भारत की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले खिलाड़ियों में से एक जसप्रीत बुमराह ने चौथे टेस्ट में मिली जीत के बाद सोमवार को कहा कि टीम की जीत का मंत्र यही है कि यह मनमौजियों की टोली है, जो वर्तमान में जीना पसंद करती है और नकारात्मक बातों पर ज़्यादा ध्यान नहीं देती।

बुमराह का यह जवाब मैच के बाद हुई वर्चुअल पत्रकार वार्ता में उस बात पर आया जब उनसे पूछा गया कि प्रमुख कोच रवि शास्त्री और अन्य सहायक स्टाफ टेस्ट के बीच में ही कोरोना पॉज़िटिव पाए गए। उन्होंने कहा, "हम अच्छी चीज़ों पर फ़ोकस करते हैं। हम उन चीज़ों पर फ़ोकस करते हैं जो हमारे हाथों में हो और एक टीम के तौर पर हर एक सदस्य ख़ुशमिज़ाज है और लुत्फ़ लेने वाला भी, हम हमेशा सुई खोजने की कोशिश नहीं करते।

यह बुमराह ही थे जिन्होंने चौथे टेस्ट के दूसरे सत्र में लंच के बाद दो विकेट निकाले और भारत को जीत के नज़दीक पहुंचाया।

बुमराह ने कहा, "हमने उस वक्त भी अपने कानों को बंद कर लिया था जब हमने पहली पारी में 127 रनों पर सात विकेट खो दिए थे।"

उन्होंने कहा, "हां, विकेट ताज़ा था और हमने पहली पारी में ज़्यादा रन नहीं बनाए, लेकिन एक टीम के तौर पर हमने हौसला नहीं हारा और बहुत सी चीज़ों के बारे में नहीं सोचा। जो कही गई और हमारे बारे में लिखी गई।

हम अंत तक लड़ना चाहते थे और दिखाना चाहते थे कि हम किस मिट्टी के बने है और जो चीजें हमारे हाथ से बाहर निकली हम, उसके बारे में बाद में ज़वाब दे देंगे।"

वरिष्ठ तेज़ गेंदबाज़ ने कहा कि उनकी इस पाटा विकेट पर दूसरी पारी में आंकड़ें 22 ओवर में 2/27 रहे और इससे विरोधी टीम पर दबाव बना।

"टेस्ट क्रिकेट में कुछ भी आसान नहीं होता है। अगर अच्छा विकेट भी मिले तो आपको सही जगह पर गेंदबाज़ी करनी होती है और यही मैसेज आप साझा करना भी चाहते हो। हमने तय किया था कि अगर विकेट पाटा भी हुआ तो हम लंबे समय तक दबाव बनाने की कोशिश करेंगे।"

"हमने पहले घंटे में ही काफ़ी दबाव बना दिया था और हमने महसूस किया कि यह पाटा विकेट है, लेकिन हम मैच को हाथ से निकलने नहीं देना चाहते थे और हम ऐसा करके खुश हैं।"

आईपीएल और टी20 विश्व कप सामने है लेकिन बुमराह अहम गोल से फोकस नहीं हटाना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, "जब आप एक टेस्ट मैच खेल रहे होते हैं तो आप नहीं महसूस कर सकते हैं कि पहले क्या हुआ, आपने कितने ओवर पहले कर लिए हैं, आप कितने ओवर और कर सकते हैं क्योंकि आपका ध्यान टीम के लिए अपना काम करने पर होता है।" बुमराह ने इस सीरीज़ में 151 ओवर किए हैं और 18 विकेट चटकाए हैं।

बुमराह ने कहा, "मैं लंबे समय तक अपने देश के लिए खेलना चाहता हूं, तो मैं जिम में, अपनी डाइट पर कड़ी मेहनत करता हूं। मैं सबकुछ संतुलित रखना चाहता हूं। हां, जब मैं खुद को कड़ी मेहनत करने के लिए पुश करता हूं तो मैं खुद कड़ी मेहनत कर पाता भी हूं।"

उन्होंने आगे कहा, "मैं आईपीएल या टी 20 विश्व कप के बारे में नहीं सोच रहा हूं क्योंकि इससे आप मानसिक तौर पर दबाव ले लेते हो। मेरा पूरा ध्यान वर्तमान पर है कि मैं हर गेंद पर ध्यान लगाता रहूं और अपनी टीम के पक्ष में नतीजे करता रहूं।

अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी में सीनियर सब एडिटर निखिल शर्मा ने किया है।