मैच (16)
WPL (2)
PSL 2024 (2)
NZ v AUS (1)
रणजी ट्रॉफ़ी (2)
विश्व कप लीग 2 (1)
Nepal Tri-Nation (1)
Sheffield Shield (3)
CWC Play-off (3)
BAN v SL (1)
ख़बरें

हाथियों के हमले से श्रीलंका के दो ग्राउंड स्टाफ़ की मौत

श्रीलंकाई बोर्ड ने की पुष्टि, हंबनटोटा क्रिकेट ग्राउंड से जुड़े थे दोनों मैदानकर्मी

हंबनटोटा में एलपीएल का फ़ाइनल मैच खेला जाएगा  •  AFP

हंबनटोटा में एलपीएल का फ़ाइनल मैच खेला जाएगा  •  AFP

श्रीलंका के हंबनटोटा में हाथियों के हमले के कारण दो मैदानकर्मियों की मौत हो गई। ये दोनों मैदानकर्मी हंबनटोटा के सोरियावेवा स्टेडियम में कार्यरत थे। श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने इस घटना की पुष्टि की है। उन्होंने कहा, "एक हाथी के द्वारा किए गए हमले में श्रीलंका क्रिकेट के दो ग्राउंडस्टाफ़ की मौत हो गई।"
हालांकि इस हमले के संबंध में अधिक विवरण जारी नहीं किया गया है, लेकिन यह अनुमान लगाया जा रहा है कि हमला एक हाथी के द्वारा ही किया गया है। स्थानीय समयानुसार मंगलवार रात करीब नौ बजे काम के बाद साइकिल से घर जा रहे दो स्टाफ़ सदस्यों के शव मिले हैं, जो एक-दूसरे से सौ मीटर की दूरी पर पड़े हुए थे। यह घटना स्टेडियम के आसपास ही हुई है। एक सप्ताह के बाद ही लंका प्रीमियर लीग का एलिमिनेटर, क्वालिफ़ायर और फ़ाइनल मैच इसी मैदान पर खेले जाना है। श्रीलंका में चल रहे लंका प्रीमियर लीग का एलिमिनेटर और पहला क्वालिफ़ायर 19 दिसंबर को होगा।
ग्रामीण श्रीलंका में हाथियों के हमले असामान्य नहीं हैं। यहां पर मानव-हाथी संघर्ष एक लंबे समय से चल रहा मुद्दा है। 2009 में 30 साल के गृहयुद्ध की समाप्ति के बाद से समस्या और अधिक व्यापक हो गई है, क्योंकि गृहयुद्ध के बाद देश की विकास योजनाओं के लिए काफ़ी जंगल काटे गए हैं। परिणामस्वरूप वन्यजीवों का का निवास स्थान प्रभावित हुआ है। इसी कारण से अक्सर इस तरीक़े की घटनाओं का होना आम हो गया है।
हंबनटोटा उन क्षेत्रों में से एक रहा है जो इस लिहाज से सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं। पिछले साल अकेले इलाके में 10 हाथियों और चार इंसानों की मौत हुई थी। कभी वन्य जीवन के लिए जाना जाने वाला हंबनटोटा अब एक बड़े विकास अभियान का हिस्सा है। यहां वर्तमान में एक बंदरगाह, हवाई अड्डा और राजमार्ग भी है, जबकि एक नए शहर और विकास के कार्यों के लिए 20,000 एकड़ भूमि का उपयोग किया जाएगा।
एक हाथी प्रबंधन क्षेत्र को एक समाधान के रूप में प्रस्तावित किया गया है, हालांकि इसे अभी तक सरकार द्वारा अनुमति नहीं मिली है, जिसके परिणामस्वरूप इस साल की शुरुआत में हंबनटोटा में किसानों ने विरोध किया था।