मैच (17)
IPL (2)
Pakistan vs New Zealand (1)
PAK v WI [W] (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (2)
Women's QUAD (2)
ख़बरें

गुजरात बनाम चेन्नई रिपोर्ट कार्ड : गुजरात पर दबाव बनाने में असफल रही चेन्नई

गिल का अर्धशतक और राशिद का हरफ़नमौला खेल गुजरात की जीत की अहम कड़ी साबित हुए

राशिद ख़ान के एक छ्क्के और चौके ने अंतिम ओवर से पहले ही मैच का पलड़ा गुजरात के पक्ष में झुका दिया  •  BCCI

राशिद ख़ान के एक छ्क्के और चौके ने अंतिम ओवर से पहले ही मैच का पलड़ा गुजरात के पक्ष में झुका दिया  •  BCCI

आईपीएल 2023 के पहले मुक़ाबले में दो-दो हैट्रिक लगी। ऋतुराज गायकवाड़ ने गुजरात के ख़िलाफ़ लगातार तीसरा अर्धशतक लगाया और गुजरात ने चेन्नई पर जीत की हैट्रिक जीत दर्ज कर ली। आइए देखते हैं कि इस मुक़ाबले में दोनों टीमों ने विभिन्न क्षेत्रों में कैसा प्रदर्शन किया।
बल्‍लेबाज़ी
गुजरात (A+) - गुजरात की सलामी जोड़ी ने ताबड़तोड़ अंदाज़ में पारी का आग़ाज़ किया। हालांकि रिद्धिमान साहा अपनी पारी को बड़े स्कोर में तब्दील नहीं कर पाए लेकिन उन्होंने गुजरात के लिए एक अच्छी आधारशिला रखी जिस पर शुभमन गिल ने बड़ी इमारत खड़ी की। साई सुदर्शन और गिल की जोड़ी मैच को चेन्नई से दूर ले गई। अंत में राशिद ख़ान और राहुल तेवतिया गुजरात को जीत की दहलीज़ पर ले गए।
चेन्नई (B) - चेन्नई की शुरुआत अच्छी नहीं रही। सलामी बल्लेबाज़ कॉन्वे और फिर मोईन अली सस्ते में पवेलियन लौट गए। मोहम्मद शमी पहले कॉन्वे के स्टंप्स को ले उड़े और फिर राशिद ख़ान ने मोईन को अपना शिकार बना लिया। राशिद ने लगातार तीन ओवर डाले और जाते-जाते बेन स्टोक्स को भी पवेलियन का रास्ता दिखा दिया। हालांकि एक तरफ़ जहां चेन्नई के अन्य बल्लेबाज़ संघर्ष कर रहे थे तो वहीं दूसरी तरफ़ ऋतुराज गायकवाड़ का जलवा जारी था। मध्य ओवरों में यदि शिवम दुबे का संघर्ष नहीं होता तो चेन्नई और बड़ा स्कोर खड़ा कर सकती थी।
गेंदबाज़ी
गुजरात (A) - गेंदाबज़ी में मेज़बान टीम ने गायकवाड़ को छोड़कर सीएसके के अधिकतर बल्लेबाज़ों को परेशान किया। राशिद ने अपनी फिरकी से टीम को अहम ब्रेकथ्रू तो दिलाए ही लेकिन मध्य ओवरों में कसी हुई गेंदबाज़ी करते हुए गुजरात की टीम ने सीएसके को एक बड़े लक्ष्य तक पहुंचने से रोक लिया।
