ खेलने से इनकार कर रहा है। मैं अपने देश के लिए खेलने में बहुत गर्व महसूस करता हूं और हमने पिछले कुछ सालों में काफ़ी विकास किया है। सीए के इस फ़ैसले से उस विकास पर बुरा असर पड़ेगा। यदि ऑस्ट्रेलिया को अफ़ग़ानिस्तान में खेलने में असहजता लगती है तो मैं भी बीबीएल में अपनी मौजूदगी से किसी को असहज नहीं करना चाहूंगा। अत: मैं उस प्रतियोगिता में अपने भविष्य को लेकर सोचूंगा।"

राशिद ने इस सीज़न बीबीएल में आठ मैच खेली हैं लेकिन इसके बाद वह एसए20 के उद्घाटन सीज़न में माय केपटाउन की कप्तानी करने साउथ अफ़्रीका के लिए निकल चुके हैं। दोनों टूर्नामेंट के कार्यक्रम को देखते हुए उनके इस सीज़न ऑस्ट्रेलिया लौटने की कोई उम्मीद भी नहीं जताई जा रही।

सीए की घोषणा के तुरंत बाद अफ़ग़ानिस्तान क्रिकेट बोर्ड (एसीबी) ने इस बयान को "जघन्य" बताया और तब से कई अफ़ग़ानिस्तानी खिलाड़ियों ने सोशल मीडिया के ज़रिए अपना विरोध भी साझा किया है। एसीबी ने कहा है कि वह आईसीसी को लिखेंगे और शिकायत करेंगे कि सीए "खेल भावना के आगे राजनैतिक हित को रख रहा है" और "दोनों देशों की दोस्ती में दरार डालने के साथ ही खेल की संपूर्णता के साथ खिलवाड़" कर रहा है।

गुरुवार को ही सीए ने मार्च में यूएई में खेली जाने वाली तीन मैच की वनडे सीरीज़ से अपना नाम वापस ले लिया था। यह निर्णय उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई सरकार के परामर्श के बाद ही लिया था। अफ़ग़ानिस्तान की शासकीय संगठन तालिबान ने हाल ही में अपने देश में महिलाओ की विश्वविद्यालय में पढ़ाई पर पाबंदी लगा दी थी। इस फ़ैसले को आईसीसी सीईओ जेफ़ एलर्डिस ने "चिंताजनक" बताया है।

एसीबी ने अपने बयान में बताया है कि अगर ऑस्ट्रेलिया अपने फ़ैसला वापस नहीं लेता तो "बिग बैश लीग में अफ़ग़निस्तानी खिलाड़ियों के उपलब्धता" पर उन्हें पुनर्विचार करना होगा। हालांकि उन्होंने अपने पूरे बयान में अफ़ग़ानिस्तान में महिला क्रिकेट के भविष्य पर कोई टिप्पणी नहीं की है।

यह दो साल में दूसरी बार हुआ है कि ऑस्ट्रेलिया ने तालिबान शासन की महिलाओं को लेकर नीति का वास्ता देते हुए अफ़ग़ानिस्तान के साथ किसी द्विपक्षीय मुक़ाबले से अपना नाम वापस ले लिया है। नवंबर 2021 में होबार्ट में एकमात्र टेस्ट के साथ भी ठीक ऐसा ही हुआ था। हालांकि ऑस्ट्रेलिया और अफ़ग़ानिस्तान 2022 के टी20 विश्व कप में एडिलेड में भी भिड़े थे। भविष्य के दौरों में दोनों देशों के बीच दो बार और भिड़ंत होने की संभावना है। अगस्त 2024 में न्यूट्रल वेन्यू में तीन टी20 के अलावा अगस्त 2026 में अफ़ग़ानिस्तान, ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर एक टेस्ट और तीन टी20 मुक़ाबले भी खेलेगा।