पाकिस्तान के ख़िलाफ़ शुक्रवार से चटगांव में शुरू होने वाले पहले टेस्ट से बांग्लादेश की टीम से शाकिब अल हसन बाहर हो गए हैं। इस फ़ैसले की बीसीबी की मेडिकल टीम से उम्मीद थी, क्योंकि शाकिब टी20 विश्व कप के दौरान लगी हैमस्ट्रिंग की चोट से उबर नहीं पाए थे।

प्रमुख चयनकर्ता मिन्हाजुल आबेदिन ने कहा कि शाकिब को ठीक होने में समय लग सकता है, इसका मतलब है कि वह पाकिस्तान के ख़िलाफ़ पूरी टेस्ट सीरीज़ से बाहर रह सकते हैं।

आबेदिन ने कहा, "शाकिब की हैमस्ट्रिंग की चोट पूरी तरह से सही नहीं हुई है। शाकिब को अभी रिहैब की आवश्यकता है। हमारे फ़िज़ियो लगातार उनकी देखरेख कर रहे हैं। वह पहले टेस्ट के लिए उपलब्ध नहीं होंगे। हम इस बारे में भी आश्वस्त नहीं है कि वह दूसरा टेस्ट खेल पाएंगे। फ़िज़ियो ही हमें इसकी जानकारी देंगे। हमने जब से 16 सदस्यीय टीम चुनी है तब से हमने बिना उनकी स्थिति जाने शाकिब की जगह किसी को नहीं चुना है।"

शाकिब टी20 विश्व कप में बांग्लादेश के आख़िरी दो मैच भी नहीं खेले थे। इसके अलावा वह पाकिस्तान के ख़िलाफ़ तीन टी20 मैचों की सीरीज़ में भी टीम का हिस्सा नहीं थे। एक साल के प्रतिबंध से वापसी के बाद शाकिब ने विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का केवल एक टेस्ट फ़रवरी में वेस्टइंडीज़ के ख़िलाफ़ खेला है, उस मैच में भी वह बीच में चोटिल हो गए थे। जुलाई में ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ शाकिब पिछली बार हरारे टेस्ट में उतरे थे।

बांग्लादेश पहले ही टेस्ट सीरीज़ में तमीम इक़बाल के बिना खेल रहा है, क्योंकि वह अपनी अंगूठे की चोट से उबरने की कोशिश कर रहे हें। तस्कीन अहमद और शोरिफ़ुल इस्लाम भी चोट के कारण चटगांव टेस्ट से बाहर हो गए हैं। तस्कीन को पाकिस्तान के ख़िलाफ़ तीसरे टी20 में हाथ में चोट लगी थी जबकि शोरिफ़ुल को दूसरे मैच में ही कमर की चोट लगी थी।

पाकिस्तान के ख़िलाफ़ यह टेस्ट सीरीज़ बांग्लादेश की इस विश्व टेस्ट चैंपियनशिप चक्र में पहली सीरीज़ होगी। उन्हें अगले साल घर में श्रीलंका और भारत की भी मेज़बानी करनी है। इसके अलावा उन्हें साउथ अफ़्रीका, वेस्टइंडीज़ और न्यूज़ीलैंड का दौरा करना है।