मैच (9)
एशिया कप (2)
MLC (2)
Women's Hundred (1)
TNPL (2)
Men's Hundred (1)
विश्व कप लीग 2 (1)
ख़बरें

न्यूज़ीलैंड की बड़ी खोज साबित हो रहे हैं डैरिल मिचेल

इस हफ़्ते के पहले तक इस कीवी खिलाड़ी ने कभी भी टी20 में पारी का आग़ाज़ नहीं किया था

Daryl Mitchell came out with a plan to attack, India vs New Zealand, Group 1, T20 World Cup, Dubai, October 31, 2021

डैरिल मिचेल एक योजना के साथ बल्लेबाज़ी कर रहे हैं  •  Getty Images

एक हफ़्ते पहले तक डैरिल मिचेल ने कभी भी टी20 क्रिकेट में पारी का आग़ाज़ नहीं किया था। और अब देखिए वही एकमात्र ऐसे बल्लेबाज़ निकले जिन्होंने दुबई की धीमी पिच पर भी खुलकर रन बनाए, भारत के ख़िलाफ़ मिचेल ने 35 गेंदों पर 49 रन की पारी खेली। इसी पारी के दम पर ही न्यूज़ीलैंड ने टी20 विश्वकप 2021 के सुपर-12 मुक़ाबले में भारत को शिकस्त दी।
शायद ही किसी ने सोचा भी था कि मिचेल इस प्रतियोगिता में पारी का आग़ाज़ करेंगे, यहां तक कि ख़ुद मिचेल को भी इस बात का अंदाज़ा नहीं रहा होगा, क्योंकि उन्होंने इस फ़ॉर्मैट में अब तक मध्यक्रम में ही बल्लेबाज़ी की थी। ईएसपीएनक्रिकइंफ़ो से बातचीत में मिचेल ने कहा, "मैं किसी भी परिस्थिति में ख़ुद को ढालने की क्षमता रखता हूं, फिर चाहे मध्यक्रम में तीन या चार नंबर पर खेलना हो या फिर अंतिम ओवर्स में फ़िनिशर की भूमिका अदा करनी हो, मैं हर चीज़ के लिए तैयार हूं। ख़ासतौर से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में आपको हमेशा अलग-अलग परिस्थितियों के लिए तैयार रहना होता है, हर बार एक ही तरह की पारी आप नहीं खेल सकते।"
न्यूज़ीलैंड ने भी पहले से मिचेल को बतौर सलामी बल्लेबाज़ इस्तेमाल करने की कोई योजना नहीं बनाई थी, अगर आप देखें तो न्यूज़ीलैंड पिछले पांच सालों में कई सलामी बल्लेबाज़ों के साथ गए हैं। कभी मार्टिन गप्टिल के साथ कॉलिन मनरो सलामी साझेदार रहे, तो कभी टिम साइफ़र्ट ने गप्टिल के साथ पारी का आग़ाज़ किया। इनके अलावा पिछले आठ महीनों में रचिन रवींद्र, टॉम ब्लंडल और फ़िन ऐलेन को भी सलामी बल्लेबाज़ बनाया जा चुका है।
लेकिन टीम मैनेजमेंट को मिचेल की तकनीक में कुछ ऐसा लगा कि जिसको देखते हुए ये प्रयोग किया गया। मिचेल बड़े-बड़े छक्के लगाने के लिए मशहूर हैं, न्यूज़ीलैंड के घरेलू क्रिकेट में 2016 के बाद से किसी भी बल्लेबाज़ ने मिचेल जितने छक्के नहीं लगाए हैं। टीम मैनेजमेंट ने मिचेल की इसी क्षमता का इस्तेमाल यूएई की धीमी पिचों पर करने का फ़ैसला किया ताकि वे पावरप्ले में अपनी पावर दिखा सकें। पहले वॉर्म अप मैचों में उनके साथ पारी का आग़ाज़ कराया गया और फिर पाकिस्तान के ख़िलाफ़ भी मिचेल ने ही सलामी बल्लेबाज़ की भूमिका निभाई, जहां शारजाह की धीमी पिच पर 20 गेंदों में 27 रन की पारी खेलते हुए उन्होंने अपनी इस कला की झलक दे दी थी। उस मैच में हसन अली और इमाद वसीम के ख़िलाफ़ जिस अंदाज़ में छक्के लगाए थे, उसने भारत के ख़िलाफ़ भी उन्हें पारी का आग़ाज़ करने का लाइसेंस दे दिया था।