चेन्नई (B) - बल्लेबाज़ी की ही तरह चेन्नई की गेंदबाज़ी का आग़ाज़ भी संतोषजनक नहीं रही। रिद्धिमान साहा और शुभमन गिल शुरु से ही चेन्नई के गेंदबाज़ों पर टूट पड़े। पावरप्ले में ही दो नो बॉल फेंक कर चेन्नई ने गुजरात के बल्लेबाज़ों को पावरप्ले को भुनाने का काम आसान कर दिया। राजवर्धन हंगारगेकर ने दो अहम ब्रेकथ्रू ज़रूर दिलाए। हालांकि गुजरात लक्ष्य से इतने पीछे नहीं थी कि उस पर पर्याप्त दबाव बनाने के लिए यह काफ़ी हो। 18वें ओवर की अंतिम गेंद पर जब मिचेल सैंटनर ने पीछे की तरफ़ भागते हुए विजय शंकर का कैच लपका तब एक बार ऐसा प्रतीत हुआ कि यह मैच अभी भी खुला हुआ है लेकिन यह प्रयास भी असफल ही साबित हुआ।
क्षेत्ररक्षण
गुजरात (A+) - गुजरात के गेंदबाज़ अपनी रणनीति को सही तरह से अमली-जामा नहीं पहना पाते अगर उन्हें फ़ील्डरों से भरपूर सहयोग नहीं मिला होता। गुजरात के फ़ील्डरों ने हाथ में आया एक भी मौक़ा नहीं गंवाया और मिडऑफ़ पर हार्दिक और फ़ाइन लेग पर साहा के प्रयास ने भी काफ़ी प्रभावित किया। डीप स्क्वायर लेग पर केन विलियमसन ऋतुराज के छक्के को चौके में परिवर्तित करने में तो सफल हो गए लेकिन ख़ुद को चोटिल भी कर बैठे। हालांकि कुल मिलाकर गुजरात के फ़ील्डरों को प्रयास के पूरे नंबर मिलने चाहिए।
चेन्नई (A) - चेन्नई के फ़ील्डरों के लिए शुक्रवार की शाम अच्छी रही। शिवम दुबे ने थर्ड मैन पर अपनी दायीं तरफ़ दौड़ते हुए साहा का शानदार कैच लपका, वहीं गायकवाड़ ने आतिशी अर्धशतक लगाने चुके शुभमन गिल का डीप मिडविकेट पर कैच लपक कर बड़ा स्कोर बनाने से रोक दिया। हालांकि गिल के आउट होने पर जब गुजरात पर दबाव बनाने का मौक़ा था तब 16वें ओवर में लॉन्ग ऑफ़ सीमारेखा पर फ़ील्डरों के बीच हुए कन्फ़्यूज़न ने विजय शंकर को ज़रूरी चौका दिला दिया।
रणनीति
गुजरात (A) - गेंदबाज़ी में कप्तान हार्दिक ने काफ़ी सूझ बूझ भरी कप्तानी का प्रदर्शन किया। एक छोर से गायकवाड़ ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी कर रहे थे लेकिन गेंदबाज़ों ने ज़्यादा से ज़्यादा दूसरे बल्लेबाज़ों को स्ट्राइक पर रखने का प्रयास किया और जिसमें वह सफल भी हुए। 10 ओवर में चेन्नई का स्कोर 100 के क़रीब पहुंच चुका था लेकिन इसके बाद ऋतुराज को अधिकतर समय स्ट्राइक से दूर रखा गया।
चेन्नई (C) - सीज़न के पहले मुक़ाबले में चेन्नई की टीम क्लूलेस नज़र आई। बल्लेबाज़ी में रायुडू के आउट होने के बाद चेन्नई के सामने प्राथमिकता बड़ा स्कोर खड़ा करने की थी लेकिन बाएं हाथ के बल्लेबाज़ के तौर पर शिवम के बजाय जाडेजा को भी भेजा जा सकता था। ब्रेकथ्रू मिलने के बाद हर बार गुजरात के ऊपर दबाव बनाने में चेन्नई असफल रही। 19वें ओवर में राशिद ख़ान के एक छ्क्के और चौके ने अंतिम ओवर से पहले ही मैच का पलड़ा एक बार फिर गुजरात के पक्ष में झुका दिया।