मैच (12)
IPL (2)
PAK v WI [W] (1)
RHF Trophy (4)
WT20 WC QLF (Warm-up) (5)
फ़ीचर्स

आंकड़े झूठ नहीं बोलते : प्ले ऑफ़ में हार का तिलिस्म तोड़ने के लिए दिल्ली को शॉ-धवन से अर्धशतकीय साझेदारी की ज़रूरत

कोलकाता के लिए उनके स्पिन गेंदबाज़ हैं तुरूप का इक्का

फ़ाइनल में पहुंचने के लिए अहम होगी यह साझेदारी  •  BCCI

फ़ाइनल में पहुंचने के लिए अहम होगी यह साझेदारी  •  BCCI

कोलकाता नाइट राइडर्स हो या दिल्ली कैपिटल्स, दोनों के लिए यह फ़ाइनल में जगह बनाने का आख़िरी मौक़ा है। दोनों टीमें एक दूसरे के ख़िलाफ़ 27 बार भिड़ी हैं, इसमें केकेआर, दिल्ली से 15-12 से आगे हैं। हालांकि अंतिम तीन सीज़न में दोनों टीमों के बीच हुए 8 मुक़ाबलों में दिल्ली ने पांच बार बाजी मारी है।
क्या दिल्ली तोड़ पाएगी प्ले ऑफ़ मुक़ाबलों का तिलिस्म
कोलकाता नाइट राइडर्स का प्ले ऑफ़ में रिकॉर्ड बढ़िया रहा है। 2012 और 2014 में ख़िताब जीतने वाली केकेआर ने अब तक आईपीएल में 11 प्ले ऑफ़ मुक़ाबले खेले हैं और उनमें से उन्हें सात में जीत मिली है। वहीं दिल्ली ने कुल 10 प्ले ऑफ़ मुक़ाबले खेले हैं, जिसमें उन्हें सिर्फ़ दो मैचों में जीत मिली है और प्ले-ऑफ़ में जीत-हार प्रतिशत के मामले में वह आठों आईपीएल टीमों में सबसे नीचे हैं। पहला क्वालीफ़ायर मुक़ाबला हारने के बाद उन पर अतिरिक्त दबाव भी होगा।
शॉ को केकेआर पसंद है!
अच्छे फ़ॉर्म में चल रहे पृथ्वी शॉ को कोलकाता नाइट राइडर्स की गेंदबाज़ी रास आती है। उन्होंने केकेआर के ख़िलाफ़ पांच मैचों में चार अर्धशतकों की मदद से 64.6 की औसत और 172 के स्ट्राइक रेट से 323 रन बनाए हैं। केकेआर एकमात्र ऐसी टीम है, जिसके ख़िलाफ़ शॉ ने 300 से अधिक रन बनाए हैं। पिछली बार जब दोनों टीमें भिड़ी थीं तो शॉ ने अपने अंडर-19 टीम के साथी शिवम मावी पर लगातार 6 चौके लगाए थे, जिसकी यादें आज भी ताज़ा हैं।
50 रन की ओपनिंग साझेदारी और दिल्ली की जीत पक्की?
कम से कम आंकड़े तो यही कहते हैं। जब भी इन दोनों की जोड़ी ने 50 से अधिक रन की साझेदारी की है, एक मौक़े को छोड़कर उन्हें हर बार जीत मिली है। तो दिल्ली के फ़ाइनल में पहुंचने का राज कम से कम इस साझेदारी में ज़रूर छिपा है।
केकेआर के स्पिन गेंदबाज़ फिर हैं तैयार
आईपीएल 2021 में कोलकाता के लिए उनके स्पिन गेंदबाज़ सबसे ताकतवर कड़ी के रूप में उभरे हैं। कोलकाता के स्पिन गेंदबाज़ों ने 34 विकेट लिए हैं, जो कि सर्वाधिक है। इसके अलावा इनकी इकॉनमी भी 7 रन प्रति ओवर से कम है। सुनील नारायण और वरूण चक्रवर्ती दोनों इस सीज़न सर्वाधिक विकेट लेने वाले पांच कंजूस (इकॉनामिकल) गेंदबाज़ों में शामिल हैं। यूएई लेग में इनका प्रदर्शन तो और जबरदस्त हो गया है।
यूएई लेग में छह मैचों में कोलकाता को जीत मिली है, इसमें से तीन बार प्लेयर ऑफ़ द मैच का ख़िताब सुनील नारायण और एक बार वरूण चक्रवर्ती को मिला है, जो दिखाता है कि कैसे केकआर के जीत के लिए ये स्पिनर्स महत्वपूर्ण हैं।

दया सागर ESPNcricinfo हिंदी में सब एडिटर हैं