मैच (19)
IPL (3)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (6)
Women's Tri-Series (1)
ख़बरें

ऐंड्रयू मक्डॉनल्ड : पहले दिन कैरी द्वारा रोहित के स्टंपिंग से इंदौर टेस्ट पर हमने नियंत्रण पाया

ऑस्ट्रेलियाई कोच ने नेथन लायन के आठ विकेटों पर कहा, "हमेशा टीम को वापस पटरी पर लाने के लिए किसी एक व्यक्ति से विशेष प्रदर्शन की दरकार होती है"

ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख कोच ऐंड्रयू मक्डॉनल्ड यह मानते हैं कि इंदौर टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया की जीत यह दर्शाती है कि टीम में एक ऐसा कोर ग्रुप बन गया है जो उपमहाद्वीप में जीत हासिल करने के लिए ज़रूरी पहलुओं को लगातार सीख रहा है और भविष्य में यह ऑस्ट्रेलियाई टीम को काफ़ी मदद पहुंचा सकता है।
दिल्ली में मिली हार ने बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफ़ी को जीतने की ऑस्ट्रेलियाई टीम की उम्मीदों पर विराम लगा दिया लेकिन तीसरे टेस्ट से पहले मिले लंबे ब्रेक से टीम को दोबारा एकजुट होने का पर्याप्त समय मिला। इंदौर में ऑस्ट्रेलिया ने न सिर्फ़ विदेशी सरज़मीं पर अपनी यादगार जीतों में से एक जीत हासिल की बल्कि उन्होंने भारत को उन्हीं के जाल में फंसा लिया। वह भी एक ऐसी पिच पर जिसे आईसीसी ने खेलने के लिहाज़ से एक ख़राब पिच क़रार दिया।
इस जीत के साथ साथ पाकिस्तान और श्रीलंका के विरुद्ध टेस्ट में मिली सफलताओं के परिणामस्वरूप ऑस्ट्रेलिया ने अब वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फ़ाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है और अब उनके पास अहमदाबाद में इस सीरीज़ को बराबर करने का सुनहरा अवसर है।
2027 से पहले अब ऑस्ट्रेलिया को भारत में कोई टेस्ट सीरीज़ नहीं खेलनी है लेकिन उन्हें 2025 में श्रीलंका का दौरा करना है। ट्रैविस हेड, कैमरन ग्रीन, मार्नस लाबुशेन और टॉड मर्फ़ी जैसे खिलाड़ियों के पास आगे उपमहाद्वीप में कई दौरे हैं।
मक्डॉनल्ड ने कहा, "उपमहाद्वीप में हर खिलाड़ी की यात्रा एक ही बिंदु से शुरू होती है और मुझे विश्वास है कि खिलाड़ियों का एक ग्रुप है, जो अगली बार न सिर्फ़ अधिक अनुभव के साथ यहां वापस आएगा बल्कि यहां मिलने वाली चुनौतियों के लिए तैयार भी होगा। उपमहाद्वीप के अन्य हिस्सों की तुलना में यहां आने पर अलग चुनौतियों का सामना करना पड़ता है।"
इंदौर टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया की पारी एक बार फिर इस सीरीज़ में ढह गई और उन्होंने अंतिम छह विकेट महज़ 11 रनों पर ही गंवा दिए। जिस वजह से वह भारत पर एक बड़ी बढ़त बनाने में असफल रहे। हालांकि नेथन लायन के आठ विकेटों ने मुक़ाबले पर ऑस्ट्रेलिया की पकड़ ढीली नहीं होने दी और उन्हें अंतिम पारी में 76 रनों का आसान लक्ष्य मिला।
