मैच (6)
ज़िम्बाब्वे बनाम वेस्टइंडीज़ (1)
एसए20 (2)
आईएलटी20 (1)
सुपर स्मैश (1)
सुपर स्मैश (W) (1)
ख़बरें

वेड : पिछले विश्व कप में इंग्लैंड से पिटने के बाद दिमाग़ की बत्ती जल उठी थी

विकेटकीपर का मानना है कि रविवार से शुरू हो रही ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड सीरीज़, आतिशी बल्लेबाज़ी का बढ़िया उदाहरण होगी

बटलर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ उस मैच में शानदार पारी खेली थी  •  Getty Images

बटलर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ उस मैच में शानदार पारी खेली थी  •  Getty Images

इंग्लैंड के ख़िलाफ़ तीन मैच के टी20 सीरीज़ की पूर्व संध्या पर ऑस्ट्रेलियाई विकेटकीपर मैथ्यू वेड ने बताया है कि पिछले साल के टी20 विश्व कप के शुरुआती दौर में इंग्लैंड से मिली करारी हार ने ऑस्ट्रेलिया की सोच में एक ज़बरदस्त परिवर्तन की नींव रखी थी।
ऑस्ट्रेलिया ने अपने अभियान की शुरुआत में साउथ अफ़्रीका और श्रीलंका को परास्त किया था लेकिन उसके बाद इंग्लैंड ने उन्हें बुरी तरह पारी में 50 गेंद शेष रहते हराया। वेड के अनुसार इस हार से ऑस्ट्रेलिया की "दिमाग़ की बत्ती जल उठी"। यहां से ग्रुप मुक़ाबलों में उन्होंने बांग्लादेश और वेस्टइंडीज़ को आसानी से हराया। इसके बाद सेमीफ़ाइनल में वेड और मार्कस स्टॉयनिस ने पाकिस्तान पर जीत दिलाने में मदद की। फिर फ़ाइनल में न्यूज़ीलैंड के विरुद्ध जीत के मुख्य नायक रहे थे मिचेल मार्श।
पर्थ में पहुंचकर वेड ने कहा, "उस विश्व कप मैच में उन्होंने हमारे धागे खोल दिए थे और तब से हमने अपने क्रिकेट की शैली को पूरी तरह बदल दिया है। आप कह सकते हैं कि उस एक परिणाम ने हमारे दिमाग़ की बत्ती जला दी कि हमें अपने खेलने के अंदाज़ को बदलना था।"
विश्व कप से पहले और पूर्व कोच जस्टिन लैंगर के रहते ऑस्ट्रेलिया टी20 क्रिकेट में पांच विशेषज्ञ गेंदबाज़ों को खिलाता था। हालांकि इस नीति को विश्व कप के शुरुआत तक टीम ख़ारिज कर चुका था। उन्होंने इंग्लैंड के विरुद्ध यही संयोजन रखना सही समझा और स्पिनर ऐश्टन एगार को एकादश में शामिल किया। इंग्लैंड की गेंदबाज़ी के विरुद्ध 21 रन पर चार विकेट गंवाने के बाद उनके लिए मैच में वापसी का कोई रास्ता नहीं रहा और इस नीति को फिर से झुठला दिया गया।
इंग्लैंड की ही तरह ऑस्ट्रेलिया अब बल्लेबाज़ी में गहराई रखना पसंद करता है और वेड ख़ुद सातवें नंबर पर आते हैं। ऑस्ट्रेलिया अब चार विशेषज्ञ गेंदबाज़ों के साथ अपनी टीम में शामिल ऑलराउंडरों पर पूरा भरोसा जताता है।
वेड ने कहा, "उनके साथ अब दो-दो हाथ करने में मज़ा आएगा। हम बल्ले से ज़्यादा आक्रामक हो गए हैं और सात बल्लेबाज़ों के होते हम जानते हैं कि हम अधिक जोख़िम ले सकते हैं। हम अब निरंतरता के साथ 180-200 के रेंज में स्कोर करते हैं और इंग्लैंड के विरुद्ध आपको ऐसे स्कोर बनाने ही पड़ते हैं। पिछले विश्व कप के बाद से हम ऐसी टीम बन चुके हैं जो बड़े स्कोर बना भी सकता है और चेज़ भी कर लेता है। इस बारे में इंग्लैंड ही कई वर्षों से और टीमों के लिए मानदंड बनाते आ रहा है। मुझे पता है वह विश्व कप में हार गए थे लेकिन तब तक के सर्वोत्तम टीम उन्हीं की थी। यह हमारे लिए एक अच्छी परीक्षा होगी।"
पिछले साल के विश्व कप दल से ऑस्ट्रेलिया के पास इस वर्ष टिम डेविड का जुड़ना एक बड़ा बदलाव हुआ है। डेविड ने इस बल्लेबाज़ी की आक्रामकता में इज़ाफ़ा किया है और यह उन्होंने हैदराबाद में भारत के विरुद्ध 27 गेंदों में 54 और शुक्रवार को गाबा में वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ 20 गेंदों में 42 की पारियों के साथ सिद्ध किया है।
वेड ने कहा, "हमें पता था कि हम टिमी [डेविड] से क्या अपेक्षा रख सकते हैं। फिर भी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में आते ही ऐसी विस्फोटक बल्लेबाज़ी करना आसान नहीं। उनके पास टी20 क्रिकेट खेलने का अच्छा अनुभव पहले से ही है। इसके बाद मिच मार्श और स्टॉयनिस की वापसी से हमारी बल्लेबाज़ी के आक्रामक क्षमता में चार चांद लग जाएंगे।"