मैच (13)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
PSL 2024 (1)
WPL (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Sheffield Shield (3)
CWC Play-off (3)
ख़बरें

बीसीसीआई ने अंपायरों के लिए ए प्लस श्रेणी की शुरुआत की

ए प्लस और ए श्रेणी के अंपायरों को प्रथम श्रेणी मैच के लिए प्रतिदिन 40,000 रुपये का भुगतान किया जाएगा

अंपायर नितिन मेनन और अनिल चौधरी अब ए प्लस श्रेणी में हैं  •  BCCI

अंपायर नितिन मेनन और अनिल चौधरी अब ए प्लस श्रेणी में हैं  •  BCCI

आईसीसी एलीट पैनल के सदस्य नितिन मेनन उन दस अधिकारिक लोगों में शामिल हैं जिन्हें बीसीसीाई के अंपायरों की नई शुरू की गई ए प्लस श्रेणी में शामिल किया गया है। अन्य में जो चार अंतर्राष्ट्रीय अंपायर शामिल हैं वह हैं अनिल चौधरी, मदनगोपाल जयरामन, वीरेंद्र शर्मा और केएन अनंतापद्मनाभन
रोहन पंडित, निखिल पटवर्धन, सदाशिव अय्यर, उल्हास गांधे और नवदीप सिंह सिद्धू भी ए प्लस श्रेणी का हिस्सा हैं।
सी शमशुद्दीन सहित 20 अंपायर ए ग्रुप में हैं, जबकि ग्रुप बी में 60, ग्रुप सी में 46 और ग्रुप डी में 11 अंपायर हैं, जो 60-65 आयु वर्ग में आता है। पूर्व अंतर्राष्ट्रीय अंपायर के हरिहरन, सुधीर आसनानी और अमीश साहेबा और बीसीसीआई अंपायरों की उप-समिति के सदस्यों द्वारा किए गए कार्यों के बाद गुरुवार को एपेक्स काउंसिल की बैठक में पूरी सूची पेश की गई।
ए प्लस और ए श्रेणी वाले अंपायरों को प्रथम श्रेणी मैच के लिए प्रतिदिन 40,000 रुपये का भुगतान किया जाएगा, जबकि बी और सी श्रेणी वाले अंपायरों को प्रति दिन 30,000 रुपये मिलेंगे। हालांकि सूची को "अंपायरों के उन्नयन" के रूप में प्रस्तुत किया गया था, बीसीसीआई के एक अधिकारी ने पीटीआई को स्पष्ट किया कि बोर्ड ने ग्रुप्स बनाए हैं।
अधिकारी ने कहा, "यह ग्रेडिंग नहीं है। ए प्लस नई श्रेणी का समूह है। कोई कह सकता है, ए प्लस और ए में सर्वश्रेष्ठ भारतीय अंपायर होंगे। बी और सी श्रेणी के अंपायर भी अच्छे हैं।"
"जब रणजी ट्रॉफ़ी के साथ शुरू होने वाले शीर्ष घरेलू आयोजनों में ड्यूटीज़ सौंपने की बात आती है, तो समूहवार वरीयता दी जाएगी। 2021-2022 सीज़न के प्रदर्शन की समीक्षा के बाद ग्रुपिंग की गई है।"
कोविड -19 के ख़तरे को कम करने के साथ, बीसीसीआई ने दो साल बाद 2022-23 में पूर्ण घरेलू सत्र आयोजित करने का निर्णय लिया है। वह पुरुष और महिला क्रिकेट के विभिन्न आयु वर्गों में 1832 मैचों का आयोजन करने की योजना बना रहा है, जो एक अतिविशाल प्रयोग है।
आईपीएल में भारतीय अंपायरों के स्टैंडर्ड की अक्सर आलोचना की जाती है। केवल एक भारतीय, मेनन, वर्तमान में आईसीसी एलीट पैनल का हिस्सा हैं।
अधिक अंपायरों के सर्वोच्च लेवल पर पहुंचने के बारे में पूछे जाने पर बीसीसीआई अधिकारी ने कहा: "हम एलीट पैनल पर बहुत अधिक ज़ोर देते हैं। एलीट पैनल में सिर्फ़ इंग्लैंड के तीन अंपायर हैं, ऑस्ट्रेलिया के दो और बाक़ियों के केवल एक हैं। ध्यान सभी स्तरों पर अंपायरिंग के स्टैंडर्ड में सुधार पर होना चाहिए।"

अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के एडिटोरियल फ़्रीलांसर कुणाल किशोर ने किया है। @ImKunalKishore