मैच (19)
IPL (3)
SA v SL (W) (1)
USA vs CAN (1)
County DIV1 (5)
County DIV2 (4)
ACC Premier Cup (4)
Women's Tri-Series (1)
फ़ीचर्स

आंकड़े झूठ नहीं बोलते : सीएसके के बल्लेबाज़ों पर हावी रहते हैं गुजरात के गेंदबाज़, ऋतुराज के सिर सजेगा कांटों का ताज

अंबाती रायुडू हर सातवीं गेंद पर मोहित शर्मा का शिकार बनते हैं

पंड्या, राशिद और शमी की तिकड़ी सीएसके के लिए परेशानी खड़ी कर सकती है  •  PTI

पंड्या, राशिद और शमी की तिकड़ी सीएसके के लिए परेशानी खड़ी कर सकती है  •  PTI

आईपीएल 2023 का मंच सज गया है। शुक्रवार को इस लीग की शुरुआत अहमदाबाद में गत विजेता गुजरात टाइटंस और चार बार की विजेता चेन्नई सुपरकिंग्स (सीएसके) के बीच मुक़ाबले से होगा। गुजरात आईपीएल में चेन्नई के ऊपर जीत की हैट्रिक लगाने के इरादे से उतरेगी तो वहीं चेन्नई का ज़ोर गुजरात के ख़िलाफ़ पहली जीत हासिल करने पर होगा। ऐसा में कुछ ऐसे आंकड़ों का रुख़ करते हैं जोकि मुक़ाबले में अपनी छाप छोड़ सकते हैं।
पंड्या और राशिद से रहना होगा सीएसके के बल्लेबाज़ों को सावधान
आईपीएल के शुरुआती मुक़ाबलों में बेन स्टोक्स के गेंदबाज़ी करने की उम्मीद कम ही है। ऐसे में बल्लेबाज़ी में स्टोक्स के ऊपर अतिरिक्त ज़िम्मेदारी होगी। हालांकि आंकड़े कहते हैं कि बल्लेबाज़ स्टोक्स गुजरात के अधिकतर गेंदबाज़ों के सामने मुश्किल में नज़र आते हैं। टी20 में हार्दिक पंड्या और राशिद ख़ान स्टोक्स को तीन-तीन बार अपना शिकार बना चुके हैं। जबकि मोहम्मद शमी ने दो बार स्टोक्स को पवेलियन की राह दिखाई है। राशिद (71) और पंड्या (88) के विरुद्ध स्टोक्स ने 100 से भी कम के स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं। जबकि टी20 में शमी को 16 गेंदों में वह 14 रन ही बना पाए हैं।
स्टोक्स के अलावा सीएसके के एक अन्य बाएं हाथ के बल्लेबाज़ मोईन अली भी गुजरात के गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ टी20 में संघर्ष करते दिखाई देते हैं। मोईन को टी20 में राशिद ने तीन बार अपना शिकार बनाया है जबकि पंड्या दो बार उन्हें पवेलियन भेज चुके हैं। शमी को भले ही मोईन को एक बार भी पवेलियन भेजने में सफलता हासिल न हुई हो लेकिन शमी के ख़िलाफ़ मोईन का स्ट्राइक रेट महज़ 77 का ही है। हालांकि पिछले आईपीएल में सीएसके के ओपनर और बाएं हाथ के बल्लेबाज़ डेवन कॉन्वे ने 177 के स्ट्राइक रेट के साथ स्पिन के ख़िलाफ़ रन बनाए थे। वह स्पिन के ख़िलाफ़ सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों की सूची में तीसरे नंबर पर थे। ऐसे में कॉन्वे और राशिद का अगर आमना-सामना होता है तो दोनों के बीच संघर्ष देखने लायक होगा। कॉन्वे आईपीएल 2022 के बाद टी20 में न्यूज़ीलैंड के लिए दूसरे सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज़ भी हैं।
मोहित शर्मा की हर सातवीं गेंद का शिकार बनते हैं रायुडू
सीएसके के बल्‍लेबाज़ी लाइन अप में बाएं हाथ के बल्लेबाज़ों की भरमार है जिन्हें राशिद से अच्छी ख़ासी चुनौती मिल सकती है। ऐसे में चेन्नई के लिए अंबाती रायुडू का लय में होना काफ़ी अहम है। हालांकि गुजरात के गेंदबाज़ मोहित शर्मा के विरुद्ध टी20 में उनका रिकॉर्ड संतोषजनक नहीं है। मोहित को संभवतः गुजरात की प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिले लेकिन अगर मोहित खेलते हैं तो वह रायुडू के लिए बड़ी परेशानी खड़ी कर सकते हैं। मोहित ने टी20 में औसतन अपनी हर सातवीं गेंद पर रायुडू को पवेलियन लौटने पर मजबूर किया है। मोहित ने रायुडू के सामने 12 टी20 पारियों में 42 गेंदें डाली हैं जिसमें छह बार रायुडू को आउट किया है। शमी भी उन्हें दो बार पवेलियन भेज चुके हैं।
ऋतुराज के सिर सजेगा कांटों का ताज
भले ही सीएसके के दो अहम बल्लेबाज़ों पर गुजरात के गेंदबाज़ हावी रहते हों लेकिन सलामी बल्लेबाज़ ऋतुराज गायकवाड़ के सामने गुजरात के अधिकतर गेंदबाज़ पानी मांगते नज़र आते हैं। ऐसे में ऋतुराज पर गुजरात के गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ अपने ट्रैक रिकॉर्ड को बरकरार रखने का दबाव होने के साथ-साथ ज़िम्मेदारी भी होगी। ऋतुराज ने गुजरात के अधिकतर गेंदबाज़ों के ख़िलाफ़ 150 से अधिक के स्‍ट्राइक रेट से रन बनाए हैं। टी20 में राशिद उन्हें दो बार पवेलियन भेज चुके हैं जबकि एक बार वह यश दयाल का शिकार बने हैं, लेकिन राशिद और यश के ख़िलाफ़ उनका स्ट्राइक रेट क्रमशः 151 और 191 का है। हालांकि शमी के ख़िलाफ़ वह भी संघर्ष करते नज़र आते हैं। टी20 में शमी भले ही ऋतुराज को अपना शिकार न बना पाए हों लेकिन ऋतुराज शमी की 52 गेंदों पर महज़ 71 के स्ट्राइक रेट से सिर्फ़ 37 रन ही बना पाए हैं।
पावरप्ले में मुकेश और महीश खड़ी कर सकते हैं मुश्किल
पिछले सीज़न में दीपक चाहर की गैरमौजूदगी से पनपी खाई को मुकेश चौधरी बहुत हद तक पाटने में सफल रहे। मुकेश ने आईपीएल में कुल 16 विकेट झटके थे जिसमें उन्होंने 11 विकेट पावरप्ले में ही हासिल किए थे। ऐसे में अगर पहले मुक़ाबले में मुकेश प्लेइंग इलेवन में खेलने के लिए फ़िट रहते हैं तो वह गुजरात के बल्लेबाज़ों के लिए मुश्किल खड़ी कर सकते हैं। मुकेश के अलावा महीश थीक्षना ने भी पिछले सीज़न पावरप्ले में गेंदबाज़ी करते हुए अपने कुल 12 में से छह विकेट झटके थे।