ख़बरें

माइकल होल्डिंग ने क्रिकेट कॉमेंट्री से लिया संन्यास

उनकी कॉमेंट्री और विश्लेषण का अंदाज़ कुछ वैसा ही था जैसा उनका बेमिसाल क्रिकेट करियर

Michael Holding on commentary duty, South Africa v England, 3rd Test, Port Elizabeth, 5th day, January 20, 2020

माइकल होल्डिंग को अब हम क्रिकेट कॉमेंट्री करते हुए नहीं सुन पाएंगे  •  Getty Images

माइकल होल्डिंग का बेहतरीन ब्रॉडकास्टिंग करियर और उनकी शानदार आवाज़ इस सीज़न के बाद हम दोबारा नहीं सुन या देख पाएंगे। पिछले दो दशकों से होल्डिंग स्काई स्पोर्ट्स की कॉमेंट्री टीम के साथ जुड़े रहे हैं, एक ऐसी बेमिसाल भूमिका जैसा कभी उनका क्रिकेट करियर रहा था। होल्डिंग को अपने वक़्त का बेहतरीन तेज़ गेंदबाज़ माना जाता था, उन्होंने वेस्टइंडीज़ के लिए 1975 से 1987 के बीच 60 टेस्ट और 102 वनडे मैच खेले थे। होल्डिंग उस वेस्टइंडीज़ टीम का अभिन्न अंग रहे थे जिसने उस समय क्रिकेट जगत पर राज किया था।
होल्डिंग के कॉमेंट्री करियर का आग़ाज़ 1988 में कैरेबियाई सरज़मीं पर ही हुआ था और देखते ही देखते उनका अंदाज़ पूरी दुनिया में पसंद किया जाने लगा। जिस तरह से उनके क्रिकेट करियर में उनके ख़तरनाक रनअप को देखते हुए उनका नाम 'व्हिस्परिंग डेथ' पड़ गया था, कुछ उसी अंदाज़ में 66 वर्षीय होल्डिंग को साफ़ विचारों और सटीक टिप्पणी के लिए भी जाना जाता है। उन्होंने कभी भी घरेलू टी20 लीग में कॉमेंट्री नहीं की, क्योंकि वह हमेशा कहते आए कि ये क्रिकेट है ही नहीं।
आधुनिक दौर के क्रिकेट दर्शकों ने पिछले साल होल्डिंग का एक अलग रूप भी देखा, जब 'ब्लैक लाइव्स मैटर मूवमेंट' के दौरान होल्डिंग ने मुखर होकर अपनी बात रखी। स्काई स्पोर्ट्स के साथ उन्होंने जिस लाजवाब अंदाज़ में जातिवाद और रंगभेद के ख़िलाफ़ दिल छूने वाली बात रखी वह पिछले साल ब्रॉडकास्ट दुनिया में न सिर्फ़ सूर्ख़ियों में रही, बल्कि इंग्लैंड में उन्हें दो ब्रॉडकास्ट अवॉर्ड से भी नवाज़ा गया।
होल्डिंग ने कभी अपने जज़्बातों को बाहर आने से रोका नहीं, जो पाकिस्तानी फ़ैन्स और दर्शक कभी भूल नहीं सकते। जब मोहम्मद आमिर और मोहम्मद आसिफ़ के स्पॉट फ़िक्सिंग में शामिल होने की बात सामने आई थी तो उस समय लॉर्ड्स टेस्ट में माइकल होल्डिंग ने इसपर खुलकर अपनी बात रखी थी।
ये माइकल होल्डिंग का शानदार किरदार और बेहतरीन अंदाज़ ही है कि जब उनकी राष्ट्रीय टीम कोई मैच नहीं खेल रही होती है तो भी वह उन चंद पूर्व क्रिकेटरों में से हैं जो क्रिकेट कॉमेंट्री कर रहे होते हैं। होल्डिंग हाल ही में इंग्लैंड और भारत के बीच खेली गई टेस्ट सीरीज़ में भी पैनल में मौजूद थे। हालांकि उन्होंने पिछले साल ही इस बात का संकेत दे दिया था कि उनका ब्रॉडकास्टिंग करियर अब ज़्यादा लंबा नहीं है।
"मैं नहीं बता सकता कि 2020 के बाद और मैं कितने दिनों तक कॉमेंट्री कर पाऊंगा, मुझे नहीं लगता कि ये ज़्यादा दिन चलेगा। मेरी उम्र भी हो रही है, मैं अब 66 साल का हो रहा हूं और अब वह 34, 46 या 56 साल वाली बात मुझमें नहीं हैं। मैंने स्काई स्पोर्ट्स को कह दिया है कि मैं एक साल से ज़्यादा अब आपको नहीं दे पाऊंगा, अगर इस साल क्रिकेट नहीं हुआ तो शायद मैं 2021 का सोच सकता हूं। क्योंकि मैं इसी तरह तो स्काई को नहीं छोड़ सकता, एक ऐसी कंपनी जिसने मेरे लिए काफ़ी कुछ किया है।"

अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन (@imsyedhussain) ने किया है।