मैच (19)
IPL (3)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (6)
Women's Tri-Series (1)
ख़बरें

पांचवें नबंर पर अपने बल्लेबाज़ी क्रम के बारे में क्या सोचते हैं के एल राहुल

भारतीय बल्लेबाज़ का कहना है कि टीम उन्हें कई सालों से अलग-अलग क्रम पर बल्लेबाज़ी करने को कहती रही है

पांचवें स्थान पर बल्लेबाज़ी करते हुए के एल राहुल अपने बल्लेबाज़ी को ज़्यादा बेहतर तरीक़े से समझ रहे हैं। श्रीलंका के ख़िलाफ़ कोलकाता में 64 रनों की मैच जिताऊ पारी खेलने के बाद राहुल ने कहा कि मिडिल ओवरों में बल्लेबाज़ी करते हुए, उन्हें मैच की परिस्थितियों को बेहतर तरीक़े से पढ़ने का मौक़ा मिलता है। साथ ही बल्लेबाज़ी करने के लिए आने से पहले उन्हें आराम करने काम मौक़ा मिल जाता है।

राहुल ने अपने बल्लेबाज़ी क्रम के बारे में कहा, " मुझे एक चीज़ बहुत पसंद आती है कि बल्लेबाज़ी करने के लिए जल्दी नहीं आना पड़ता है। आपको क्रीज़ पर उतरने से पहले काफ़ी समय मिलता है। उस वक़्त आराम से आप ठंडे पानी से नहा सकते हो। कुछ खाने का भी मौक़ा मिल जाता है। कुल मिलाकर आपकी बल्लेबाज़ी आने से पहले ये देख सकते हो कि मैच में क्या हो रहा है। पांचवें नंबर पर बल्लेबाज़ी करने का यह एक फ़ायदा होता है।"

इसके अलावा राहुल ने पांचवें नंबर पर बल्लेबाज़ी करने नुक़सान के बारे में भी बात करते हुए कहा, "जब आप पांचवें नबंर पर बल्लेबाज़ी करने आते हो तो गेंद थोड़ी पुरानी हो जाती है, आपको सीधे स्पिन गेंदबाज़ों का सामना करना पड़ता है और मै इसका आदी नहीं हूं। हालांकि रोहित (शर्मा) ने मेरे बल्लेबाज़ी क्रम के बारे में मुझसे बात की है और यह भी बताया है कि वह मेरे से क्या चाहते हैं। इसलिए मैं इसको चैंलेज के रूप में देखते हुए, उस स्थान पर बल्लेबाज़ी जारी रखना चाहता हूं।"

गुरुवार को जब राहुल बल्लेबाज़ी करने आए तो भारत 10वें ओवर में 62 के स्कोर पर तीन विकेट गंवा चुका था। इसके बाद राहुल ने एक छोर से बिना कोई रिस्क लेते हुए बल्लेबाज़ी की। उस दौरान उन्होंने श्रेयस अय्यर,अक्षर पटेल और हार्दिक पंड्या के साथ महत्वपूर्ण साझेदारी निभाते हुए आराम से 216 के लक्ष्य को प्राप्त कर लिया। राहुल ने श्रीलंका को कम स्कोर पर रोकने के लिए भारतीय गेंदबाज़ों की भी तारीफ़ की।

मैच के बाद प्रेस कॉन्फ़्रेंस में राहुल ने कहा कि उनकी बल्लेबाज़ी क्रम में अक्सर बदलाव होते रहे हैं और इससे उन्हें किसी प्रकार का तनाव नहीं होता। इसके बजाय उन्होंने महसूस किया है कि उन्हें टीम के संयोजन और रणनीति के आधार पर मैनेजमेंट ने उन पर भरोसा जताया है।

राहुल ने कहा, 'सबसे पहले मैं अंतिम एकादश में रहना चाहता हूं, यह सबसे अहम चीज़ है। टीम मुझसे जो चाहती है, मैं वह करने की कोशिश करता हूं। मैंने भारत के लिए खेलते हुए पूरे समय यही किया है।"



"मुझे याद है कि मैंने अपने पहले टेस्ट में नंबर 6 पर बल्लेबाज़ी की थी। फिर मैंने ओपनिंग की। 2019 विश्व कप में नंबर 6 बल्लेबाज़ी कर रहा था। फिर शिखर धवन के चोटिल होने के बाद मुझे फिर से ओपनिंग करना पड़ा। मैं नंबर 5 पर खेला हूं, मैं नंबर 4 पर खेला हूं, मुझे विकेटकीपिंग करने के लिए कहा गया है। मुझे लगता है कि यह मेरे लिए बहुत मजे़दार है। मैंने कठिन परिस्थितियों में अच्छा प्रदर्शन किया है। मुझे लगता है कि टीम मुझ पर भरोसा करती है और मेरा समर्थन करती है। इससे मुझे अपनी बल्लेबाज़ी और खु़द को बेहतर तरीक़े से समझने में मदद मिली है।"

श्रेष्ठ शाह ESPNcricinfo के सब एडिटर हैं। अनुवाद ESPNcricinfo हिंदी के सब एडिटर राजन राज ने किया है।