हार्दिक पंड्या ने बुधवार को दुबई में नेट्स में गेंदबाज़ी की, जिससे उनके 31 अक्तूबर को न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ भारत के महत्वपूर्ण टी20 विश्व कप मैच में गेंदबाज़ी करने की संभावना बढ़ गई हैं। पाकिस्तान से 10 विकेट से मिली हार के बाद भारत के पास ग्रुप 2 में ग़लती की गुंजाइश बहुत कम बची है और हार्दिक की पीठ की सर्जरी के बाद उनके गेंदबाज़ी नहीं करने से टीम का संतुलन प्रभावित हुआ है।

हार्दिक ने जुलाई में भारत के श्रीलंका दौरे पर तीन वनडे और एक टी20 अंतर्राष्ट्रीय को मिलाकर कुल 16 ओवर किए थे, वहीं मुंबई इंडियंस के लिए आईपीएल के यूएई चरण में एक भी ओवर नहीं फेंका था। पाकिस्तान के ख़िलाफ़ बल्लेबाज़ी करते हुए उनके कंधे में भी चोट लग गई थी और भारत की पारी के बाद वह मैदान पर क्षेत्ररक्षण कर लिए नहीं उतरे क्योंकि उन्हें स्कैन के लिए जाना पड़ा था।

बुधवार को दुबई में हार्दिक ने स्ट्रेंथ और कंडीशनिंग कोच सोहम देसाई और फ़िज़ियो नितिन पटेल की देखरेख में फ़िटनेस अभ्यास किया, जिसमें शॉर्ट स्प्रिंट भी शामिल है। इसके बाद उन्होंने नेट्स में भुवनेश्वर कुमार और शार्दुल ठाकुर को करीब 20 मिनट तक गेंदबाज़ी की। भारत के मुख्य कोच रवि शास्त्री और मेंटॉर एमएस धोनी ने भी हार्दिक की प्रगति पर नज़र रखी। फिर गेंदबाज़ी में मामूली समय बिताने के बाद हार्दिक ने बल्लेबाज़ी कोच विक्रम राठौर से थ्रोडाउन लिया।

फ़िटनेस से जूझ रहे हार्दिक को भारत के टी20 विश्व कप दल में शामिल करने से कई सवाल खड़े हो गए थे। पाकिस्तान के ख़िलाफ़ मैच से पहले कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि उन्हें उम्मीद है कि टूर्नामेंट के दौरान हार्दिक हर मैच में कम से कम दो ओवर गेंदबाज़ी करेंगे।