राहुल द्रविड़ भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम के प्रमुख कोच बनने की दौड़ में सबसे आगे चल रहे हैं और इसकी पूरी संभावना है कि रवि शास्त्री का टी20 विश्वकप के बाद जैसे ही कार्यभार ख़त्म होगा द्रविड़ उनकी जगह ले लेंगे। ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो को जानकारी मिली है कि नवंबर में न्यूज़ीलैंड के भारत दौरे के साथ ही पूर्व भारतीय कप्तान के कंधों पर ये बड़ी ज़िम्मेदारी आ जाएगी।

शुरू से ही भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की पहली पसंद द्रविड़ ही थे और हमेशा से इसका फ़ैसला द्रविड़ के ऊपर ही था कि वह कोच बनना चाहते हैं या नहीं। बीसीसीआई के सूत्रों से इस बात की जानकारी मिली है कि द्रविड़ को इस बात के लिए मना लिया गया है और जैसे ही वह कोच पद के लिए आवेदन करते हैं तो बीसीसीआई फिर किसी और के बारे में नहीं सोचेगा।

बीसीसीआई के कई आलाधिकारी पिछले कुछ महीनों से द्रविड़ के साथ बातचीत कर रहे थे और इस बात को तब और भी बल मिला था जब श्रीलंका दौरे पर वह अंतरिम कोच बने थे। जुलाई में भारत की दूसरे दर्जे की टीम श्रीलंका में सीमित ओवर क्रिकेट खेलने गई थी, जब मुख्य खिलाड़ी और प्रमुख कोच रवि शास्त्री इंग्लैंड दौरे पर टेस्ट सीरीज़ का हिस्सा थे।

द्रविड़ अपने घर, बेंगलुरु में स्थित बीसीसीआई की राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) के 2019 से ही निदेशक हैं, और उससे पहले से भी वह भारत की अंडर-19 और ए टीम के भी कोच हैं।

प्रमुख कोच के साथ-साथ बीसीसीआई ने बल्लेबाज़ी, गेंदबाज़ी और फ़ील्डिंग कोच के लिए भी वैकेंसी निकाली है, क्योंकि शास्त्री के अलावा विक्रम राठौर, भरत अरुण और आर श्रीधर का कार्यकाल भी टी20 विश्वकप के बाद ख़त्म हो रहा है। ईएसपीएनक्रिकइंफ़ों को ये भी जानकारी मिली है कि एनसीए और इंडिया-ए, अंडर-19 में द्रविड़ के डिप्टी पारस महाम्ब्रे भारतीय क्रिकेट टीम के गेंदबाज़ी कोच बन सकते हैं।

अगस्त 2019 में क्रिकेट सलाहकार समिति जिसकी अध्यक्षता कपिल देव कर रहे थे, उन्होंने रवि शास्त्री को दो सालों के लिए प्रमुख कोच नियुक्त किया था। इस समिति में अंशुमन गायकवाड़ और पूर्व भारतीय महिला कप्तान शांता रंगास्वामी भी शामिल थीं।

अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन ने किया है