मक्डॉनल्ड ने कहा, "आप जब भारत में खेलते हैं तो सफलता हासिल करने के लिए आपको परफ़ेक्ट या उसके आसपास होना पड़ता है। मुझे लगता है 11 रनों के भीतर छह विकेट गंवाने के अलावा हम मैच में उस परफ़ेक्शन के आसपास रहे। क़िस्मत ने भी हमारा साथ दिया। मार्नस (लाबुशेन) नो बॉल पर बोल्ड हो गए थे। उस समय उनका क्रीज़ पर बने रहना बहुत ज़रूरी था, इसी वजह से एक बड़ी पार्टनरशिप पनप पाई। इसके अलावा हमने अवसरों को भी बखूबी भुनाया। उस्मान (ख़्वाजा) का उड़ता हुआ कैच और लेग स्लिप पर (स्टीवन) स्मिथ का कैच का इस मुक़ाबले को जीतने में बड़ा योगदान है। दिल्ली टेस्ट से यदि हम तुलना करें तो स्मिथ ने फ़र्स्ट स्लिप और मैट रेनशॉ ने लेग स्लिप पर एक कैच टपका दिया था, जो हमारे ऊपर भारी पड़ गया। एक घंटे के अंतराल में सबकुछ अस्त-व्यस्त हो गया और अच्छा क्रिकेट खेलने के बावजूद हमें इसकी क़ीमत टेस्ट मैच गंवा कर चुकानी पड़ी।"
उन्होंने आगे कहा, "दिल्ली की हार से सबक लेते हुए हमने इस पर विचार किया कि हमें आगे क्या करने की ज़रूरत है? क्या हमारे पास एक अच्छी टीम है? हां। हमने 11 पर छह विकेट गंवा दिए लेकिन अब हम इसके बारे में कुछ नहीं कर सकते थे। फिर नेथन लायन मैदान में जाते हैं और अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर डालते हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि टीम को पटरी पर लाने के लिए हमेशा किसी एक खिलाड़ी से ख़ास प्रदर्शन की दरकार होती है।"
लायन, मैथ्यू कुनमन, हेड और ख़्वाजा के उम्दा प्रदर्शनों के बीच मक्डॉनल्ड ने ऐलेक्स कैरी की विकेटकीपिंग की प्रशंसा करते हुए कहा, "कैरी की विकेटकीपिंग को लेकर चर्चा काफ़ी कम हुई है। यदि पहली सुबह कैरी ने रोहित शर्मा को स्टंप नहीं किया होता तो संभवतः मैच किसी और दिशा में भी जा सकता था। मुझे लगता है कि हम बहुत जल्दी विकेटकीपरों की आलोचना करने पर उतारू हो जाते हैं। मुझे लगता है कि पहले दिन के खेल ने ही हमें मैच पर नियंत्रित स्थापित कर के दिया था। केएस भरत ने भी कुछ हाफ़ चांसेस छोड़े थे, वहीं ऐसी गेंदें जो पहली स्लिप तक कैरी कर सकती थीं उन्हें भरत के पैर ने रोक लिया। इसलिए मैं उसे ही मैच का सबसे अहम पल मानता हूं।"
मक्डॉनल्ड ने ऐसी पिचों पर टॉस की भूमिका पर टिप्पणी करते हुए कहा, "आप देख सकते हैं कि तीनों ही मुक़ाबलों के परिणाम टॉस के विरुद्ध आए हैं। पहले बल्लेबाज़ी करने वाली टीम को हार का सामना करना पड़ा है, जो कम ही देखने में मिलता है। मुझे लगता है कि परिस्थिति जितनी मुश्किल हो जाती है, टॉस उतना ही अप्रासंगिक होते चले जाता है।"
तीसरे टेस्ट मैच से पहले रोहित ने कहा था कि यदि भारत इंदौर में ही वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फ़ाइनल में जगह बनाने में सफल हो जाता है तो वह अहमदाबाद में एक हरी भरी पिच की मांग कर सकते हैं। हालांकि भारत को अब ओवल में फ़ाइनल खेलना सुनिश्चित करने के लिए अहमदाबाद में जीतना ज़रूरी है। भले ही श्रीलंका इस समय जारी न्यूज़ीलैंड के विरुद्ध टेस्ट मैच को नहीं जीत पाता है तब भी परिणाम प्रभावित नहीं होगा।
मक्डॉनल्ड मानते हैं कि अब दबाव भारत की तरफ़ शिफ़्ट हो चुका है। उन्होंने कहा, "मुझे नहीं लगता कि हम इस चीज़ को लेकर आश्वस्त रह सकते हैं कि अहमदाबाद में हमें खेलने के लिए कैसी पिच दी जाएगी? लेकिन हमने भारतीय ख़ेमे में दबाव तो बना दिया है। इसका पूरा श्रेय लड़कों को जाता है। यह एक ऐसे समूह के लिए किसी इनाम से कम नहीं है जिसके लिए बीते कुछ हफ़्ते काफ़ी चुनौती भरे रहे हैं।"

ऐंड्रयू मक्ग्लैशन ESPNcricinfo के डिप्टी एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo के एडिटोरियल फ़्रीलांसर नवनीत झा ने किया है।