मैच (16)
IPL (2)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (4)
Women's Tri-Series (1)
ख़बरें

कठिन परिस्थितियों में खेलने के लिए ख़ुद को अभ्यस्त कर चुके हैं शिमरॉन हेटमायर

हेटमायर ने माना कि राजस्थान ने गुजरात पर जीत दर्ज कर अपना बदला पूरा कर लिया है

मोटेरा पर लक्ष्य का पीछा करते समय राजस्थान रॉयल्स के चार बल्लेबाज़ डग आउट में जा चुके थे और यहां से राजस्थान को गुजरात टाइटंस पर विजय प्राप्त करने के लिए प्रति ओवर 14 रनों की दरकार थी। चेज़ में 12 ओवर अभी भी शेष थे लेकिन राजस्थान की पारी प्रति गेंद पर एक रन की भी कम की रफ़्तार से आगे बढ़ रही थी। ऐसे में राजस्थान के लिए यह मुक़ाबला हार की तरफ़ ही बढ़ रहा था लेकिन राजस्थान के बड़े फ़िनिशर शिमरॉन हेटमायर ख़ुद को ऐसी ही परिस्थितियों के लिए पहले से ही अभ्यस्त कर चुके थे।
मैच के बाद हेटमायर ने इस पर विस्तार से बात की। उन्होंने कहा, "मैं वास्तव में इसका अभ्यास करता हूं। इस माइंडसेट के साथ अभ्यास करना कि आप के कुछ विकेट गिर चुके हैं और आठ ओवर में 100 के क़रीब रन चाहिए वाकई काम आता है। मैं हमेशा ही अपने मस्तिष्क को ऐसी परिस्थिति के लिए तैयार रखता हूं और अब तक यह तरीका काम आ रहा है।"
संजू सैमसन ने 13वें ओवर में अपने गियर बदले और राशि ख़ान को लगातार तीन छक्के जड़ दिए। उस समय हेटमायर सात गेंदों पर चार बनाकर ही खेल रहे थे लेकिन इसके अगले ही ओवर में उन्होंने अल्ज़ारी जोसेफ को एक चौका और एक छक्का लगा दिया। इसके बाद 15वें ओवर में संजू ज़रूर नूर अहमद की गेंद पर आउट हुए लेकिन वह तब एक उस ओवर में एक चौका और एक छक्क जड़ चुके थे।इसके बाद 16वें ओवर में एक बार फिर हेटमायर और इस बार ध्रुव जुरेल ने भी अल्ज़ारी के ख़िलाफ़ हमला बोल दिया और 20 रन बटोर लिए। गुजरात के लिए सबसे सफल गेंदबाज़ मोहम्मद शमी साबित हुए लेकिन 19वें ओवर में ध्रुव और रविचंद्रन अश्विन ने 16 रन बटोर लिए। इसके बाद अंतिम ओवर में 24 गेंदों पर 48 रन बनाकर खेल रहे हेटमायर को अंतिम ओवर में सात रन ही बनाने थे।
हेटमायर ने कहा, "वास्तव में अंतिम ओवर में एक स्पिनर का सामना कर के में खुश था। हालांकि उन्होंने आज अच्छी गेंदबाज़ी की थी। इसलिए मैं सोच रहा था कि पहली गेंद पर डबल लूं और उसके बाद देखूं कि क्या किया जा सकता है।"
इसके बाद हुआ यह कि अहमद द्वारा उन्हें एक छोटी गेंद मिली जिसे हेटमायर ने स्टैंड्स में पहुंचा दिया और यह एक ऐसी जीत थी जो वह चाहते थे।
हेटमायर ने कहा, "हम इन लोगों के ख़िलाफ़ जीत दर्ज करना चाहते थे क्योंकि यह लोग हमें तीन बार हरा चुके थे(लीग स्टेज, क्वालिफ़ायर और फ़ाइनल में)। इसलिए यह एक तरह का बदला था।"
संजू ने कहा कि भले ही बाहर से यह चीज़ असंभव प्रतीत हो रहा था लेकिन उन्हें विश्वास था कि उनकी टीम इस लक्ष्य को हासिल कर सकती है। संजू ने कहा, "हमें जैसी शुरुआत मिली थी, उसे देखते हुए यह बात दिमाग में रखना ज़रूरी था कि यह विकेट बल्लेबाज़ी के लिए कितनी अच्छी है। गुजरात के पास एक अच्छा गेंदबाज़ी आक्रमण था जिस वजह से हमें पावरप्ले में उन्हें सम्मान देना पड़ा। लेकिन हमें पता था कि जैसी गहराई हमारी बल्लेबाज़ी में है उसे देखते हुए इस मैदान पर यह लक्ष्य असंभव नहीं था।"
गुजरात की टीम इस मैच से एक ज़रूरी सबक लेगी। जैसा कि उनके कप्तान हार्दिक पंड्या ने कहा, "खेल तब तक समाप्त नहीं होता जब तक कि वह वास्तव में समाप्त न हो जाए। इसलिए मुझे लगता है कि यह हमारे लिए एक सबक जैसा है।"