मैच (15)
IPL (3)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
Women's Tri-Series (1)
ख़बरें

रोहित : एकादश में प्रयोग हमारी विश्व कप तैयारियों का हिस्सा

भारतीय कप्तान एशिया कप में मिली दो लगातार हार से चिंतित नहीं हैं

भारत को एशिया कप सुपर 4 के दो लगातार मैचों में अंतिम ओवर में हार का सामना करना पड़ा। दोनों मैंचों में भारत को टॉस और मैच दोनों में हार मिली। दोनों मैचों में भारत की मध्य क्रम बल्लेबाज़ी और डेथ ओवर गेंदबाज़ी साधारण रही।
कोई भी टीम इसको लेकर चिंतित होती लेकिन भारतीय कप्तान रोहित शर्मा के मुताबिक उन्हें अधिक चिंतित होने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि ये सब टी20 विश्व कप की तैयारियों और प्रयोगों का हिस्सा हैं, जहां पर कभी प्रयोग सफल और कभी असफल होते हैं, टीम को कभी जीत और कभी हार मिलती है।
उन्होंने कहा, "मुझे नहीं लगता कि कोई गड़बड़ है। ऐसा बाहर से दिखता है लेकिन हम ऐसा नहीं सोच रहे हैं। जब आप हारते हैं तो ऐसे सवाल पूछे जाते हैं, यह नॉर्मल है। लेकिन जहां तक टीम की बात है, आप ख़ुद ड्रेसिंग रूम में जाकर देख लिजिए, सब लड़के एकदम रिलैक्स हैं। हार हो या जीत हो, हमें ऐसा ही माहौल चाहिए और हमने इसको लेकर बहुत मेहनत की है। अगर ड्रेसिंग रूम का माहौल अच्छा रहता है तो मैदान पर भी आपको अच्छा प्रदर्शन देखने को मिलेगा। विश्व कप से पहले यह ज़रूरी है कि ड्रेसिंग रूम का माहौल अच्छा रहे, खिलाड़ियों को उनके प्रदर्शन या जीत-हार पर ना जज किया जाए। यहां पर जो भी खिलाड़ी हैं, वे अच्छे हैं, हमें बस निरंतरता की ज़रूरत है।"
रोहित ने एक बार फिर दोहराया कि टी20 विश्व कप के लिए 90-95% टीम सुनिश्चित है और जो वे प्रयोग कर रहे हैं, उसका लक्ष्य सर्वश्रेष्ठ एकादश को सुनिश्चित करना है। हालांकि इसी सप्ताह की शुरूआत में टीम के कोच राहुल द्रविड़ ने कहा था कि टीम अब कोई प्रयोग नहीं कर रही है।
पिछले दो मैचों में भारत सिर्फ़ दो मुख्य तेज़ गेंदबाज़ों के साथ उतरा है। रवींद्र जाडेजा की अनुपस्थिति में वे दो मुख्य स्पिनर्स और एक पार्टटाइम विकल्प दीपक हुड्डा के साथ गए हैं, लेकिन हुड्डा को एक भी ओवर गेंदबाज़ी करने को नहीं मिला।
रोहित ने कहा, "जब आप प्रयोगों की बात करते हैं तो हां, हम निश्चित रूप से कुछ-कुछ प्रयोग कर रहे हैं। एशिया कप से पहले हम चार तेज़ गेंदबाज़ों और दो स्पिनरों के साथ खेल रहे थे। मैं हमेशा से यह देखना चाहता था कि अगर हम तीन तेज़ गेंदबाज़ और दो स्पिनरों व एक स्पिन ऑलराउंडर के साथ उतरते हैं तो क्या होता है। जब आप किसी अच्छी टीम के ख़िलाफ़ खेल रहे होते हैं तो आपको ख़ुद को चुनौती देनी होती है।"
" पिछले कुछ सीरीज़ में हमने कई प्रयोग किए हैं और हमें कुछ सवालों का जवाब भी मिला है। हम इन प्रयोगों को आगे भी जारी रखना चाहेंगे ताकि हमें विश्व कप के लिए सर्वश्रेष्ठ एकादश मिल सके।"
रोहित शर्मा
दीपक हुड्डा को गेंदबाज़ी ना कराने के सवाल पर रोहित ने कहा, "उनके दोनों दाएं हाथ के बल्लेबाज़ विकेट पर लंबे समय तक टिक गए और यह हुड्डा को गेंदबाज़ी पर लाने का ठीक समय नहीं था। हम उस समय विकेट लेने के लिए सोच रहे थे और हमारे पास हमारे दो आक्रामक स्पिनर अश्विन और चहल का विकल्प था। हां, अगर हमें जल्दी सफलता मिल जाती तो हम हुड्डा को गेंदबाज़ी देते। यही हमारी योजना थी।"
ऋषभ पंत को दिनेश कार्तिक पर वरीयता देने के सवाल पर उन्होंने कहा, "हम मध्य क्रम में एक बाएं हाथ का बल्लेबाज़ चाहते थे, इसलिए पंत एकादश का हिस्सा थे। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि कार्तिक अच्छे फ़ॉर्म में नहीं हैं या उन्हें बाहर कर दिया गया है। हम एकादश को लेकर बहुत लचीले हैं और विपक्षी टीम व परिस्थितियों के आधार पर इसमें बदलाव करते रहेंगे। चार-पांच बल्लेबाज़ों की जगह तो निश्चित है, लेकिन हमेशा एक-दो जगह ऐसी रहेगी, जहां बदलाव होते रहेंगे।"

शशांक किशोर ESPNcricinfo में सीनियर सब एडिटर हैं, अनुवाद ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो हिंदी के दया सागर ने किया है