मैच (8)
भारत बनाम साउथ अफ़्रीका (1)
वेस्टइंडीज़ बनाम न्यूज़ीलैंड (महिला) (1)
त्रिकोणीय सीरीज़ (1)
एशिया कप (4)
ऑस्ट्रेलिया बनाम वेस्टइंडीज़ (1)
ख़बरें

तमीम: हमें कैच छोड़ने की क़ीमत चुकानी पड़ी

ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ पहले वनडे मैच में चार कैच ड्रॉप और ग्राउंड फ़ील्डिंग ने बांग्लादेश को नुक़सान पहुंचाया

Innocent Kaia completes a single, Zimbabwe vs Bangladesh, 1st ODI, Harare, August 5, 2022

तमीम इक़बाल: "जहां डॉट गेंदों से हम दबाव बना सकते थे वहां हमने सिंगल आसानी से दिए"  •  AFP/Getty Images

बांग्लादेश के वनडे कप्तान तमीम इक़बाल ने बांग्लादेश के ज़िम्बाब्वे के हाथों मिली नौ सालों में पहली वनडे हार की मुख्य ज़िम्मेदारी अपनी टीम की कमज़ोर फ़ील्डिंग और ख़ासकर कैचिंग पर डाली है। मेहमान टीम ने दो विकेट पर 303 बनाने के बावजूद हरारे में खेला गया वनडे मैच हारा और चार बार कैच ड्रॉप करने के अलावा फ़ील्डिंग में भी कई ग़लतियां की।
ज़िम्बाब्वे के लिए सिकंदर रज़ा और इनोसेंट काइया दोनों ने शतक लगाए और रज़ा को 43 के व्यक्तिगत स्कोर पर सब्स्टिट्यूट फ़ील्डर तैजुल इस्लाम ने ड्रॉप किया। इसके बाद शोरिफ़ुल इस्लाम के एक ही ओवर में दो बार काइया को जीवनदान दिए गए।
तमीम ने कहा, "हमें अपने संपूर्ण फ़ील्डिंग प्रयास का ख़ामियाज़ा भुगतना पड़ा। हमने कई आसान रन दिए। जहां डॉट गेंदों से हम दबाव बना सकते थे वहां हमने सिंगल आसानी से दिए। हारने पर आप कई चीज़ों पर नज़र डाल सकते हैं। हम कैच ड्रॉप करते हुए या ख़राब फ़ील्डिंग करते हुए भी कई बार बच गए हैं लेकिन आज ऐसा हो ना सका।"
आगे उन्होंने कहा, "मैं कुछ दिनों से कह रहा हूं कि हम बहुत कैच ड्रॉप करते हैं और एक दिन यह आदत हमें भारी पड़ेगी। शायद आज ही वह दिन था। हम कैच ड्रॉप करते हुए भी जीतते आए हैं लेकिन इतनी सपाट पिच पर आप चार कैच टपकाकर मैच नहीं जीत सकते। अगर विकेट पर गेंदबाज़ों के लिए मदद हो तो आप जानते हैं कि एक कैच ड्रॉप होने पर भी और मौक़े आपके हाथ लगेंगे। लेकिन अच्छी पिच पर आपकी विपत्ति बढ़ ही जाती है। हमने चार कैच छोड़े और यह जीत और हार के बीच में अंतर साबित हुआ।"
पहले वनडे में बांग्लादेश ने बाएं हाथ के स्पिनर की जगह नंबर सात पर एक अतिरिक्त बल्लेबाज़ खिलाना उचित समझा। ऐतिहासिक रिकॉर्ड कहते हैं कि ज़िम्बाब्वे ने हमेशा बांग्लादेश के बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ संघर्ष किया है। तमीम ने समझाया कि टीम प्रबंधन की सोच यह थी कि टॉस जीतने पर सुबह के परिस्थितियों का फ़ायदा उठाते हुए तेज़ गेंदबाज़ों को पहले मौक़ा दिया जाए।
"हम 15-20 रन और स्कोरबोर्ड पर डाल सकते थे। हम उस वक़्त एक विकेट पर 250 पर थे और थोड़ी और आक्रामक बल्लेबाज़ी से 15-20 रन और बना सकते थे। हमारी शुरुआत अच्छी थी लेकिन अंत बेहतर हो सकता था। यह किसी व्यक्ति विशेष की आलोचना नहीं है।"
तमीम इक़बाल
उन्होंने कहा, "मैं इसे (बाएं हाथ के स्पिनर को बाहर रखना) ग़लत फ़ैसला नहीं कहूंगा। अगर हमने पहले गेंदबाज़ी की होती तो कहानी कुछ और हो सकती थी। लेकिन हमें अगले मुक़ाबले के लिए टीम संयोजन पर सोचना होगा। हमारे पास मौक़े थे जिनका हमने फ़ायदा नहीं उठाया। मैं ऐसा व्यक्ति नहीं हूं जो और चीज़ों को दोष देगा। ग़लतियां हमने ही की और इनकी ज़िम्मेदारी भी हमें ही लेनी पड़ेगी।"
तमीम के अनुसार बांग्लादेश 45 ओवरों में अपने आप को एक मज़बूत स्थिति में पाकर डेथ ओवर्स में और रन बना सकता था।
उन्होंने कहा, "हम 15-20 रन और स्कोरबोर्ड पर डाल सकते थे। हम उस वक़्त एक विकेट पर 250 पर थे और थोड़ी और आक्रामक बल्लेबाज़ी से 15-20 रन और बना सकते थे। हमारी शुरुआत अच्छी थी लेकिन अंत बेहतर हो सकता था। यह किसी व्यक्ति विशेष की आलोचना नहीं है। हम एक समूह के रूप में 15-20 रन और बना सकते थे।"

मोहम्मद इसाम ESPNcricinfo के बांग्लादेशी संवाददाता हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सहायक एडिटर और स्थानीय भाषा लीड देबायन सेन ने किया है।