उनकी पारी पर नज़र डालें तो उन्होंने सूझ-बूझ के साथ आक्रामक शैली अपनाई थी, पहले उन्होंने गप्टिल को ज़्यादा से ज़्यादा स्ट्राइक दी। , वरुण चक्रवर्ती और जसप्रीत बुमराह के ख़िलाफ़ उन्होंने धैर्य के साथ बल्लेबाज़ी की, पहली नौ गेंदों पर मिचेल ने पांच रन ही बनाए थे। लेकिन जैसे ही पावरप्ले का आख़िरी ओवर लेकर रवींद्र जाडेजा आक्रमण पर आए, उनका सब्र का बांध टूट गया। मिचेल ने जाडेजा की दूसरी ही गेंद को लॉन्ग ऑन के ऊपर से छक्के के लिए पहुंचाया, फिर जाडेजा ने लेंथ छोटी की तो मिड विकेट के ऊपर से शॉट लगाया और फिर कवर प्वाइंट की ओर से एक ज़ोरदार कट भी खेला।
तीन शॉट के अंदर ही न्यूज़ीलैंड के ऊपर से दबाव हट चुका था और फिर इसके बाद तो उनकी पारी ऐसा लग रहा था जैसे नेट प्रैक्टिस कर रहे हों। मोहम्मद शमी और शार्दुल ठाकुर की गेंदों पर उन्होंने बेहतरीन अंदाज़ में शॉट लगाए, लेकिन सिर्फ़ एक रन से वह अपने पहले टी20 अंतर्राष्ट्रीय अर्धशतक से चूक गए। उन्हें बुमराह ने गति परिवर्तन में फंसा लिया लेकिन तब तक भारत की झोली से वह मैच छीन चुके थे, उन्होंने अपनी 35 गेंदों की पारी जितने छक्के लगाए उतने तो भारत ने अपनी पूरी पारी यानी 120 गेंदों में भी नहीं लगाए थे, और यही इस मैच का सबसे बड़ा फ़र्क़ था।
हालांकि प्लेयर ऑफ़ द मैच से ईश सोढ़ी नवाज़े गए, क्योंकि उन्होंने रोहित शर्मा और विराट कोहली का बड़ा विकेट हासिल किया था। सोढ़ी ने भी मिचेल की जमकर तारीफ़ करते हुए कहा कि वह एक अद्भुत खिलाड़ी हैं।
"वह एक अद्भुत खिलाड़ी हैं। उनके पास प्रतिभा की कोई कमी नहीं और यही वजह है कि उन्हें टीम का साथ भी मिल रहा है, हम सभी को उनकी क्षमता के बारे में पता है औक भरोसा है। हम जानते थे कि ये चेज़ आसान नहीं होने वाला, क्योंकि भारतीय गेंदबाज़ आक्रामक गेंदबाज़ी के साथ वापसी करने की फ़िराक़ में थे। सच पूछिए तो इन कंडीशंस में हमें कैसे खेलना चाहिए, ये हम सही से नहीं समझ पा रहे थे। लेकिन जिस अंदाज़ में मिचेल ने बल्लेबाज़ी की, वह शानदार था।"
ईश सोढ़ी, लेग स्पिनर, न्यूज़ीलैंड

मैट रोलर (@mroller98) ESPNcricinfo में असिस्टेंट एडिटर हैं, अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के मल्टीमीडिया जर्नलिस्ट सैयद हुसैन ने किया है।