सौराष्ट्र के बल्लेबाज़ अवि बरोत का शुक्रवार रात को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह महज़ 29 साल के थे। सौराष्ट्र क्रिकेट असोसिएशन ने अपनी वेबसाइट पर इस घटना की जानकारी देते हुए कहा, "वह एक बेहतरीन क्रिकेटर थे।"

गुजरात से अपना क्रिकेट करियर शुरू करने वाले अवि बाद में सौराष्ट्र आ गए थे। बीच में उन्होंने हरियाणा का प्रतिनिधित्व भी किया, लेकिन बाद में वह सौराष्ट्र वापस आ गए थे।

बरोत ने 38 प्रथम श्रेणी मैचों में 48.49 की औसत से 1547 रन बनाए थे, वहीं 38 लिस्ट ए मैचों में उनके नाम 28.61 की औसत से 1030 रन है। 20 टी20 मैचों में उनके नाम 37.73 की औसत से 717 रन है।

सौराष्ट्र क्रिकेट असोसिएशन के अध्यक्ष और पूर्व कप्तान जयदेव शाह ने कहा, "यह बहुत दुःखद और स्तब्ध कर देने वाला है। वह एक बेहतरीन खिलाड़ी थे। हाल के कुछ मैचों में उन्होंने बढ़िया प्रदर्शन किया था। स्वभाव से भी वह बहुत अच्छे इंसान थे। सौराष्ट्र क्रिकेट गहरे सदमे में हैं।"

2015-16 और 2018-19 में जब सौराष्ट्र की टीम रणजी ट्रॉफ़ी के फ़ाइनल तक पहुंची थी, तो बरोत उसके अहम सदस्य थे। 2019-20 में जब सौराष्ट्र की टीम ने पहली बार यह ख़िताब जीता तो उन्होंने 34.33 की औसत से तीन अर्धशतकों की मदद से नौ पारियों में 309 रन बनाए थे।

बरोत को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने साल 2011 का सर्वश्रेष्ठ अंडर-19 क्रिकेटर भी चुना था। तब उन्होंने गुजरात के लिए खेलते हुए कूच बेहार ट्राफ़ी में चार शतक और तीन अर्धशतकों की मदद से टीम को ख़िताब दिलाया था। 2020-21 के सैयद मुश्ताक़ अली ट्रॉफ़ी में उन्होंने गोवा के ख़िलाफ़ सिर्फ़ 53 गेंदों में 122 रन बनाकर सुर्खियां बटोरी थी।