मैच (6)
त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
भारत बनाम साउथ अफ़्रीका (1)
एशिया कप (2)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (महिला) (1)
ऑस्ट्रेलिया बनाम वेस्टइंडीज़ (1)
ख़बरें

डॉमिंगो : ग़लतियों को दोहराना गेंदबाज़ों का सबसे निराशाजनक पहलू

बांग्लादेश के मुख्य कोच का मानना कि वनडे मैच जीतने के लिए बल्लेबाज़ों को भी लंबी पारी खेलनी पड़ेगी

A disappointed Bangladesh team walks off after Zimbabwe's come-from-behind chase, Zimbabwe vs Bangladesh, 2nd ODI, Harare, August 7, 2022

बांग्लादेश तीन मैचों की वनडे सीरीज़ में पहला दो मैच हार चुकी है  •  AFP/Getty Images

बांग्लादेश के मुख्य कोच रसल डॉमिंगो ने कहा है कि ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ वनडे सीरीज़ में गेंदबाज़ों ने पूर्वनिर्धारित योजनाओं का पालन नहीं किया और अपनी ग़लतियों को बार-बार दोहराया। इसकी वजह से बांग्लादेश ने ज़िम्बाब्वे को 304 और 291 के लक्ष्य देने के बावजूद दोनों वनडे मैच हारने के वजह से टी20 सीरीज़ के बाद वनडे सीरीज़ भी गंवा बैठे।
यह बांग्लादेश के लिए पिछले 18 महीनों में किसी वनडे सीरीज़ में सबसे निराशाजनक गेंदबाज़ी रही है। इससे कुछ समय पहले इसी गेंदबाज़ी क्रम ने ज़बरदस्त प्रदर्शन देते हुए वेस्टइंडीज़ को 3-0 से हराया था। डॉमिंगो ने कहा, "ज़िम्बाब्वे 62 पर तीन और 49 पर चार पर था लेकिन हमारे खिलाड़ी उसके बाद दबाव को नहीं झेल पाए। हमने फ़ील्ड पर कई ग़लतियां की, काफ़ी ख़राब गेंदें डालीं और फ़ील्ड के हिसाब से गेंदबाज़ी नहीं की। खिलाड़ी कोशिश पूरी कर रहे हैं लेकिन अभी भी उन्हें बहुत कुछ सीखना है।
"वह पुरानी ग़लतियों को दोहरा रहे हैं और यही सबसे ज़्यादा निराशाजनक पहलू है। जिन पिचों पर स्कोर का बचाव करना कठिन हो वहां अच्छी टीमों आपको इन ग़लतियों की सज़ा देंगी। यहां भी उन्हें चार बेहतरीन शतक [सिकंदर रज़ा के दो, और इनोसेंट काइया और रेजिस चकाब्वा का एक-एक] जुर्माना के तौर पर मिला। ज़िम्बाब्वे, और ख़ासकर सिकंदर की, जितनी भी तारीफ़ की जाए वह कम है। दबाव में बेहतर दो लगातार शतक वनडे क्रिकेट में कम ही दिखे होंगे। हमने दोनों मैच में 20 रन कम बनाए। दोपहर में गेंदबाज़ी करते हुए रन रोकना बहुत कठिन होता है। ज़िम्बाब्वे दोनों मैचों में जीत के हक़दार थे।"
डॉमिंगो के अनुसार बल्लेबाज़ी में बांग्लादेश अधिक रन बनाता अगर कोई बल्लेबाज़ लंबी पारी खेल लेता। पहले वनडे में शीर्ष चार में सभी खिलाड़ियों ने अर्धशतक लगाए लेकिन रिटायर्ड हर्ट हुए लिटन कुमार दास 81 रन के साथ सर्वाधिक स्कोरर रहे। दूसरे मुक़ाबले में महमुदउल्लाह की 80 रनों की अविजित पारी टीम के लिए सर्वाधिक रही। उन्होंने कहा, "पिछले डेढ़ साल के प्रदर्शन को देखते हुए वनडे टीम की आलोचना करना मुश्किल है। उनके परिणाम अच्छे रहे हैं और उन्होंने कुछ शानदार मैच जीते हैं। हालांकि यहां (ज़िम्बाब्वे का) दूसरा बैटिंग करना एक बड़ा कारण साबित हुआ लेकिन फिर भी हमें सुधारने की ज़रूरत है। ज़िम्बाब्वे के चार शतक के सामने हमारा एक भी नहीं है। मैच जिताऊ स्कोर खड़े करने के लिए आपको शतक जड़ने होते हैं और यह एक बड़ी सीख रही है। विश्व कप अभी भी एक साल से अधिक दूर है और सौभाग्य से यह सीरीज़ वनडे सुपर लीग का हिस्सा नहीं है।"
डॉमिंगो ने लिटन और मुस्तफ़िज़ुर रहमान के चोटिल होने की वजह से बाहर होना भी दूसरे वनडे में हार का एक कारण बताया। उन्होंने कहा, "इस दौरे पर दोनों प्रारूपों में कुछ अनुभवी खिलाड़ी मौजूद नहीं थे। शाकिब [जो टी20 में भी नहीं खेले], मुस्तफ़िज़ुर और लिटन आज नहीं खेले। मैं आशा करता हूं वह जल्दी ही लौटेंगे। हमारी टी20 टीम काफ़ी अनुभवहीन है और खिलाड़ियों में आत्मविश्वास की कमी है। हमने बल्लेबाज़ी में थोड़ा सुधार देखा है लेकिन यह पर्याप्त नहीं। इस प्रारूप में गतिशीलता मिलना केवल एक या दो जीत की बात है।"

मोहम्मद इसामi ESPNcricinfo के बांग्लादेशी संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सहायक एडिटर और स्थानीय भाषा लीड देबायन सेन ने किया है।