मैच (9)
द हंड्रेड (पुरुष) (2)
CWC League 2 (1)
द हंड्रेड (महिला) (2)
महाराजा टी20 (2)
ओमान बनाम बहरीन (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (1)
फ़ीचर्स

आंकड़े: इंग्लैंड ने लगातार तीन बार किया टेस्ट क्रिकेट में 250 प्लस रन चेज़

जॉनी बेयरस्टो की विध्वंसक बल्लेबाज़ी

Ben Stokes scored a 55-ball half-century and added 179 with Jonny Bairstow, England vs New Zealand, 2nd Test, Nottingham, 5th day, June 14, 2022

जॉनी बेयरस्टो और बेन स्टोक्स ने न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ी आक्रामक अंदाज़ में बल्लेबाज़ी की  •  Getty Images

250 रन को चेज़ करते हुए इंग्लैंड की हैट्रिक
इंग्लैंड ने न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ तीनों मैचों में सफल रन चेज़ करते हुए क्लीन स्वीप किया - लॉर्ड्स में 277, ट्रेंट ब्रिज में 299 और हेडिंग्ली में 296। यह पहली बार है जब किसी टीम ने लगातार तीन टेस्ट मैचों में 250 से अधिक रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए जीत हासिल की हो। किसी टेस्ट सीरीज़ में 250 से अधिक रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए तीन मैच जीतने का कारनामा करने वाली इंग्लैंड पहली टीम भी बन गई है।
इंग्लैंड ने इस सीरीज़ में ट्रेंट ब्रिज और हेडिंग्ली में क्रमशः 5.98 और 5.44 के रन रेट से चेज़ किया। दोनों मैचों में टेस्ट इतिहास में सबसे तेज़ 250 से अधिक रन के लक्ष्य का चेज़ किया गया था।
असल में एक सीरीज़ में तीन बार 200 से अधिक रन के लक्ष्य का चेज़ करने का केवल एक ही उदाहरण रहा है- 1951-52 में ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज़ के बीच, जहां मेज़बान टीम दो बार जीती थी और मेहमान टीम एक बार।
इंग्लैंड की तूफ़ानी बल्लेबाज़ी
इंग्लैंड ने इस सीरीज़ में अपनी स्कोरिंग रेट के साथ नए कीर्तिमान स्थापित किए। तीन मैचों में इंग्लैंड का रन रेट 4.54 का रहा, जो टेस्ट सीरीज़ में पांच या उससे अधिक बार बल्लेबाज़ी करने वाली टीमों में सबसे अधिक थी। उनकी आक्रामक बल्लेबाज़ी ने ट्रेंट ब्रिज में लक्ष्य का चेज़ करवाया जहां उन्होंने 299 रन केवल 50 ओवरों में बना लिए, जो 300 से अधिक गेंदों की दूसरी सबसे तेज़ टेस्ट पारी साबित हुई।
हेडिंग्ली में इंग्लैंड का स्कोरिंग रेट सीमित ओवरों के क्रिकेट जैसा था। उन्होंने दोनों पारियों में 5.4 के रन रेट से 656 रन बनाए, जो टेस्ट मैच में किसी भी टीम (न्यूनतम 500 से ज़्यादा रन) द्वारा सर्वाधिक रन रेट था। हेडिंग्ली में इंग्लैंड का रन रेट दोनों पारियों में क्रमशः 5.37 और 5.44 था। ये रन रेट के मामले में शीर्ष सात सबसे तेज़ टेस्ट पारियों में शामिल है।
बेयरस्टो का धमाका
इंग्लैंड की तेज़ स्कोरिंग रेट जॉनी बेयरस्टो की सीरीज़ की अंतिम तीन पारियों में विध्वंसक बल्लेबाज़ी से मेल खाती है। बेयरस्टो ने पहली तीन पारियों में केवल 25 रन बनाए, लेकिन उसके बाद की तीन पारियों में उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड के लिए दूसरा सबसे तेज़ अर्धशतक, दूसरा सबसे तेज़ शतक और दूसरा सबसे तेज़ 150 रन बनाए। इन तीनों पारियों में इंग्लैंड का रन रेट पांच से ज़्यादा था।
बेयरस्टो ने सीरीज़ में 120.12 के स्ट्राइक रेट से 394 रन बनाए। यह एक सीरीज़ में 300 से ज़्यादा गेंदों का सामना करने वाले किसी भी बल्लेबाज़ द्वारा सर्वाधिक है। बेन स्टोक्स इस सूची में दूसरे स्थान पर हैं, जिन्होंने 2016 में साउथ अफ़्रीका के ख़िलाफ़ 109.01 के स्ट्राइक रेट से 411 रन बनाए थे। किसी एक सीरीज़ में 300 से ज़्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों में शाहिद अफ़रीदी के 2006 में भारत के ख़िलाफ़ 121.32 के बाद बेयरस्टो का स्ट्राइक रेट दूसरा सबसे अच्छा है।
मिचेल का कमाल
डैरिल मिचेल इस दौरे पर न्यूज़ीलैंड के लिए स्टार रहे। उन्होंने 538 रन बनाए, जो तीन मैचों की सीरीज़ में किसी भी न्यूज़ीलैंड के खिलाड़ी द्वारा सर्वाधिक है। मिचेल के रन एक टेस्ट सीरीज़ में उनके देश के लिए चौथा सर्वाधिक था। इस दौरे पर उनके तीन शतक भी न्यूज़ीलैंड के लिए रिकॉर्ड थे। उन्होंने ऐंड्रयू जोंस और रॉस टेलर की बराबरी की।
मिचेल ने सीरीज़ के पहले दिन केवल 13 रन बनाए, लेकिन बाक़ी बचे पांच पारियों में 50 प्लस स्कोर बनाकर वह टेस्ट क्रिकेट में लगातार पांच 50 प्लस स्कोर बनाने वाले न्यूज़ीलैंड के पहले बल्लेबाज़ बने। मिचेल के 538 रन भी किसी बल्लेबाज़ द्वारा एक सीरीज़ में दूसरे सबसे ज़्यादा रन हैं जहां उनकी टीम सारे मैच हार गई। यह रिकॉर्ड ब्रायन लारा के नाम है, 2001 में श्रीलंका के ख़िलाफ़ अपनी टीम की 0-3 की हार में उन्होंने 688 रन बनाए थे।
न्यूज़ीलैंड की जानदार जोड़ी
टॉम ब्लंडल ने बल्ले से मिचेल की सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। पूरी सीरीज़ में उन्होंने मिचेल और निचले क्रम के बल्लेबाज़ों के साथ लंबी साझेदारियां की। दोनों ने छह पारियों में 724 रन जोड़े, जो किसी टेस्ट सीरीज़ में न्यूज़ीलैंड की किसी भी जोड़ी द्वारा सर्वाधिक रन हैं। वे एक सीरीज़ में चार शतकीय साझेदारी करने वाले न्यूज़ीलैंड की पहली जोड़ी भी बने, और कुल मिलाकर सिर्फ़ पांचवीं जोड़ी। इन दोनों ने 1417 गेंदों का सामना किया, जो किसी भी टेस्ट सीरीज़ (जहां गेंदों का डेटा उपलब्ध है) में किसी भी जोड़ी द्वारा दूसरा सर्वाधिक है।

संपत बंडारुल्ली ESPNcricinfo में स्टैटिशियन हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांसर कुणाल किशोर ने किया है।